फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी: कारण, सिस्टम और उपचार – Fuchs Corneal Dystrophy: Karan, System Aur Upchar

Fuchs’ Corneal Dystrophy Causes, Systems, and Treatment

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी क्या है? Fuchs Corneal Dystrophy Kya Hai? 

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी (Fuchs Corneal Dystrophy) कॉर्निया (आंख की सामने की सतह) का एक विकार है। इसे एक नेत्र रोग के रूप में समझाया जा सकता है जो कॉर्निया में कोशिकाओं की अंदर की परत को नुकसान पहुंचाता है। इस परत को एंडोथेलियम के रूप में जाना जाता है। एंडोथेलियम मुख्य रूप से कॉर्निया में तरल पदार्थ की उचित मात्रा को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होता है। एंडोथेलियम परत अच्छी दृष्टि के लिए कॉर्निया को साफ रखने में योगदान करती है। चूंकि यह अत्यधिक तरल पदार्थ (फ्ल्यूड) को बाहर निकालता है जिससे कॉर्नियल सूजन हो सकती है।

आमतौर पर यह रोग दोनों आंखों को प्रभावित करता है और कॉर्नियल सूजन (एडिमा) और क्लाउडिंग के कारण दृष्टि में धीरे-धीरे गिरावट आती है। जैसे-जैसे विकार बढ़ता है, कॉर्निया की सूजन के कारण कॉर्निया के सामने वाले हिस्से पर छाले पड़ जाते हैं, जिसे एपिथेलियल बुलै कहा जाता है। और इस स्थिति को बुलस केराटोपैथी कहा जाता है। फुच्स कॉर्नियल बीमारी के बचाव का अभी तक पता नहीं लगाया जा सका है।

Fuchs’ corneal dystrophy

वृद्ध लोगों में इस विकार का खतरा अधिक होता है। इस बीमारी के कारण, कॉर्नियल परत में एंडोथेलियम के रूप में जानी जाने वाली कोशिकाएं धीरे-धीरे मर जाती हैं। ये कोशिकाएं कॉर्निया को साफ रखने के लिए तरल पदार्थ को पंप करने का काम करती हैं। जब कोशिकाएं मर जाती हैं, तरल पदार्थ बनना शुरू हो जाता है और कॉर्निया सूज जाता है। दृष्टि धुंधली और हल्की हो जाती है। 

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी के लक्षण – Fuchs Corneal Dystrophy Ke Lakshan

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी के निम्नलिखित लक्षण हैं, जैसे-

  1. आंखें रेतीली और किरकिरा महसूस कर सकती हैं।
  2. लोग तेज रोशनी से ज़्यादा सेंस्टिविटी महसूस कर सकते हैं। 
  3. हाई ह्यूमिडिटी वाले भाग में आंखों की समस्याएं खराब हो सकती हैं।
  4. कॉर्निया के सेंटर में घाव होने के कारण दृष्टि धुंधली और कमजोर हो सकती है।
  5. आंखों के आसपास कलर हेलोज़ दिखाई दे सकते हैं।
  6. रात के दौरान दृष्टि खराब हो सकती है।
  7. आंख में कुछ चला जाना जैसे कुछ महसूस करना कि आपकी आंखों में कुछ है। 

फुच्स कॉर्नियल बीमारी की स्टेज – Fuchs Corneal Bimari Ki Stages 

  • पहली स्टेज के दौरान सुबह के समय दृष्टि धुंधली हो जाती है
  • दूसरी स्टेज में दिन भर दृष्टि धुंधली रहती है।

यह बीमारी 30 से 40 की उम्र के लोगों में बढ़ने लगती है लेकिन लोगों को इसके बारे में बहुत देर से पता चलता है। शुरुआती स्टेज में इस बीमारी के कोई लक्षण नहीं होते हैं। फुच्स कॉर्नियल रोग 50 की उम्र के आसपास अपने लक्षण दिखाना शुरू कर देता है। फुच्स कॉर्नियल रोग का पारिवारिक इतिहास इस रोग के विकास के खतरे को बढ़ाता है।

Stages of Fuchs’ corneal disease

स्टेज I

 इस बीमारी की शुरूआती स्टेज में कुछ लक्षण दिखाई दे सकते हैं। सुबह उठने पर आपकी दृष्टि धुंधली और हल्की हो सकती है। लेकिन इसमें धीरे-धीरे पूरे दिन में सुधार होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नींद के दौरान आपकी आंख स्वाभाविक रूप से नम रहती है। लेकिन जब आप जागते हैं तो यह फ्ल्यूड सूख जाता है।

स्टेज II

यह बाद की स्टेज है जब आपकी दृष्टि धुंधली और हल्की होने लगती है और दिन चढ़ने के साथ इसमें सुधार नहीं होता है। आपकी नींद के दौरान फ्ल्यूड सामान्य मात्रा से थोड़ा अधिक बनता है और जब आप जागते हैं तो यह सूखता नहीं है। आपके कॉर्निया के आसपास छोटे-छोटे फफोले बनते देखे जा सकते हैं। ये छाले समय के साथ बड़े हो जाते हैं और अंततः टूट जाते हैं जिससे आंखों में दर्द होता है।

फुच्स मोतियाबिंद के साथ कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी – Fuchs Motiyabind Ke Saath Corneal Dystrophy 

मोतियाबिंद उम्र बढ़ने का एक सामान्य हिस्सा है। मोतियाबिंद से आंखों के लेंस में धीरे-धीरे धुंधलापन छा जाता है, जिसे मोतियाबिंद सर्जरी द्वारा ठीक किया जा सकता है। 

फुच्स डिस्ट्रॉफी के टॉप पर मोतियाबिंद विकसित होने की संभावनाएं हैं। इस मामले में आपको एक साथ दो सर्जरी की आवश्यकता होगी, मोतियाबिंद हटाने और कॉर्नियल ट्रांसप्लांट। ऐसा इसलिए है क्योंकि मोतियाबिंद सर्जरी पहले से ही सेंस्टिव एंडोथेलियल सेल्स को नुकसान पहुंचा सकती है जो फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का एक लक्षण है।

40 से 50 आयु वर्ग के लोगों में इस बीमारी से प्रभावित होने की संभावना अधिक होती है। साथ ही पुरुषों की तुलना में महिलाओं को इस बीमारी का खतरा ज़्यादा होता है। आंखों की जांच से युवा वयस्कों में इस बीमारी के शुरुआती लक्षणों का पता लगाया जा सकता है। फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का पारिवारिक इतिहास लोगों में इस बीमारी के विकसित होने के खतरे को बढ़ाता है।

फुच्स कॉर्नियल बीमारी के लिए सावधानियां – Fuchs Corneal Bimari Ke Liye Savdhaniyan 

अगर फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का निदान किया जाता है, तो सुनिश्चित करें कि आप अपने आंखों के डॉक्टर से इस बारे में चर्चा करें। यदि आप लेसिक सर्जरी या अन्य रिफरैक्टिव सर्जरी पर विचार कर रहे हैं या यदि आपको मोतियाबिंद है और मोतियाबिंद सर्जरी की आवश्यकता है। ये सर्जरी स्थिति को और खराब कर सकती है और कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी को अक्सर रिफरैक्टिव सर्जरी के लिए एक विरोधाभास माना जाता है।

यह एक प्रगतिशील बीमारी है। यदि इसका शुरुआती स्टेज में पता चल जाए, तो दृष्टि संबंधी समस्याओं को रोका जा सकता है। यह बीमारी अपनी शुरुआती स्टेज में शायद ही कोई लक्षण दिखाती है, इसलिए आपको मासिक आधार पर एक व्यापक परीक्षा के लिए अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ या अपने ऑप्टोमेट्रिस्ट के पास जाने की आवश्यकता है। यदि आप इनमें से कोई भी लक्षण देख रहे हैं, तो समस्या के बढ़ने से पहले अपने डॉक्टर से मिलें।

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का निदान – Fuchs Corneal Dystrophy Ka Nidan

Diagnosis of Fuchs’ corneal dystrophy

आंखों का निदान (Diagnosis of the Eye)

आंखों के निदान के लिए ‘स्लिट लैम्प’ नामक लैम्प का प्रयोग किया जाता है। यह उपकरण कॉर्निया की विस्तृत जांच करता है। इस परीक्षा के दौरान वह एंडोथेलियम में कोशिकाओं में किसी भी अपक्षयी परिवर्तन को देखने के लिए हाई मेग्निफिशियन के तहत कॉर्निया का निरीक्षण करेगा जो इस बीमारी का एक लक्षण है।

कॉर्नियल गुट्टाटा (Corneal Guttata)

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी के शुरुआती नैदानिक ​​​​लक्षण एंडोथेलियल सेल्स की संख्या में कमी और कॉर्नियल एंडोथेलियम में छोटे ड्रॉप-जैसे घाव हैं जिन्हें कॉर्नियल गुट्टाटा के रूप में जाना जाता है।

कॉर्नियल मोटाई (Corneal Thickness)

आपका आंखों का डॉक्टर आपकी कॉर्नियल मोटाई (पैचिमेट्री) को मापने के लिए एक और परीक्षण कर सकता है, जो कॉर्निया की बढ़ी हुई मोटाई का पता लगाने में मदद करेगा और जो बीमारी के कारण कॉर्नियल सूजन का संकेत देता है।

विज़ुअल एक्यूटी टेस्ट (Visual Acuity Test)

व्यापक परीक्षा के दौरान किया गया विज़ुअल एक्यूटी टेस्ट कॉर्नियल सूजन के कारण कम हुई दृष्टि का पता लगा सकता है।

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का उपचार – Fuchs Corneal Dystrophy Ka Upchar

घरेलू उपचार 

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का स्वाभाविक रूप से इलाज करने के कुछ तरीके हैं। इसके लक्षणों को कम करने के लिए आप कुछ कदम उठा सकते हैं। आप अपनी आंखों को दिन में कुछ बार कम ड्रायर से ब्लो-ड्राई कर सकते हैं। यह आपके कॉर्निया को सूखा रखने में मदद करेगा। ओवर-द-काउंटर सोडियम क्लोराइड ड्रॉप्स भी इस स्थिति में मदद कर सकती हैं।  

मेडिकल उपचार

फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी का उपचार इसके विकार के चरण पर निर्भर करता है। शुरुआती स्टेज में सोडियम क्लोराइड (हाइपरटोनिक) आई ड्रॉप के साथ कॉर्निया से अत्यधिक पानी निकालकर दृष्टि में सुधार किया जा सकता है।

सूरज की रोशनी के प्रति आपकी सेंस्टिविटी को कम करने के लिए फोटोक्रोमिक लेंस वाला चश्मा मददगार साबित हो सकता है। एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग चश्मे के लेंस में रिफ्लैक्शन को खत्म कर सकती है जो फुच्स कॉर्नियल डिस्ट्रॉफी से पीड़ित लोगों को परेशान कर सकती है।

एंडोथेलियल डिस्ट्रोफी और ओकुलर हाइपरटेंशन से पीड़ित लोगों को इंट्राओकुलर प्रेशर (IOP) को कम करने के लिए उनके आंखों के डॉक्टर द्वारा “ग्लूकोमा आई ड्रॉप्स” की सलाह दी जाती है। यदि आपकी आंख पर प्रेशर ज़्यादा है, तो यह कॉर्नियल एंडोथेलियम को नुकसान पहुंचा सकता है और फुच्स डिस्ट्रॉफी को खराब कर सकता है।

जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, एपिथेलियम बुलै फट जाएगा, जिससे कॉर्नियल में दर्द होगा और दृष्टि खराब हो जाएगी। यदि फुच्स डिस्ट्रॉफी के कारण दृष्टि काफी कम हो जाती है, तो आमतौर पर कॉर्नियल ट्रांसप्लांट की आवश्यकता होती है।

कॉर्नियल ट्रांसप्लांट का एक विकल्प डीप लैमेलर एंडोथेलियल केराटोप्लास्टी (DLEK) है। यह एंडोथेलियम को बदलने के लिए एक सर्जिकल मेथड है। फुच्स डिस्ट्रोफी के इलाज के लिए यह प्रक्रिया सफल साबित हुई है और इसमें केराटोप्लास्टी की तुलना में कम खतरा है।

निष्कर्ष – Nishkarsh 

हाल ही में डीएलईके (DLEK) के एक उन्नत रूप जिसे “फेमटोसेकंड लेजर-असिस्टेड डेसिमेट स्ट्रिपिंग एंडोथेलियल केराटोप्लास्टी (FS-DSEK)” कहा जाता है, ने रोग के उपचार के लिए शानदार परिणाम दिखाए हैं।

व्यापक नेत्र परीक्षण के लिए किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ या ऑप्टोमेट्रिस्ट के पास जाएं। आंखों की जांच से ही इस बीमारी का पता लगाया जा सकता है।

आंखों से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट eyemantra.in पर जाएँ। आई मंत्रा के साथ अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए +91-9711115191 पर कॉल करें या हमें  eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हमारी अन्य सेवाओं में रेटिना सर्जरी, चश्मा हटाना, मोतियाबिंद सर्जरी आदि शामिल हैं। 

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors