कॉर्निया ट्रांसप्लांट क्या है?: तैयारी, रिस्क और उपचार – Cornea Transplant Kya Hai?: Taiyari, Risk Aur Upchar

Cornea Transplant

कॉर्निया ट्रांसप्लांट क्या है? – Cornea Transplant Kya Hai?

कॉर्निया ट्रांसप्लांट (केराटोप्लास्टी) आपके कॉर्निया के एक हिस्से को डोनर के कॉर्नियल टिश्यू से बदलने की एक सर्जिकल प्रक्रिया है। कॉर्निया आपकी आंख की एक गुंबद के आकार (dome-shaped) का सरफेस है, जो आपकी आंख की फोकस करने की शक्ति का काफी हिस्सा है। एक कॉर्निया सर्जरी दृष्टि को सही कर सकती है, साथ ही दर्द भी कम कर सकती है और डैमेज या रोगग्रस्त कॉर्निया की उपस्थिति को बढ़ा सकती है। लगभग सभी कॉर्नियल ट्रांसप्लांट प्रोसेस सफल होते हैं, लेकिन कॉर्निया ट्रांसप्लांट में कॉम्प्लिकेशन का थोड़ा रिस्क होता है, जैसे कि डोनर कॉर्निया की रिजेक्शन।

corneal

 

कॉर्निया ट्रांसप्लांट क्यों? – Cornea Transplant Kyu?

कॉर्निया ट्रांसप्लांट का इस्तेमाल आमतौर पर उस व्यक्ति की धुंधली दृष्टि सही करने के लिए किया जाता है, जिसकी कॉर्निया इस हद तक डैमेज हो जाती है कि इसे केवल दवा से ठीक नहीं किया जा सकता है। कॉर्निया ट्रांसप्लांट दर्द या कॉर्निया के रोगों से जुड़े अन्य लक्षणों को भी कम कर सकता है।

कॉर्निया ट्रांसप्लांट के साथ कई कंडिशन्स का इलाज किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • एक कॉर्निया जो बाहर की ओर उभरता है (केराटोकोनस)
  • फुच्स की डिस्ट्रोफी (Fuchs’ dystrophy)
  • कॉर्निया का पतला होना (Thinning of the cornea)
  • इंफेक्शन या आंख की चोट की वजह से कॉर्निया पर निशान पड़ना
  • क्लाउडी कॉर्निया
  • कॉर्निया की सूजन (corneal inflammation)
  • इंफेक्शन की वजह से होने वाला कॉर्नियल अल्सर
  • पिछली आंख की सर्जरी की वजह से होने वाली कॉम्प्लिकेशन

 

कॉर्निया ट्रांसप्लांट की तैयारी – Cornea Transplant Ki Taiyari

कॉर्निया ट्रांसप्लांट सर्जरी से पहले, आप अनुभव करेंगे:

  • एक सटीक आई एग्जाम (An accurate eye exam) : आपका आई डॉक्टर उन कंडिशन्स की जांच करता है जो सर्जरी के बाद कॉम्प्लिकेशन्स का कारण बन सकती हैं।
  • आपकी आंख का माप (Your eye measurements): आपका आई डॉक्टर यह पता लगाता है कि आपको किस आकार के डोनर कॉर्निया की जरूरत है।
  • आपके द्वारा ली जा रही सभी दवाओं और सप्लीमेंट्स की रूपरेखा (An outline of all medicines and supplements you are taking) : आपको अपने कॉर्निया ट्रांसप्लांट से पहले या बाद में कुछ दवाएं या सप्लीमेंट्स लेना बंद करना पड़ सकता है।
  • आंखों की अन्य समस्याओं के लिए उपचार (Treatment for other eye problems): स्वतंत्र आंख की समस्याएं जैसे इंफेक्शन या सूजन आपके सफल कॉर्निया ट्रांसप्लांट के चांस को कम कर सकती हैं। आपका आई डॉक्टर आपकी सर्जरी से पहले उन समस्याओं का इलाज करने का काम करेगा।

आपका डॉक्टर यह सब जानने के बाद पूरे प्रोसेस का अनुमान लगाएंगे और प्रोसेस के रिस्क को डिस्क्राइब करेंगे ।

 

How to Prepare for Transplant

 

डोनर कॉर्निया ढूँढना (Finding A Donor Cornea)

कॉर्नियल ट्रांसप्लांट में इस्तेमाल होने वाले ज्यादातर कॉर्निया मृत डोनर्स से आते हैं। लीवर और किडनी जैसे अंगों के विपरीत जिन लोगों को कॉर्नियल ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है, उन्हें आमतौर पर लंबे इंतजार की जरूरत नहीं होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बहुत से लोग विशेष रूप से अनुरोध करते हैं कि उनकी मृत्यु के बाद उनके कॉर्निया दान कर दिए जाए। जब तक कि उनकी कुछ शर्तें ना हों, इसलिए ट्रांसप्लांट के लिए अधिक कॉर्निया उपलब्ध हैं।

उन डोनर्स के कॉर्निया का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है जिनको पहले से ही कई रोग रहे हो। इनमें सेंट्रल नर्वस सिस्टम की कंडिशन से ग्रस्त मरीज़, इंफेक्शन, या किसी अज्ञात कारण से मरने वाले डोनर शामिल है।

कॉर्निया ट्रांसप्लांट का प्रोसेस –

Cornea Transplant Ka Process

आपके कॉर्निया ट्रांसप्लांट के दिन आपको आराम पहुंचाने के लिए एक दवा दी जाएगी और आपकी आंख को सुन्न करने के लिए एक लोकल एनिथिसिया दिया  जाएगा। इसके असर से आप सर्जरी के दौरान सोएंगे नहीं, लेकिन आपको कोई दर्द भी महसूस नहीं होगा।

कॉर्निया ट्रांसप्लांट के सबसे कॉमन टाइप (मर्मज्ञ केराटोप्लास्टी) के दौरान, आपका सर्जन असामान्य या रोगग्रस्त कॉर्निया की पूरी मोटाई को काटता है ताकि कॉर्नियल टीश्यू की एक छोटी बटन के आकार की डिस्क को हटाया जा सके। इस सटीक गोलाकार कट को बनाने के लिए कुकी कटर (ट्रेफिन) की तरह काम करने वाले डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है।

डोनर कॉर्निया, कट टू फिट, ओपनिंग में लगाया जाता है। आपका सर्जन फिर नए कॉर्निया को जगह पर सिलने के लिए एक महीन धागे इस्तेमाल करता है। जब आप अपने आई डॉक्टर के पास अगली विज़िट के लिए जाएंगे तो आपके यह टाँके खोल दिए जाएंगे।

कुछ मामलों में, अगर लोग डोनर कॉर्निया से कॉर्निया ट्रांसप्लांट के लिए सूटेबल नहीं हैं, तो डॉक्टर एक आर्टिफिशयल कॉर्निया (केराटोप्रोस्थेसिस) लगा सकते हैं।

 

Procedure of transplant

 

कॉर्निया के एक हिस्से को ट्रांसप्लांट करने की प्रक्रिया

कुछ प्रकार की कॉर्निया कठिनाइयों के साथ, एक पूर्ण मोटाई कॉर्निया ट्रांसप्लांट हमेशा सबसे सूटेबल उपचार नहीं होता है। ऐसे में और टाइप के ट्रांसप्लांट का उपयोग किया जा सकता है, जो केवल कॉर्नियल टीशूज की कुछ परतों को हटाते हैं, या केवल रोग से प्रभावित टीशूज को हटाते हैं। इस तरह के प्रोसेस में शामिल हैं:

एंडोथेलियल केराटोप्लास्टी (Endothelial Keratoplasty (EK))

 यह प्रोसेस रोगग्रस्त टीशूज को एंडोथेलियम सहित पिछली कॉर्नियल परतों से अलग करती है साथ ही डेसिमेट झिल्ली टीश्यू की एक पतली परत जो एंडोथेलियम को चोट और इंफेक्शन से बचाती है। हटाए गए टीश्यू को सही करने के लिए डोनर टीश्यू को ठीक से ट्रांसप्लांटिंग किया जाता है। एंडोथेलियल केराटोप्लास्टी दो टाइप की होती है। सबसे कॉमन टाइप जिसे डेसिमेट स्ट्रिपिंग एंडोथेलियल केराटोप्लास्टी (DSEK) कहा जाता है। यह लगभग एक तिहाई कॉर्निया को सही करने के लिए डोनर टीश्यू का उपयोग करता है। डेसिमेट मेम्ब्रेन एंडोथेलियल केराटोप्लास्टी (DMEK) नामक एक नए टाइप का प्रोसेस  है जिसमें डोनर टीश्यू की एक बहुत पतली परत का इस्तेमाल किया जाता है,  क्योंकि DMEK में उपयोग किया जाने वाला टीश्यू उल्लेखनीय रूप से पतला और नाजुक होता है, यह प्रोसेस DSEK की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण होता है, और आमतौर पर इस्तेमाल भी नहीं किया जाता है

एंटीरियर लैमेलर केराटोप्लास्टी (Anterior Lamellar Keratoplasty (ALK))

यह प्रोसेस उपकला (epithelium) और स्ट्रोमा सहित सामने की कॉर्नियल परतों से रोगग्रस्त टीशूज को खत्म करती है। यह पिछली एंडोथेलियल परत को जगह पर रखती है। कॉर्निया डैमेज की गहराई ALK प्रोसेस के टाइप को डिफाइन करती है, जो आपके लिए सूटेबल है। सतही पूर्वकाल लैमेलर केराटोप्लास्टी (SALK) आपके कॉर्निया की केवल सामने की परतों को रिस्टोर करता है, जिससे हेल्दी एंडोथेलियम बरकरार रहता है। एक डीप इंटीरियर लैमेलर ट्रांसप्लांट (डीएएलके) प्रोसेस का उपयोग तब किया जाता है। जब कॉर्निया क्षति स्ट्रोमा में गहराई तक पहुंच जाती है। DALK में आपके आईबॉल के किनारे में एक छोटा सा छेद बनाया जाता है, जो पीछे की परतों को तोड़े बिना आपके कॉर्निया की आगे और बीच की परतों को हटाने में मदद करता है, फिर हटाए गए हिस्से को बदलने के लिए डेनर से हेल्दी टीश्यू को जोड़ा जाता है।

कॉर्निया सर्जरी के बाद उपचार प्रोसेस – Cornea Surgery Ke Baad Upchar Process

आपका विज़न शुरू में आपकी सर्जरी से पहले की तुलना में खराब हो सकता है क्योंकि आपकी आंख नए कॉर्निया के अनुकूल होने लगती है। आपके विज़न में सुधार होने में कई महीने लग सकते हैं।

एक बार जब आपके कॉर्निया की बाहरी परत में सुधार हो जाता है, तो सर्जरी के कई हफ्तों से लेकर कई महीनों तक -आपका आई डॉक्टर उन बदलावों के लिए काम करेगा जो आपकी दृष्टि को बढ़ा सकते है जैसे:

  • आपके कॉर्निया दृष्टिवैषम्य (astigmatism) में असमानता को ठीक करना: आपकी आंख पर डोनर कॉर्निया रखने वाले टांके आपके कॉर्निया में छेद और दरारें पैदा कर सकते हैं, जिससे आपकी दृष्टि धुंधली हो सकती है। आपका डॉक्टर कुछ टांके हटाकर और दूसरों को कस कर इसमें से कुछ को ठीक कर सकता है।
  • दृष्टि समस्याओं को ठीक करना: रिफ्रेक्टिव एरर जैसे निकट-दृष्टि (near-sightedness)और दूरदर्शिता (farsightedness)। इन्हें चश्मे, कॉन्टैक्ट लेंस या कुछ मामलों में लेजर आई सर्जरी से ठीक किया जा सकता है।

 

Healing process after surgery

ज्यादातर जो लोग कॉर्निया ट्रांसप्लांट करवाते हैं, उनकी दृष्टि कम से कम आंशिक रूप से सही हो जाएगी। आपके कॉर्निया ट्रांसप्लांट के बाद आप क्या उम्मीद कर सकते हैं यह आपकी सर्जरी के उद्देश्य और आपकी हेल्थ पर निर्भर करता है। आपके कॉर्निया ट्रांसप्लांट के बाद सालों तक कॉम्प्लिकेशन और कॉर्निया रिजेक्शन का रिस्क बना रहता है। इस बचने के लिए अपने आई डॉक्टर से सलाना टेस्ट करवाए। कॉर्निया रिजेक्शन को आमतौर पर दवाओं के साथ मैनेज किया जा सकता है।

सर्जरी के बाद आफ्टरकेयर – Surgery Ke Baad Aftercare 

एक बार कॉर्निया ट्रांसप्लांट करवाने के बाद जरूरी है कि आप खुद का पहले से भी ज्यादा ख्याल रखें और निम्न बातों का पालन करें :

  • कई दवाएं रिसीव करें: आईड्रॉप्स के साथ कभी-कभी कॉर्निया ट्रांसप्लांट के तुरंत बाद पूरी करह ठीक होने के दौरान दी गई औरल दवाएं इंफेक्शन, सूजन और दर्द को कंट्रोल करने में मदद करेंगी।
  • एक आँख का पैच पहनें: एक आँख का पैच आपकी आंख को प्रोटेक्ट कर सकता है, क्योंकि यह आपकी सर्जरी के बाद ठीक होने के प्रोसेस में होता है।
  • अपनी आंख को चोट से बचाएं: अपने कॉर्निया ट्रांसप्लांट के बाद आसान काम करें और व्यायाम सहित अपनी डेली एक्टिविटीज को धीरे-धीरे पूरा करने के कोशिश करें। अपने बची हुई लाइफ के लिए जरूरी है कि आप अपनी आंख को चोट पहुंचने से बचाए। आपको अपनी आंखों को सावधानी के साथ प्रोटेक्ट करना है।
  • फ्रिक्वेंट फॉलो-अप एग्जाम के लिए रिटर्न: बार-बार आंखों के टेस्ट की डिमांड अपने डॉक्टर के सामने रखें, जिसमें आपका डॉक्टर सर्जरी के बाद पहले वर्ष में कॉम्प्लिकेशन्स का टेस्ट करता है।

कॉर्निया ट्रांसप्लांट के रिस्क – Cornea Transplant Ke Risks

कॉर्निया ट्रांसप्लांट तुलनात्मक रूप से एक सेफ प्रोसेस है, फिर भी कभी- कभी यह सीरियस कॉम्प्लिकेशन्स के रिस्क की वजह बन जाती है जैसे:

  • आंखों का इंफेक्शन
  • आंख के लेंस के धुंधलापन (मोतियाबिंद)
  • ग्लूकोमा के भीतर दबाव का विस्तार
  • डोनर कॉर्निया को सेफ करने के लिए उपयोग किए जाने वाले टांके में कठिनाई
  • डोनर कॉर्निया का रिजेक्शन
  • कॉर्नियल अब्रेशन

कॉर्निया रिजेक्शन के लक्षण – Cornea Rejection Ke Lakshan

कुछ मामलों में आपके शरीर का इम्यून सिस्टम डोनर कॉर्निया पर झूठा अटैक कर सकता है। इसे रिजेक्शन कहा जाता है, और इसके लिए मेडिकल उपचार या किसी अन्य कॉर्निया सर्जरी की जरूरत हो सकती है।

अगर आप रिजेक्शन के कोई लक्षण और संकेत देखते हैं, तो अपने आई डॉक्टर से कॉनटेक्ट करें जैसे:

 

Cornea Rejection

 

  • दृष्टि की कमी
  • दर्द
  • रेडनेस
  • प्रकाश के प्रति सेसीटिवटी

लगभग 10 प्रतिशत कॉर्निया ट्रांसप्लांट में रिजेक्शन होता ही है।

निष्कर्ष -Nishkrash

कॉर्निया के इलाज के लिए हमारी वेबसाइट Eyemantra  पर जाएं और अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए इस नंबर पर कॉल करें +919711115191 या इस eyemantra1@gmail.com मेल आईडी के जरिए भी आप अपनी अपॉइंटमेंट बुक कर सकते है। हमारी अन्य सेवाओं में शामिल हैं ग्लूकोमा सर्जरी, कंप्यूटर विजन सिंड्रोम, और भी बहुत कुछ।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors