EyeMantra Logo

कम दृष्टि (लो विजन) क्या है? Kam Drishti (Low Vision) Kya Hai?

कम दृष्टि या लो विजन एक ऐसी समस्या है जिसके कारण आपके लिए देखना मुश्किल हो जाता है। इसे चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या किसी और सर्जिकल विधि की मदद से ठीक नहीं किया जा सकता है। आप इसकी गंभीरता के बेस पर इसे एक सब-स्पेशलिटी और एक कंडिशन दोनों के रूप में गिन सकते हैं। लो विजन के लिए सबसे सही ट्रीटमेंट हासिल करने के लिए आपको हाइली क्वालीफाई ऑप्टोमेट्रिस्ट, ऑप्टिशियंस और नेत्र रोग विशेषज्ञों को दिखाने की जरूरत पड़ेगी। लो विजन के कई क्लासिफिकेशन हैं, जो एक एरिया से दूसरे एरिया और अलग देश में अलग हो सकती हैं। यह विकार आमतौर पर बच्चों में डेवलप होता है। लैपटॉप, मोबाइल फोन आदि जैसे स्क्रीन वाले डिवाइस का इस्तेमाल करते समय ओवरटाइम के कारण, हालांकि सभी आयु वर्ग के लोगों में लो विजन के मुद्दे को दूर करने के लिए विभिन्न लो विजन सहायता उपलब्ध हैं, जोकि लोगों को उनके सामाजिक वातावरण में कंडिशन्ड करने में मदद करती हैं।

Play Video

कम दृष्टि के कारण – Low Vision Ke kaaran

लो विजन के कारण और कॉमन पैटर्न जिन्हें बदला नहीं जा सकता है उनमें शामिल हैं:

  • धुंधली या आंशिक रूप से अस्पष्ट सेट्रल विजन: मैक्यूलर डिजनरेशन (दोनों, उम्र से संबंधित और वंशानुगत)
  • ब्लाइंड स्पोट , धुंधलापन और विजुअल डिस्टर्बेंस : डायबिटीड संबंधी रेटिनोपैथी
  • खराब पेरिफेरल विजन, या टनल  विजन: ग्लूकोमा
  • खराब पेरिफेरल विजन और अंधेरे में देखने में मुश्किल होना: रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा
  • आँख की चोटें
  • खराब सेंट्रल विजन, जो बिना किसी लाइट परसेप के आगे बढ़ सकती है: ऑप्टिक न्यूरोपैथी जो वंशानुक्रम हो या अधिग्रहित (टॉक्सिक ) हो सकती है।

लो विजन एड्स – Low Vision Aids

लो विजन एड्स कम दृष्टि वाले लोगों के लिए स्पेशली बनाए गए लेंस सिस्टम हैं, क्योंकि लो विजन की कंडिशन का इलाज चश्मे के करेक्टीव लेंस के साथ नहीं किया जा सकता है, इसलिए यह स्पेशल एड्स लो विजन वाले लोगों की सहायता करती है, कि उनके पास जो भी थोड़ी सी दृष्टि बाकि है वह, उसका ज्यादा से ज्यादा से फायदा उठा सके।

आवर्धक चश्मा (Magnifying Spectacles)

मैग्निफाइंग स्पेकटेक्ल, चश्मे की तरह ही पहना जाता है और पढ़ने, सुई में धागा पिरोने, सिलाई आदि जैसे कामों के लिए आपको बेहतर देखने में मदद करता है। ये हैंड्स-फ्री मैग्निफायर हैं, जिससे आप अपने हाथों से काम कर सकते हैं।

स्टैंड मैग्निफायर (Stand Magnifier)

ये मैग्निफायर आंख से दूर लोकेटेड होते हैं। इसकी मदद से किसी वस्तु को पढ़ने की कोशिश की जाती है। हैंडहेल्ड वर्जन को भी इनकी मदद से आसानी से पढ़ा जा सकता हैं, और इनमें सामान्य रूप से बिल्ट-इन लाइट्स होती है। यदि किसी को कंपकंपी या गठियां है, तो स्टैंड मैग्निफायर उनके लिए बहुत सूटेबल माना जाता हैं।

दूरबीन (Telescopes)

टेलीस्कोप को चश्मे से जोड़ा जा सकता है यह दूरबीन की तरह होता है, और वस्तुओं या सिग्नल्स को दूर से देखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

वीडियो मैग्निफायर (Video Magnifiers)

ये इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस प्रिंटेड पेज बनाते हैं और इसमें इमेज बड़ी दिखाई देती हैं। स्मार्टफोन और टैबलेट कम से कम कीमत में मौजूद और इस्तेमाल में आसान वीडियो मैग्निफायर हैं। यह टेक्स्ट की वैरायटी और फ़ॉन्ट के आकार को बढ़ाने की परमिशन देते हैं।

लो विजन सुधार टेकनीक - Low Vision Sudhaar Techniques

 लो विजन के लिए कई तरीके और टेकनिक्स हैं। उनमें से कुछ हैं :

घर में रोशनी बढ़ाएं। लाइट बल्बों को अधिक वोल्टेज वाले बल्बों से बदलें। चेक करें कि गल्तियों को कम करने और विजिबिलिटी बढ़ाने के लिए सभी नुक्स और क्रेनिस की एडिक्वेटली व्याख्या की गई हो।

ग्लेयरिंग करने की आदत को कम करें। धूप का चश्मा पहनकर अपनी आंखों को तेज चमक से बचाने की कोशिश करें। चौड़े किनारे वाली वाली टोपी या अपने चेहरे को कवर करने के लिए दुपट्टे / स्टोल का इस्तेमाल करें। यह आपकी आंखों को प्रोटेक्ट करने का काम करेंगे।

लेखन और खरीदारी सूचियों के लिए भारी और बोल्ड फेल्ट-टिप मार्करों का उपयोग करें: जरूरी टिप्स और कैलेंडर को मार्क करने के लिए एक व्हाइटबोर्ड का इस्तेमाल करें।

घड़ियाँ, रिमोट और थर्मोस्टैट्स जैसे लो विजन वाले डिवाइस बहुत सुलभ और किफायती होते हैं।

मूल्यांकन - Evaluation

क्लिनिक में एक विशेषज्ञ से बात करें, लो विजन स्पेशलिटी ग्रूप में निम्नलिखित शामिल होंगे:

लो विजन  मूल्यांकन (Low Vision Evaluation)

एक मेडिकल स्पेशलिस्ट यह जानने के लिए रोगी की जांच करेगा कि लो विजन उन्हें और उनके परिवार को कैसे नुकसान पहुंचा रही है। आप अपने मामले का कुशलतापूर्वक मूल्यांकन करने के लिए ऑप्टोमेट्रिस्ट, ऑप्टिशियंस और नेत्र रोग विशेषज्ञों की मदद से सकते है।

कंप्लीट विजन एग्जाम (Complete Vision Exam)

हो सकता है कि आपने पहले ही किसी आई डॉक्टर से आंखों की जांच करा ली हो, लेकिन लो विजन स्पेशलिटी ग्रूप के क्लिनिक के साथ दौरा करते समय, एक डॉक्टर एक लंबी सॉफ्ट विजन टेस्ट की फैसिलिटी देगा। यह टेस्ट यह निर्धारित करने का काम करता है कि कौन से लेंस या लो विजन वाले डिवाइस सबसे तेज पॉसिबल इमेज प्राप्त करने में मदद करेंगे।

फॉलो-अप और रेफरल (Follow-up and Referral)

लो विजन एड्स के इस्तेमाल में टेस्ट के लिए एक व्यावसायिक थेरेपिस्ट के पास भेजा जा सकता है, या मेडिकल सोशल वर्कर आपको आपके एरिया में एजेंसियों या संगठनों के पास भेज सकता है जो दृष्टिबाधित (visual impairments)  लोगों की सहायता करते हैं।

हमारी टीम - Our Team

हमारी सुविधाएं - Our Facilities

पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

लो विजन एक ऐसी समस्या है जिसमें आपके लिए देखना मुश्किल हो जाता है। इसे चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या किसी अन्य सर्जिकल विधि की मदद से ठीक नहीं किया जा सकता है।

लो विजन के 4 प्रकार हैं, अर्थात्:

  • सेंट्रल लो विजन
  • पेरिफेरल लो विजन
  • रतौंधी
  • धुंधला विजन

लो विजन के कारण एएमडी (उम्र से संबंधित मैक्यूलर डिजनरेशन), मोतियाबिंद, डायबिटीज संबंधी रेटिनोपैथी, ग्लूकोमा और आंखों की चोट हो सकते हैं। दिमाग के कुछ विकार या आनुवंशिक विसंगतियाँ भी लो विजन का कारण बन सकती हैं।

मैग्निफाइंग चश्मा, हैंड मैग्निफायर, क्लोज्ड सर्किट टेलीविजन, रीडिंग प्रिज्म और लेंस जो प्रकाश को फिल्टर करते हैं।

लो विजन एक ऐसी सर्विस है जिसमें कम दृष्टि से पीड़ित लोगों की सहायता के लिए ऑप्टोमेट्रिस्ट और परामर्श सेवाएं शामिल होती हैं। ग्लूकोमा डरावना हो सकता है, इसलिए इससे निपटना मुश्किल हो सकता है। इसके लिए आपको हर संभव मदद लेनी चाहिए।

हां, किसी को कानूनी रूप से अंधा कहा जाता है यदि उसके पास सभी करेक्टीव उपायों के बाद 20/200 की विजुअल एक्यूटी है, जबकि लो विजन वाले लोग विजुअल टास्क कर सकते हैं, लेकिन नॉर्मल विजन वाले किसी व्यक्ति की तरह कुशलता से नहीं।

नहीं, दुनिया भर में लगभग 135 मिलियन लोगों की लो विजन है, आप अकेले नहीं हैं।

लो विजन वाले लोगों का डिप्थ परशेप्सन खराब होता है और वे स्टीरियोस्कोपिक विजन के पूर्ण नुकसान से भी पीड़ित हो सकते हैं, यही वजह है कि वे चोटों और दुर्घटनाओं के प्रति ज्यादा सेंसीटिव हो जाते हैं।

  1. अपने शरीर की जरुरत के मुताबिक पर्याप्त विटामिन और खनिज लें।
  2. स्वस्थ आहार के साथ कैरोटेनॉयड्स को भी अपनी डाइट में शामिल करें।
  3. फिट रहें और नियमित रूप से आंखों के व्यायाम की  प्रैक्टिस करें।
  4. सूटेबल और प्रोटेक्टीव आईवियर पहनें।
  5. अपने आप को यूवी रेज़ से बचाने के लिए बाहर जाते समय धूप के चश्मे का इस्तेमाल  करें।
  6. लैपटॉप, मोबाइल फोन आदि स्क्रीन वाले डिवाइस पर काम करते समय 20-20-20 नियम का पालन करें।
  7. सबसे पहले स्मोकिंग छोड़ दें।

हमसे संपर्क करें

पश्चिम विहार

ए1/10, ए1 ब्लॉक, ब्लॉक ए, पश्चिम विहार, वेस्ट दिल्ली-110063

रोहिणी

बी62 – प्रशांत विहार, रोहिणी सेक्टर-14, सीआरपीएफ स्कूल के सामने, नॉर्थ दिल्ली

मो. नंबर: +91-9711115191
ईमेल: eyemantra1@gmail.com

Make An Appointment

  • This field is for validation purposes and should be left unchanged.