कॉर्निया क्या है?: परिभाषा, समस्याएं और उपचार – Cornea Kya Hai?: Paribhasha, Problems Aur Upchar

Cornea Definition, Problems, Treatment

कॉर्निया क्या है? –  Cornea Kya Hai?

कॉर्निया आंख की सबसे बाहरी परत होती है। यह ट्रांसपेरेंट, गुंबद (डोम शेप्ड) के आकार का हिस्सा है, जो आंख के बाहरी हिस्से को ढकता है। सरल शब्दों में यह आंख की क्लियर बाहरी सतह है। यह परितारिका और पुतली के ठीक सामने मौजूद होता है, जो प्रकाश को आंख में प्रवेश करने में सक्षम बनाता है।

यह मनुष्य की आंख के जरूरी तत्वों में से एक है, क्योंकि यह दृष्टि बनाने के लिए प्रकाश को आंखों में प्रवेश करने की अनुमति देता है। जैसे ही प्रकाश आपकी आंख में प्रवेश करता है, यह अपवर्तित (रिफ्रेक्टीड) हो जाता है या कॉर्निया के घुमावदार किनारे से मुड़ जाता है। कॉर्निया की बाहरी परत कॉर्निया का सुरक्षा कवच है। स्केलरा के साथ यह गंदगी कीटाणुओं और अन्य तत्वों के खिलाफ एक बाधा के रूप में काम करता है, जो आंख को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे यह तय करने में मदद मिलती है कि आपकी आंख कितनी अच्छी तरह पास और दूर की वस्तुओं पर फोकस हो सकती है। यह आमतौर पर लंबाई में 12 मिमी और ऊंचाई में 11 मिमी होता है।


कॉर्निया के आकार में बदलाव के कारण मायोपिया, हाइपरोपिया और दृष्टिवैषम्य (astigmatism) जैसी रिफ्रेक्टीव कठिनाइयाँ पैदा हो सकती हैं। अगर आपके कॉर्निया को बीमारी, इंफेक्शन या आंख की चोट से नुकसान पहुंचा है, तो परिणामी निशान आपकी दृष्टि को प्रभावित कर सकते हैं। आपकी आंख में प्रवेश करते ही वह प्रकाश को ब्लॉक या मोड़ सकते हैं।

 

कॉर्निया स्ट्रक्चर – Cornea Structure

STRUCTURE-OF-CORNEA

 

कॉर्निया कई मामलों में क्लियर लग सकता है और इसमें पदार्थ की कमी प्रतीत होती है, यह एक अत्यंत ऑर्गेनाइज्ड टीश्यू है। शरीर के ज्यादातर टीशूज के उलट, कॉर्निया में इंफेक्शन होने पर उसे पोषण देने या उसकी रक्षा करने के लिए कोई ब्लड वैसेल्स नहीं होती हैं। अल्टरनेटिव तरीके से कॉर्निया को आँसू और जलीय ह्यूमर (aqueous humor) से पोषण मिलता है।
कॉर्निया के ऊतकों को 3 बुनियादी परतों में डिज़ाइन किया गया है, उनमें से 2 पतली परतें, या झिल्ली हैं।

5 परतों में से प्रत्येक का एक जरूरी काम है, जिसमें शामिल हैं:

  • एपिथेलियम – आंखों को स्वस्थ रखता है: एपिथेलियम कॉर्निया की सबसे बाहरी परत है। इसके अलावा यह हजारों छोटे नर्व एंड से भरा हुआ है, यही वजह है कि खरोंच या रगड़ने पर आपकी आंख को नुकसान हो सकता है। उपकला (epithelium) का वह भाग जिसे उपकला कोशिकाएं (epithelial cells) सहारा देती हैं और इसके लिए स्वयं को तैयार करती हैं। यह “तहखाने की झिल्ली (basement membrane)” कहलाती है।

इसके मुख्य कार्यों में शामिल हैं:

  1. धूल, पानी और बैक्टीरिया, कीटाणुओं आदि जैसे बाहरी कणों का आंखों में जाने का रास्ता ब्लॉक करें।
  2. आंसुओं से ऑक्सीजन और पोषक तत्वों को कंज्यूम करने के लिए एक चिकनी सतह देती है , जो बाद में कॉर्निया की अन्य परतों में फैल जाती हैं।
  • बोमन्स लेयर – सेफगार्ड द आई: एपिथेलियम के बेसमेंट मेम्ब्रेन के पीछे की अगली परत टीश्यू की एक पतली फिल्म होती है, जिसे बोमन लेयर कहा जाता है। इसे इंटीरियर लिमिटेड मेम्ब्रेन के रूप में भी जाना जाता है और यह प्रोटीन फाइबर से बना होता है जिसे कोलेजन कहा जाता है। यह एक शक्तिशाली परत है जो उपकला (epithelium) और कॉर्नियल स्ट्रोमा के बीच है और स्ट्रोमा की प्रोटेक्शन के लिए बनाई गई है।
  • स्ट्रोमा – क्लियरटी के लिए एक पूर्णता प्रदान करता है: बोमन की परत के पीछे स्ट्रोमा होता है, जो कॉर्निया की सबसे मोटी परत होती है। इसमें बड़े पैमाने पर कोलेजन फाइब्रिल और पानी के साथ-साथ परस्पर जुड़े केराटोसाइट्स होते हैं, जिनका उपयोग कॉर्निया की मरम्मत और सर्पोट के लिए किया जाता है। कॉर्निया की लाइट-कंडक्टीड क्लियरटी पैदा करने में यूनिक आकार, डिज़ाइन और कोलेजन प्रोटीन का अंतर महत्वपूर्ण है।
  • डेसिमेट की झिल्ली – इंफेक्शन से बचाती है: स्ट्रोमा के पीछे डेसिमेट की झिल्ली होती है, जो टीश्यू की एक हल्की लेकिन मजबूत फिल्म होती है, जो इंफेक्शन और चोटों पर प्रोटेक्टीव बैरियर के रूप में काम करती है। यह झिल्ली कोलेजन फाइबर से बनी होती है जो स्ट्रोमा से अलग होती है, और कॉर्निया की एंडोथेलियल परत में कोशिकाओं द्वारा निर्मित होती है। साथ ही यह चोट लगने के बाद अपने आप में तेजी से सुधार करता है। इसे पश्च सीमित झिल्ली (posterior limiting membrane) के रूप में भी पहचाना जाता है।
  • एंडोथेलियम – तरल पदार्थों का मैनेजमेंट करता है: एंडोथेलियम कॉर्निया की पतली, गहरी इनर लेयर है। कॉर्निया को साफ रखने के लिए एंडोथेलियल कोशिकाएं आवश्यक हैं। आमतौर पर, द्रव आंख के अंदर से धीरे-धीरे स्ट्रोमा में प्रवाहित होता है। एंडोथेलियम का पहला काम इस एक्सट्रा तरल पदार्थ को स्ट्रोमा से बाहर पंप करना है। इस पंपिंग प्रभाव के बिना, स्ट्रोमा पानी से सूज सकता है और मोटा और गहरा हो सकता है।
    एक स्वस्थ आंख में हर समय कॉर्निया के अंदर और बाहर तैरने वाले तरल पदार्थों के बीच सही बैलेंस होता है। डेसिमेट की झिल्ली में कोशिकाओं के विपरीत जहां एंडोथेलियल कोशिकाएं बीमारी या चोट से डैमेज हो जाती हैं, जिन्हें रिपेयर या ठीक नहीं किया जा सकता है।

कॉर्निया की समस्या के लक्षण – Cornea Ki Problems Ke Lakshan

कॉर्नियल रोग शब्द अलग-अलग कंडिशन की ओर इशारा करता है, जो आपकी आंख के कॉर्निया के आकार को बदल देते हैं। इनमें इंफेक्शन, ऊतकों का टूटना, और अन्य बीमारियां शामिल हैं, जो आपको अपने माता-पिता से मिलती हैं।

आपका कॉर्निया नॉर्मली ज्यादा छोटी चोटों या बीमारियों के बाद अपने आप ठीक हो जाता है, लेकिन उपचार प्रक्रिया के दौरान आप कुछ ऐसे लक्षण देख सकते हैं:

ये लक्षण आंखों की अलग-अलग समस्याओं के साथ भी आते हैं, इसलिए यह एक मुख्य समस्या का सिग्नल दे सकते हैं, जिसके लिए स्पेशल ट्रीटमेंट की जरूरत होती है। अगर आपको भी यह लक्षण महसूस होते हैं, तो आपको एक टॉप आई डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए, वह आपको कॉर्निया सर्जरी का सुझाव दे सकते हैं।

कॉर्निया की समस्याएं – Cornea Problems

ऐसी कई समस्याएं हैं जो कॉर्निया की हेल्थ को प्रभावित कर सकती हैं। उनमें से कुछ हैं:

कॉर्नियल अल्सर (Corneal Ulcer)

कॉर्नियल अल्सर आमतौर पर एक दर्दनाक, लाल आंख के रूप में होता है, जिसमें मध्यम से गंभीर प्रभाव देखने को मिलते है और आंखों में डिस्चार्ज के साथ दृष्टि कम होने लगती है।
यह रोग एक फोड़े से संबंधित कॉर्निया के स्थानीयकृत इंफेक्शन (localized infection) के परिणामस्वरूप होता है।

कॉर्नियल एब्रेशन (Corneal Abrasion)

कॉर्नियल एब्रेशन कॉर्निया की कोशिकाओं की बाहरी परत को परेशान करता है, यानी कॉर्नियल एपिथेलियम एक खुली चोट का निर्माण करता है, जिससे आपकी आंखों में सीरियस इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है इसलिए अगर आपको कॉर्नियल एब्रेशन की शिकायत होती है, तो तुरंत एक आई डॉक्टर को दिखाना जरूरी है।

केराटोकोनस (Keratoconus)

केराटोकोनस एक बढ़ती हुई आंख की बीमारी है, जिसमें नॉर्मली गोल कॉर्निया पतला हो जाता है और शंकु के आकार (one-shaped) का होने लगता है। यह शंकु आकार हल्का हो जाता है, क्योंकि यह लाइट- सेंसीटिव रेटिना के रास्ते में आंख में प्रवेश करता है, जिससे विकृत दृष्टि (distorted vision) पैदा होती है।

कॉर्निया डिस्ट्रोफी (Corneal dystrophy)

फुच्स डिस्ट्रोफी एक आई डिसीज़ है, जिसमें कॉर्निया में कोशिकाओं की इनर लेयर डिजनरेटिव बदलावों को महसूस करती है। यह कोशिका परत जिसे एंडोथेलियम कहा जाता है, कॉर्निया में द्रव के सटीक अमाउंट को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होता है। एंडोथेलियम एक्सेस फ्लूड को बाहर निकालकर अच्छी दृष्टि के लिए कॉर्निया को साफ रखता है, जोकि कॉर्नियल सूजन पैदा कर सकता है।

ड्राई आई (Dry Eyes)

हालांकि सूखी आंखों का कारण आमतौर पर टियर ग्लैंड और पलकों में छुपा होता है, यह कॉर्नियल एपिथेलियम को नुकसान पहुंचाना शुरू कर सकता है, जिससे आंखों में तकलीफ होती है और विज़न में बदलाव होने लगते है।

कॉर्नियल डिजनरेशन (Corneal Degeneration)

इनमें से कुछ समस्याएं इतनी सीरियस नहीं हैं लेकिन इनमें से कुछ बीमारियों मे कॉर्नियल ट्रांसप्लांट की जरूरत पड़ सकती है, क्योंकि यह मरीज़ में कॉर्नियल ब्लाइंडनेस पैदा करने के लिए जिम्मेदार होती हैं।

कॉर्नियल अल्सर, एकैन्थअमीबा केराटाइटिस, फंगल केराटाइटिस, कॉर्नियल एक्टेसिया और चालाज़ियन (आंख में गांठ) जैसी और भी कई समस्याएं हैं, लेकिन ऊपर बताई गई आंखों की आम और प्रमुख समस्याएं हैं।

 

कॉर्निया के ट्रीटमेंट की लागत – Cornea Ke Treatment Ki Lagat

लेजर सर्जरी (Laser Surgery)

पीटीके (फोटोथेरेप्यूटिक केराटेक्टॉमी) एक सर्जिकल प्रोसेस है, जिसमें कॉर्निया को फिर से आकार देने और रिपेयर करने के लिए यूवी लाइट और लेजर टेकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। पीटीके को मैप-डॉट-फिंगरप्रिंट डिस्ट्रोफी और बेसल मेम्ब्रेन डिस्ट्रोफी जैसे दोहरावदार क्षरण और कॉर्नियल डिस्ट्रोफी के इलाज के लिए अप्लाई किया जाता है। यह कॉर्नियल रिप्लेसमेंट को रोकने या पोस्टपोन करने में मदद करता है।

 

कॉर्नियल ट्रांसप्लांट सर्जरी (Corneal Transplant Surgery)

कॉर्निया की समस्याओं को रोकने के लिए कॉर्निया ट्रांसप्लांट एक कॉमन तरीका है। कॉर्नियल ट्रांसप्लांट सर्जरी कॉर्निया के इनफेक्टिड पार्ट को हटा देती है और इसे हेल्दी डोनर टिश्यू से बदल देती है।
हालांकि ज्यादातर लोग जिन्हें कॉर्निया ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है, वह लैमेलर केराटोप्लास्टी नामक एक नए प्रोसेस का ऑप्शन चुन सकते है। इस प्रोसेस में सर्जन चुनिंदा रूप से कॉर्निया की रोगग्रस्त परत को हटाता है और उसे रिप्लेस करता है और हेल्दी टिश्यू को जगह में छोड़ देता है, सिर्फ इंफेक्टिड परतों को डोनर ग्राफ्ट से बदलने से कॉर्निया ज्यादा स्ट्रक्चली अप्रभावित रहता है और कॉम्प्लिकेशन की कम दर और बेहतर विजुअल डेवलपमेंट की ओर इशारा करती है।

 

आर्टिफिशियल कॉर्निया (Artificial Cornea)

एक केराटोप्रोस्थेसिस एक आर्टिफिशियल कॉर्निया है। केप्रो (KPro) उन लोगों के लिए एकमात्र ऑप्शन हो सकता है, जिन्हें कॉर्निया टीश्यू ट्रांसप्लांट से लाभ नहीं हुआ है या जिन्हें टीश्यू रिजेक्शन का हाई रिस्क है। बोस्टन टाइप -1 केप्रो आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला केराटोप्रोस्थेसिस है।

उपरोक्त सभी सर्जरी की लागत बहुत ज्यादा नहीं है और इसे ऊपर लिखी सर्जरी से ठीक किया जा सकता है। अब कॉर्नियल ट्रांसप्लांट सर्जरी की लागत 50,000 रुपये से 1 लाख रुपये के बीच होती है और यह केवल प्राइवेट सेक्टर के अस्पतालों में की जाती है। आई बैंक की शुरुआत के साथ हेल्थ डिपार्टमेंंट जरूरतमंद मरीजों के लिए कॉर्निया ट्रांसप्लांट की सुविधा मुफ्त में उपलब्ध कराता है।

निष्कर्ष – Nishkarsh 

अगर आपको भी बेस्ट आई हॉस्पिटल की तलाश है, तो आप दिल्ली में स्थित आई मंत्रा का ऑप्शन चुन सकते है। कॉर्निया की समस्याओं के इलाज के लिए और इसे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट Eyemantra जाएं। यहां छूट के साथ मूल्यवान सेवाएं प्रदान की जाती हैं। यहां की एक्सपर्टस की टीम आपको सबसे बेस्ट आई केयर प्रोवाइड करेगी। हमारे यहां अलग-अलग सेवाएं प्रदान की जाती हैं जैसे- मोतियाबिंद सर्जरी, रेटिना सर्जरी, कॉर्निया सर्जरी, और भी बहुत कुछ। हमारे एक्सपर्टस से अभी परामर्श लेंनें के लिए+91-9711118331 पर कॉल करें। आप अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए हमें eyemantra1@gmail.com पर मेल भी कर सकते हैं। 

 

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors