EyeMantra Logo

आईसीएल सर्जरी – ICL Surgery

आईसीएल सर्जरी या इम्प्लांटेबल कोलामर लेंस (Implantable Collamer Lens) सर्जरी एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें आर्टिफिशियल लेंस का एक पेयर परमानेंट रूप से आंखों में प्रत्यारोपित (implanted) किया जाता है। यह लेंस परमानेंट तौर से डाला जाता है, इसलिए इसे नार्मल कॉन्टैक्ट लेंस की तरह निकालने की आवश्यकता नहीं होती है। ये माइक्रो लेंस लंबी अवधि के लिए रिफ्रेक्टीव एररको ठीक करते हैं। मायोपिया, हाइपरोपिया और एस्टिग्मेटिस्म जैसी कंडिशन का नेचुरल लेंस और आंखों की आईरिस के बीच आईसीएल लगाकर किया जाता है। यह लेंस मौजूदा लेंस को लाइट रेंज़ को रेटिना की ओर मोड़ता है जिससे नार्मल विज़न अच्छा होता है। आईसीएल कॉन्टैक्ट लेंस की तरह है, जो आंखों में  परमानेंट तौर से अंतर्निहित (embedded) होता है।

Play Video

आईसीएल रिफ्रेक्टीव एरर्स को ठीक करने के लिए एक और इफेक्टीव सर्जरी है। अन्य करेक्टिव सर्जरी की तरह हालांकि यह विज़न से जुड़ी अन्य समस्याओं के पूरी तरह सुधार की गारंटी नहीं देती है, परंतु यह चश्मे और कॉन्टैक्ट लेंस के इस्तेमाल को कम कर सकता है।

  • खून नहीं निकलता 
  • दर्द नहीं होता
  • अस्पताल में भर्ती नहीं होना होता

आईसीएल सर्जरी की प्रक्रिया – ICL Surgery Ki Prakriya

आईसीएल सर्जरी की प्रक्रिया सरल है और 20 से 30 मिनट के भीतर ही हो जाती है। हालांकि आपको सर्जरी से एक सप्ताह पहले अपने आई डॉक्टर के पास जाना होगा। वे आपकी आंखों की कंडिशन की जांच करेंगे, फिर आपकी आंख के सामने के हिस्से के बीच छोटे छेद बनाने के लिए एक लेजर का इस्तेमाल किया जाएगा जिसे एंटीरियर चैंबर और नेचुरल लेंस के रूप में जाना जाता है। ये छेद सर्जरी के बाद आंखों में प्रेशर और तरल पदार्थ को बनने में रोकने में मदद करेंगे।

आपको कुछ एंटीबायोटिक्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी आई ड्रॉप्स भी दिए जा सकते हैं, जिनका इस्तेमाल आप सर्जरी से कुछ दिन पहले करेंगे।

प्रोसेस इस तरह शुरू होगा-

  1. आराम करने और अस्थायी रूप से रोगी को हिलने से रोकने में मदद करने के लिए आपको आंख के चारों ओर कुछ लोकल एनेस्थीसिया या शामक (sedative) इंजेक्शन दिया जाएगा।

  2. लिड स्पेकुलम नामक डिवाइस की मदद से आपकी आंखें खुली रखी जाएंगी। इसके बाद डॉक्टर कॉर्निया को प्रोटेक्ट करने के लिए लुब्रिकेंट अप्लाई करेंगे। 

  3. इसके बाद वे एक चीरा लगाएंगे और इसके जरिए से आईसीएल डालेंगे। अब डॉक्टर लुब्रिकेंट को हटा देगे और छोटे टांकों की मदद से इस ओपनिंग को बंद करेंगे।

  4. बाद में वे आंख में आई ड्रॉप या मलहम डालेंगे और आंख को कुछ समय के लिए बचाने के लिए आई पैच से ढक देंगे। 

  5. सर्जरी हो जाने के बाद आप कुछ घंटों के लिए रिकवरी रूम में आराम करेंगे और बारीकी से निगरानी रखेंगे। आप कुछ घंटों के बाद घर जा सकते हैं। अगले दिन आपके पास एक फॉलो-अप अपॉइटमेंट होगी।

आईसीएल के प्रकार – ICL Ke Prakaar

आईसीएल टोरिक लेंस (ICL Toric lenses)

टोरिक आईसीएल का इस्तेमाल गोले के -3.0 डी से -23.0 डी और सिलेंडर के 1.0 से 6.0 डायोप्टर को भी ठीक करने के लिए किया जाता है। टोरिक आईसीएल की एक सर्जरी भी मायोपिया और दृष्टिवैषम्य (astigmatism) को ठीक करने में सक्षम है। इसलिए दोनों ही कंडिशन में रोगियों को इसकी सिफारिश की जाती है। टोरिक आईसीएल उन रोगियों के लिए भी सेफ और इफेक्टीव पाई गई है, जिनकी केराटोकोनस, कॉर्नियल ट्रांसप्लांट जैसी सर्जरी हुई है और जो पतले कॉर्निया वाले मरीज हैं। टोरिक आईसीएल उन मरीजों को भी चश्मे से पूरी तरह आजादी दिला सकता है, जिनकी लेजर सर्जरी ने रिफ्रैक्टिव एरर को पूरी तरह से ठीक नहीं किया था।

स्फेरिकल आईसीएल (Spherical ICL)

स्फेरिकल आईसीएल का इस्तेमाल 40 वर्ष से कम आयु के लोगों के लिए किया जाता है, जिनकी आंखों की पावर बहुत ज्यादा होती है। जब बहुत अधिक रिफ्रैक्टिव एरर्स या पतले कॉर्निया के कारण अन्य लेसिक प्रक्रियाएं काम नहीं  होती हैं, तो स्फेरिकल आईसीएल विज़न को सही कर सकता हैं। इनका इस्तेमाल -3 डायोप्टर से -20 डायोप्टर तक मध्यम से हाई मायोपिया के सुधार के लिए किया जा सकता है।

हालाँकि जैसा कि नाम से पता चलता है, स्फेरिकल आईसीएल का इस्तेमाल केवल सर्कुलर पावर के लिए किया जा सकता है। इसका मतलब है कि दृष्टिवैषम्य (Astigmatism) के लिए बेलनाकार (Cylindrical) सुधार की ज़रूरत वाले व्यक्ति इस सर्जरी को नहीं करवा सकते है।

आईसीएल टोरिक ब्लेड-लेस, स्टिच-लेसआईसीएल स्फेरिकल स्टिच-लेस
बेस्ट विजुअल रिजल्ट्सयूएस-एफडीए अप्रूवड
बेस्ट विजुअल रिजल्ट्सयूएस-एफडीए अप्रूवड

आईसीएल सर्जरी करवाने की ज़रूरत – ICL Surgery Karvane Ki Zarurat

कॉन्ट्रा विज़न (Contoura Vision), लेसिक (LASIK) और इसके साथ स्माइल (SMILE) भी आईसीएल (ICL) के संकेत हैं, क्योंकि यह हाई क्वालिटी वाली विज़न देते है। यह कॉर्निया के साथ छेड़छाड़ नहीं करता है। जैसा कि कोंट्यूरा विज़न/लेसिक/स्माइल प्रक्रियाओं के मामलों में होता है।

पिछले 16 वर्षों में दुनिया भर में 6,00,000 से अधिक आईसीएल लगाए गए हैं। आईसीएल सर्जरी 8 या अधिक के स्पेक्स पावर में सबसे सेफ ऑप्शन है। मीडियम स्ट्रेंथ में जब ड्राई आंखे होती हैं, तो कॉर्निया पतली होती है और लेसिक की सलाह नहीं दी जाती है।

अगर आप इनमें से किसी भी परेशानी से ग्रस्त है, तो आपको आईसीएल सर्जरी की ज़रूरत पड़ सकती है, जैसे-

  • आई स्ट्रेन्थ 8 डायोप्टर से अधिक और 18 डायोप्टर तक
  • कॉर्निया 450 माइक्रोन से कमजोर
  • आई सिलेंडर पावर 3.5 डायोप्टर से ज्यादा
  • केराटोकोनस युक्त अनहेल्थी कॉर्निया
  • ड्राई आई कंडिशन
  • कोई भी स्टेट जहां लसिक सही ऑप्शन नहीं हो।

आईसीएल के फायदे – ICL Ke Fayde

सही दृष्टि सुधार (Precise Vision Correction)

आईसीएल को 1997 से यूरोप में और 2005 से यू.एस. में मान्यता प्राप्त है। उस समय से 500,000 से ज्यादा आंखें स्पेशलाइज्ड, प्रमाणित, फंक्शनल सर्जनों द्वारा आईसीएल इंप्लांटेशन से गुजर चुकी हैं। रिसर्च में भी 99% रोगी सेटिसफेक्शन रेट प्रदर्शित करते है। इसके अलावा भी आईसीएल से निम्न लाभ प्राप्त होते हैं:

  • आई स्ट्रेन्थ 8 डायोप्टर से अधिक और 18 डायोप्टर तक
  • कॉर्निया 450 माइक्रोन से कमजोर
  • आई सिलेंडर पावर 3.5 डायोप्टर से ज्यादा
  • केराटोकोनस युक्त अनहेल्थी कॉर्निया

आईओएलएस को बाद में हटाया जा सकता है। (IOLS can be removed later)

लेजर-आधारित सुधार पर लोगों की सबसे स्पष्ट चिंताओं में से एक यह है कि प्रक्रिया हमेशा के लिए कॉर्नियल ऊतक को हटाकर उनकी आंख के आकार को बदल देती है। आईसीएल का लाभ यह है कि यह किसी की दृष्टि को हमेशा के लिए ठीक कर सकता है फिर भी प्रक्रिया के माध्यम से किसी भी तरह से कोई प्राकृतिक ऊतक समाप्त या पुनर्गठित नहीं होता है। अगर किसी अजीब कारण से किसी को भविष्य में अपने आईसीएल को खत्म करने की जरूरत है या करना चाहता है।

‘सूखी आंखों’ की वजह नहीं बनता (Do not cause ‘Dry Eyes’)

अन्य लैसिक सर्जरी की तुलना में आईसीएल में ‘ड्राई आईज’ होने की संभावना कम होती है। इसमें आंख का कोई हिस्सा भी हटाया नहीं जाता है। दरअसल यह सर्जरी ‘ड्राई आईज’ वाले मरीजों पर की जाती है, इसलिए इसके कम से कम साइड-इफेक्ट होते है।

बेहतर नाइट टाइम विज़न (Better Night Time Vision)

आईसीएल लेसिक की तुलना में बेहतर नाइट टाइम विज़न देता है जिसमें हैलो (HALO), प्रकाश की विकृतियों (distortions of light) और तेज रोशनी के प्रति चेतना (consciousness to bright light) की मामूली शिकायतें होती हैं। रिकवरी भी जल्दी होती है क्योंकि इम्प्लांटेशन के दौरान आंख का कोई टिश्यू नहीं हटाया जाता है।

आईसीएल सर्जरी के रिस्क – ICL Surgery Ke Risk

हालांकि आईसीएल सर्जरी काफी सेफ है, लेकिन कुछ कठिनाइयां हैं जिनका आपको सामना करना पड़ सकता है। जैसे कि-

  • ग्लूकोमा: ग्लूकोमा आपकी आंख में बढ़ा हुआ प्रेशर है, इसलिए यदि आईसीएल को सही ढंग से नहीं रखा जाए तो इससे आंख/ग्लूकोमा में प्रेशर बढ़ सकता है |

  • मोतियाबिंद: आईसीएल मोतियाबिंद के डेवलपमेंट के रिस्क को बढ़ाता है। प्रत्यारोपित लेंस (implanted lens) द्रव के सर्कुलेशन को कम कर देता है। यह गंभीर सूजन पैदा कर सकता है, जिससे मोतियाबिंद होने का खतरा बढ़ जाता है।

  • धुंधली दृष्टि: आईसीएल सर्जरी की कुछ रेयर कॉम्प्लीकेशन्स की वजह से धुंधली दृष्टि हो सकती है। उदाहरण के लिए- ग्लूकोमा, मोतियाबिंद या आंखों का इंफेक्शन भी आपकी दृष्टि को इफेक्ट कर सकता है।

  • रेटिनल डिटेचमेंट: आंखों की सर्जरी के दौरान रेटिना डिटेचमेंट हो सकता है, हालांकि यह रेयर है क्योंकि इस आई सर्जरी की सफलता दर काफी ज्यादा है, लेकिन अगर रेटिना अपनी ओरिजिनल पोजिशन से अलग हो जाता है, तो इसपर तुरंत ध्यान देने की ज़रूरत है।

आईसीएल सर्जरी के लिए बचाव – ICL Surgery Ke Liye Bachaav

आईसीएल हर किसी पर नहीं किया जा सकता है। यदि आप करेक्टीव सर्जरी के बारे में सोच रहे हैं, तो यह जानने के लिए किसी आई स्पेशलिस्ट से बात करें कि आपके लिए सबसे अच्छा क्या रहेगा।

सर्जरी आपके लिए उपयुक्त नहीं हो सकती है यदि आप-

  • गर्भवती हैं या स्तनपान कराने वाली मां है।
  • उम्र 21 साल से कम है।
  • 45 वर्ष या उससे अधिक उम्र के हैं।
  • ऐसी बीमारी है जो हार्मोनल उतार-चढ़ाव के कारण बनती है।
  • एक ऐसी स्थिति है जो प्रोपर घाव भरने की परमिशन नहीं देती है।

यदि आप इनमें से किसी भी समस्या का सामना कर रहे है, तो आप आईसीएल सर्जरी के लिए योग्य नहीं हैं।

आईसीएल सर्जरी में उपयोग किये जाने वाला लेंस – ईवीओ / ICL Surgery Mein Upyog Kiye Jaane Wala Lense – EVO

आईसीएल सर्जरी में इस्तेमाल किए जाने वाला लेंस – ईवीओ विसियन इम्प्लांटेबल कोलामर लेंस (Visian Implantable Collamer Lenses) यानी ईवीओ विसियन आईसीएल है।

आई मंत्रा आई सेंटर में स्विट्जरलैंड के स्टार सर्जिकल द्वारा बनाए गए ईवीओ विसियन इम्प्लांटेबल कोलामर लेंस का इस्तेमाल किया जाता है। ईवीओ विसियन आईसीएल (EVO Visian ICLs) को यू.एस. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा मैन्यूफेक्चर किया गया है। हालांकि मैन्यूफेक्चर भी इम्प्लांटेबल कोलामर लेंस बनाते हैं पर ईवीओ विसियन ब्रांड विश्वसनीय है और बहुत अच्छा प्रदर्शन करता है। ये कोलेजन से बनते हैं। यह एक नेचुरल रूप से पाया जाने वाला पदार्थ है जो मानव शरीर के लिए उपयुक्त है।

ईवीओ विसियन आईसीएल आंखों को सूरज की रोशनी के हानिकारक प्रभाव से बचाने के लिए एक यूवी रेज़ फिल्टर भी रखता है। ईवीओ विसियन आईसीएल के लेटेस्ट वर्जन लेंस में एक छेद से बनाने के लिए एक्वेस ह्यूमर आंखों में नेचुरल तरल पदार्थ देता है। इस लिक्विड का प्रवाह लेंस के आसपास के नेचुरल वातावरण में सुधार करता है।

लेंस को आईरिस के ठीक पीछे किसी की आंख के प्राकृतिक लेंस के सामने प्रत्यारोपित (implanted) किया जाता है। माइक्रो-पतले, स्पष्ट लेंस को महसूस नहीं किया जा सकता है और इसे किसी रखरखाव की आवश्यकता नहीं होती है।

दिल्ली में आईसीएल सर्जरी की कीमत - Delhi Mein ICL Surgery Ki Keemat

दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में आईसीएल सर्जरी की कीमत अलग-अलग है। आईसीएल सर्जरी की कीमत उसके अलग-अलग कारक पर निर्भर करती है, जैसे सर्जनों की टीम, अस्पताल की सुविधाएं और इस्तेमाल की जाने वाली मशीनें। आईसीएल ट्रांसप्लांट की लगभग कीमत प्रति आंख 80,000रु. से 1,25,000रु. तक होती है। ईवीओ विसियन इम्प्लांटेबल कोलामर लेंस का चार्ज अधिक लग सकता है, लेकिन जब कोई मानता है कि ईवीओ विसियन आईसीएल इम्प्लांट स्टेबल है, तो लंबी अवधि में लगने वाले पैसे से बचा जा सकता है।

ईवीओ विज़ियन लेंस के लिए कोई तय कीमत नहीं है। इसकी कीमत अक्सर प्रिस्क्रिप्शन और डॉक्टर पर निर्भर करती है। ईवीओ विसियन आईसीएल (EVO Visian ICL) की कीमत लेसिक सर्जरी से अधिक है। आईसीएल प्रक्रिया में कीमतों में शामिल हैं:

  • एक “स्फेरिकल आईसीएल” (spherical ICL) की कीमत 50,000 रुपये है।
  • “टोरिक आईसीएल” की कीमत 60,000 रुपये है।
  • सही फिट और प्रिस्क्रिप्शन का आश्वासन देने के लिए एग्जाम और प्री-सर्जिकल स्क्रीनिंग।
  • हाई-ग्रेड और एक्सक्लूसिव मेटेरियल का एक कस्टम-मेड लेंस।
  • अस्पताल और सर्जन की फीस
  • प्रक्रिया के बाद दृढ़ रहना।

जब कोई एक इम्प्लांट की कीमत को चश्मे के एक पेयर से मिलाता है, तो वह चश्मे के लिए 10 वर्षों की अवधि में समान या अधिक खर्च कर सकता है। यदि किसी के पास एक पावरफुल प्रिस्क्रिप्शन है, तो वे पतले लेंस का ऑप्शन चुन सकते हैं। मोटे लेंस की कीमत और भी अधिक होती है।

जब कोई यूवी, एंटी-ग्लेयर और एंटी-स्क्रैच कोटिंग्स जोड़ता है, तो चश्मे की कीमत ड्रामेटकली रूप से बढ़ जाती है। फ्रेम भी कीमत में जोड़े जाते हैं। चश्मे के पेयर निश्चित रूप से ज़्यादा पैसे खर्च करवा सकते हैं। कोई भी व्यक्ति केवल 10 वर्षों की अवधि में सर्जरी जितना खर्च कर सकता है।

आईसीएल इम्प्लांट के बाद 95% मरीज़ों को चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस की ज़रूरत नहीं पड़ती है। अगर आईसीएल इम्प्लांट के बाद उन 5% लोगों में से एक को एक्सटर्नल विज़न मदद की ज़रूरत पड़ती है, तो अच्छी विजुअल एक्यूटी हासिल करने के तरीके हैं। यदि किसी की आयु 45 वर्ष से अधिक है, तो उसे पढ़ने के लिए चश्मे की आवश्यकता होती है।

आई मंत्रा में  हम “समाज के वंचित वर्गों” के लिए चेरिटेबल सेवाएं भी प्रदान करते हैं, क्योंकि हम दुनिया के रहने के लिए एक खुशहाल जगह बनाने में विश्वास करते हैं।

तो एक व्यक्ति जिसे आंखों के इलाज की ज़रूरत है, लेकिन वह इलाज का खर्च उठाने में असमर्थ है, तो वह हमारे अस्पताल आ सकता है। उसका पूरा इलाज “मुफ्त या बहुत मामूली कीमत पर” किया जाएगा।

आईसीएल सर्जरी डॉक्टर्स - ICL Surgery Doctors

आईसीएल सर्जरी सुविधाएं - ICL Surgery Facilities

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

विसियन आईसीएल प्रक्रिया एक आउट पेशेंट प्रक्रिया है, जिसमें आमतौर पर 15 से 20 मिनट का समय लगता है। प्रक्रिया से पहले दर्द को कम करने के लिए मरीज़ को टोपिकल एनेस्थीसिया की ड्राप दी जाती है, फिर डॉक्टर एक इंजेक्टर के साथ लेंस को आंख में इंजेक्ट करने के लिए एक माइक्रो-ओपनिंग बनाता है।

ज़्यादातर डॉक्टर इसे स्वीकार करते हैं, क्योंकि आईसीएल लेसिक की तुलना में एक हाई इनवेसिव प्रक्रिया है। इसे उन मरीज़ों के लिए कंडक्ट किया जाता है जो लेसिक उम्मीदवार नहीं हैं। आईसीएल सर्जरी में कॉन्टैक्ट लेंस की तुलना में छोटे कोलामर लेंस को आंख के अंदर नेचुरल क्रिस्टलीय लेंस के सामने आंख में इंजेक्ट किया जाता है।

आईसीएल सर्जरी के रिजल्ट परमानेंट होने का अनुमान है। सर्जरी के दौरान नेचुरल लेंस को हटा दिया जाएगा और लेटेस्ट इंट्राओकुलर लेंस को इंजेक्ट किया जाएगा। यदि कोई मोतियाबिंद नहीं है और कोई एक्सट्रा कठिन साइड- इफेक्ट नहीं है, तो आईसीएल प्रक्रिया के कम या ज्यादा परमानेंट रिजल्ट देखने को मिल सकते है।

हां, आईसीएल सर्जरी ये लाभ प्रदान करती है, जैसे-

  • पावर के लगभग हर लेवल को संभाल सकती है।
  • विज़न को ग्रेट क्वालिटी देती है।
  • 5 से 15 मिनट में आसानी से हटा सकते हैं या बदल सकते है।
  • जल्दी रिकवरी होती है।
  • कॉस्मेटिक रूप से हाई ग्रेड के रूप में यह इनविज़िबल है।

आईसीएल अन्य रिफ्रेक्टीव प्रक्रियाओं से अलग है क्योकि:

  • कॉर्निया से ऊतक को कट या इलीमिनेट नहीं करता है।
  • कॉर्निया इसे एक नेचुरल शेप में बनाए रखता है
  • समय के साथ टिकाऊ सर्जरी है, कोई रिग्रेशन नहीं है।
  • मायोपिया, हाइपरोपिया, एस्टिग्मेटिस्म और पतले कॉर्निया की अधिक डिग्री के लिए सुरक्षित है।

नहीं, अधिकतम मरीज़ों का कहना है कि वे इसे कराने के दौरान बहुत सहज रहे है। आंखों के डॉक्टर प्रक्रिया से पहले एक टॉपिकल एनेस्थीसिया ड्रॉप अप्लाई करेंगे। इसके अलावा वे एक माइल्ड सेडेटिव से भी कंट्रोल कर सकते हैं।

ऐसा कुछ नहीं है, आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा, जैसे कि आपके आई डॉक्टर द्वारा कई बार सुझाए गए आई ड्रॉप का इस्तेमाल करना। आप आई सर्जरी से 4 दिन पहले आई ड्रॉप का इस्तेमाल शुरू कर दें। ये आई ड्रॉप आपकी दृष्टि को नुकसान नहीं पहुंचाएंगी। इनका इस्तेमाल सूजन, इंफेक्शन और दर्द को रोकने और कंट्रोल करने के लिए किया जाता है। आपको सर्जरी के बाद 2 हफ्ते तक भी इन ड्रॉप्स का इस्तेमाल करना पड़ेगा। इसके अलावा आपको सर्जरी से पहले एक डिटेल्ड प्री और पोस्ट-ऑपरेटिव इंस्ट्रक्शन शीट भी प्रदान की जाएगी, जिसमें सटीक दिशा-निर्देश दिए गए होंगे कि आपको आई ड्रॉप कैसे लेनी है।

सर्जरी के एक दिन के भीतर ज्यादातर नॉर्मल एक्टीविटीज़ जारी रखी जा सकती हैं। सामान्य तौर पर आपको नॉर्मल लाइफ की शुरुआत करनी चाहिए, लेकिन बहुत कठिन कामों और खेलों से बचना चाहिए। अपनी आंख को रगड़ें नहीं और अपनी सर्जरी के बाद 1 सप्ताह तक तैरने से बचें। आपकी ड्राइव करने की क्षमता इस बात पर निर्भर करेगी कि सर्जरी के बाद आपकी आंखों के बीच का कंट्रास्ट और आपकी दृष्टि कितनी तेजी से सही होती है।

यह आपके लिए इस्तेमाल किए जाने वाले इंट्राओकुलर लेंस (आईओएल) के टाइप पर निर्भर करेगा। मल्टीफोकल या एकोमॉडेटिंग आईओएल जैसे हाई-एंड इंट्राओकुलर लेंस चश्मे पर निर्भरता को बहुत कम कर देते हैं। ज्यादातर मामलों में पढ़ने के चश्मे से भी बचा जा सकता है।

मोतियाबिंद सर्जरी के दौरान आपका सर्जन आपको पूरी प्रक्रिया में दर्द से बचाने के लिए के लिए एक लोकल एनेस्थीसिया सुन्न करने वाली आई ड्रॉप देगा। आराम करने में आपकी मदद करने के लिए आपको एक माइल्ड सेडेटिव भी दिया जाएगा। मरीज़ और प्रक्रिया के प्रकार के बेस पर अतिरिक्त दवा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

जैसे ही दवाएं बंद हो जाती हैं, आप पहले दिन अपनी आंखों में एक खरोंच या हल्का दर्द महसूस कर सकते हैं। बेचैनी को कम करने के लिए ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दिया जा सकता है। अगर ज़रूरी हो, तो आपका डॉक्टर स्ट्रॉग दर्द की निवारक दवा प्रिस्क्राइब करेगा।

नहीं, मोतियाबिंद फिर से डेवलप नहीं हो सकता, क्योंकि आईओएल इंप्लांट को कभी भी रखरखाव और रिप्लेसमेंट की ज़रूरत नहीं होती है। यह बहुत कम रोगियों में होता है कि लेंस कैप्सूल मेंबरेन पर इंप्लांट के पीछे एक क्लाउडी फिल्म बनती है, आमतौर पर सर्जरी के कुछ महीने बाद इस कंडिशन को सेकेंडरी मोतियाबिंद कहते हैं।

20 से 30% मामलों में सर्जरी के कुछ महीनों बाद लेंस कैप्सूल का पिछला भाग जो सुरक्षा कारणों से सर्जरी के दौरान आंख के अंदर रह जाता है, क्लाउड बन जाता है, जिससे दृष्टि फिर से धुंधली हो जाती है। यह सेकेंडरी मोतियाबिंद है। इसे पोस्टीरियर कैप्सुलर ओपसीफिकेशन भी कहा जाता है, जिसे सामान्य रूप से एक कम आक्रामक अनुवर्ती प्रक्रिया के साथ इलाज किया जा सकता है, जिसे येग लेज़र कैप्सुलोटॉमी (YAG Laser Capsulotomy) कहा जाता है।

हमसे संपर्क करें

पश्चिम विहार

ए1/10, ए1 ब्लॉक, ब्लॉक ए, पश्चिम विहार, वेस्ट दिल्ली-110063

रोहिणी

बी62 – प्रशांत विहार, रोहिणी सेक्टर-14, सीआरपीएफ स्कूल के सामने, नॉर्थ दिल्ली

मो. नंबर: +91-9711115191
ईमेल: eyemantra1@gmail.com

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors