रंग दृष्टिहीनता (कलर ब्लाइंडनेस): प्रकार और जांच – Rang Drishtihinta (Color Blindness): Prakar Aur Janch

Colour Blindness: Types and Tests

रंग दृष्टिहीनता (कलर ब्लाइंडनेस) क्या है? Rang Drishtihinta (Color Blindness) Kya Hai?    

रंग दृष्टिहीनता या कलर ब्लाइंडनेस (Color Blindness) आंखों से जुड़ी एक ऐसी बीमारी है जिसमें रंगों की पहचान करना मुश्किल हो जाता है। कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट उन लोगों के लिए किया जाता है, जो अलग-अलग रंगों को नहीं देख सकते। इसके लिए कोई व्यक्ति इशिहारा टेस्ट का इस्तेमाल कर सकता है। इशिहारा टेस्ट छवियों का एक सेट है, जो कलर ब्लाइंडनेस की जांच के सबसे आम और व्यापक तरीकों में शामिल किया जाता है। कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट के प्रकार और प्रक्रिया को समझने से पहले कलर ब्लाइंडनेस की स्थिति को समझना ज़रूरी है। 

कलर ब्लाइंडनेस को कलर विजन डेफिशियेंसी (Colour Vision Deficiency) भी कहते हैं। रंग दृष्टिहीनता ऐसी मेडिकल कंडीशन है, जिसमें परंपरागत रूप से रंगों को नहीं देख पाते। आमतौर पर यह फोटोरिसेप्टर (Photoreceptors) कहे जाने वाली कुछ कोशिकाओं के अभाव से होता है, जिन्हें आपकी आंखों में शंकु के रूप में भी जानते हैं। यही शंकु आपको इंद्रधनुष के सभी रंगों को देख पाने के लिए जिम्मेदार हैं। वर्णांधता यानि कलर विज़न डेफिशियेंसी में व्यक्ति इनमें से सभी रंग को नहीं देख सकता है। हम सभी अपने फोटोरिसेप्टर कार्यों के कामकाज की वजह से रंगों को अलग तरह से देखते हैं। ये कोशिकाएं प्रकाश की अलग तरंग दैर्ध्य (Wavelengths) पर प्रतिक्रिया करती हैं। मोतियाबिंद समेत उम्र से जुड़ी कुछ आंखों की बीमारियां आपकी बढ़ती उम्र के साथ रंग देखने का तरीका भी बदल सकता है। 

eye

रंग दृष्टिहीनता के लक्षण – Color Blindness Ke Lakshan 

  • कई रंगों में अंतर करने में दिक्कत आना 
  • कुछ रंगों की चमक देखने में असमर्थता
  • कुछ रंगों के बीच अंतर करने में कठिनाई

रंग अंधापन के प्रकार के आधार पर कई लोगों में अलग-अलग लक्षण और संकेत हो सकते हैं। वंशानुगत वर्णान्धता यानि आपको पूर्वजों से आपको मिलने वाली स्थिति के मामले में आप जन्म से ही इसका अनुभव करेंगे, लेकिन कोई संकेत नहीं देख सकते, क्योंकि आपने रंगों को हमेशा एक ही तरह से देखा है। हालांकि अगर आपको किसी चोट या बीमारी की वजह से कलर ब्लाइंडनेस हुआ है, तो आप अचानक बदलाव या कलर ब्लाइंडनेस के लक्षण देख सकते हैं, जहां आप रंगों को पहचान सकते हैं। कुछ मामलों में यह लक्षण बहुत धीमी तगि से हो सकते हैं। 

रंग दृष्टिहीनता के कारण – Color Blindness Ke Karan

रंग दृष्टिहीनता/कलर विज़न की कमी का कारण हमारे जीन में बदलाव या म्यूटेशन है। कई मामलों में लोगों को जन्म से ही कलर ब्लाइंडनेस का अनुभव होता है। इसकी वजह उनकी आंखों में काम करने वाले शंकुओं का नहीं होना है, जो पूर्ण-रंगीन दृष्टि (Full-Color Vision) देने में मदद करते हैं। 

colorblindness

रंग दृष्टिहीनता ब्लाइंडनेस से कैसे अलग है? Color Blindness Blindness Se Kaise Alag Hai?

कई लोग कलर ब्लाइंडनेस और ब्लाइंडनेस में भ्रमित रहते हैं। अंधापन एक ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति दुनिया देखने की क्षमता पूरी तरह से खो देता है। कलर ब्लाइंडनेस भी एक तरह का अंधापन है, जिसमें व्यक्ति अलग-अलग रंग देखने में सक्षम नहीं होता है। रंगों के अलावा व्यक्ति लोगों, वस्तुओं को देखने के साथ अपने जीवन की दैनिक दिनचर्या को बिना किसी कठिनाई के कर सकता है।

रंग दृष्टिहीनता के प्रकार – Color Blindness Ke Prakar

रंगहीनता के मुख्यतः दो प्रकार होते हैंः 

  • लाल/हरा कलर ब्लाइंडनेस कलर ब्लाइंडनेस के सबसे आम प्रकारों में से एक है, जिसका प्रभाव महिलाओं की तुलना में पुरुषों पर ज़्यादा होता है। यह जन्मजात या विरासत में मिला हो सकता है। औसतन यह 5 से 8 प्रतिशत पुरुषों और 0.5 प्रतिशत महिलाओं को प्रभावित करता है। ऐसी वर्णांधता आम, लेकिन दुर्लभ होती है, जिसमें लोगों को लाल और हरे रंग के बीच अंतर करने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। 
  • लाल-हरे रंग के अलावा नीले/पीले प्रकार का कलर ब्लाइंडनेस उससे ज़्यादा दुर्लभ होता है, जो किसी भी नेत्र रोग या स्थिति से हो सकता है। रेटिनल ऑप्टिक नर्व डिसऑर्डर वाले लोगों में इस तरह की कलर ब्लाइंडनेस होने का खतरा ज़्यादा होता है। इस प्रकार के कलर ब्लाइंडनेस में एक व्यक्ति को कई लक्षणों और संकेतों का अनुभव हो सकता है, जिसमें समग्र रूप से विफल दृष्टि लगातार काले या सफेद धब्बे शामिल हैं। आपका नेत्र रोग विशेषज्ञ इस समस्या का निदान करने के लिए कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट करेगा, जिसकी शुरुआत इशिहारा स्क्रीनिंग टेस्ट के साथ हो सकती है और अधिक परिष्कृत परीक्षण अधिक परिष्कृत जांच के साथ आगे बढ़ सकता है।

colorl

रंग दृष्टिहीनता टेस्ट के प्रकार – Color Blindness Test Ke Prakar

रंगहीनता के कई परीक्षणों के लिए डॉक्टर के पास जाने और नहीं जाने की ज़रूरत भी हो सकती है, जिनमें शामिल हैं:

इशिहारा कलर टेस्ट (Ishihara Color Test): इस विधि को लाल-हरे रंग के अंधापन की जांच के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें कई  रंगों और आकार के डॉट्स वाले वृत्तों या प्लेटों की एक श्रृंखला को देखना शामिल है। कई बिंदु आकार और एक या दो अंकों की संख्या बनाते हैं। अगर आपको लाल और हरे रंग के बिंदुओं को देखने में कठिनाई या उन्हें बिल्कुल भी देखने में असमर्थता का सामना करना पड़े, तो आपको लाल-हरे रंग का अंधापन हो सकता है।

एनोमलोस्कोप (Anomaloscope): इस विधि में एक ऐपिस और एक सर्कल के माध्यम से देखना शामिल है। सर्कल के ऊपरी आधे हिस्से में पीली और निचले हिस्से में लाल-हरी रोशनी होती है। यहां आपको नॉब्स को तब तक घुमाने की जरूरत है जब तक कि दोनों हिस्सों की चमक और रंग समान न हो जाए। कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट के लिए इस विधि का उपयोग लाल और हरे रंग देखने में परेशानी की जांच के लिए किया जाता है।

कैम्ब्रिज कलर टेस्ट (Cambridge Color Test): यह कुछ हद तक इशिहारा टेस्ट के जैसा है। इसमें आपको कंप्यूटर स्क्रीन को देखने की ज़रूरत होती है। टेस्ट के दौरान स्क्रीन पर एक सी आकार बेतरतीब ढंग से पॉप अप होगा, जो पृष्ठभूमि के रंग से पूरी तरह अलग होगा। वर्णांधता के लक्षणों वाले व्यक्ति को स्क्रीन पर सी आकृति ढूंढना होगा और उसके मिलने पर उसे चार चाबियों में से एक को दबाना होगा।

फ़ार्न्सवर्थ-मुन्सेल 100 ह्यू टेस्ट (Farnsworth-Munsell 100 Hue Test): कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट के लिए इस विधि में कई रंगों और एक ही रंग के ब्लॉक या खूंटे का इस्तेमाल किया जाता है। आपको उन ब्लॉकों या खूंटे को एक निश्चित तरीके से क्रम में लगाना होता है, ताकि आप जांच कर सकें कि क्या आप मामूली रंग बता सकते हैं। कई कंपनियां इस तकनीक का इस्तेमाल अपने कर्मचारियों को सही रंग दिखाने के लिए करती हैं।

फ़ार्न्सवर्थ लालटेन परीक्षण (Farnsworth Lantern Test): इस टेस्ट का इस्तेमाल अमेरिकी सेना यह जांचने के लिए करती है कि क्या रंगरूटों में रंग अंधापन के हल्के से गंभीर रूप हैं। 

स्यूडोलसोक्रोमैटिक प्लेट (पाइप) कलर विजन टेस्ट (Pseudolsochromatic Plate (Pip) Color Vision Test): इस प्रकार के कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट में 9 रंगीन (पीआईपी) प्लेट्स का उपयोग किया जाता है, जिसमें एक सर्कल में व्यवस्थित कई डॉट्स होते हैं। ये बिंदु आकार और रंग में अव्यवस्थित रूप से दिखाई देते हैं। डॉट्स का पैटर्न इसमें एक नंबर बनाता है, जिसे रेड-ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस वाले लोगों के लिए देखना मुश्किल होगा।

लालटेन कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट (Lantern Color Blindness Test): कलर ब्लाइंडनेस के लिए इस टेस्ट में रात में पर सिग्नल लाइट की पहचान करना शामिल है। इस टेस्ट में लाल, हरे और पीले रंग के साथ वर्टिकली ओरिएंटेड जोड़ी दिखाई जाती है।

निष्कर्ष – Nishkarsh  

हालांकि कलर ब्लाइंडनेस का आपकी रोजमर्रा की गतिविधियों जैसे ड्राइविंग, काम आदि पर असर नहीं पड़ता, लेकिन रंगों की पहचान करने की बात आने पर कलर ब्लाइंड आपके जीवन को मुश्किल बना सकता है। कई रंग अंधापन टेस्ट आपको अपने लक्षणों की पहचान करने और नेत्र रोग विशेषज्ञ से चिकित्सा उपचार लेने में मदद कर सकते हैं।

अपनी ऑंखों का इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका है नेत्र देखभाल पेशेवर द्वारा आपकी ऑंखों की नियमित रूप से जांच। नेत्र देखभाल पेशेवर आपकी ऑंखों की बीमारी के इलाज के सर्वोत्तम तरीके का आंकलन करने में सक्षम होंगे।

अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट eyemantra.in पर जाएं। आई मंत्रा में अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए +91-9711115191 पर कॉल करें या हमें  eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हमारी अन्य सेवाओं में रेटिना सर्जरी, चश्मा हटाना, मोतियाबिंद की सर्जरी आदि सेवाएं शामिल हैं। 

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors