टेरिजियम: लक्षण, कारण और उपचार – Pterygium: Lakshan, Karan Aur Upchar

Pterygium

टेरिजियम क्या है? Pterygium Kya Hai?

टेरिजियम काफी सामान्य स्थिति है जो स्क्लेरा के सफेद हिस्से पर गुलाबी फ्लेशी टिश्यू के विकास की खासियत है। तब यह कॉर्निया यानी आंख के सामने की स्पष्ट खिड़की में प्रवेश करती है। टेरिजियम हमेशा नाक के सबसे पास की तरफ होता है। आमतौर पर इस हानिरहित टेरिजियम के लिए उपचार की ज़रूरत नहीं होती है। हालांकि प्रोग्रेसिव और आकार में वृद्धि दिखने पर इसे हटा दिया जाना चाहिए, क्योंकि यह आपकी दृष्टि में प्रवेश करके गंभीर निशान पैदा कर सकता है।

pterygium

टेरिजियम के लक्षण – Pterygium Ke Lakshan

अगर आप टेरिजियम से पीड़ित हैं, तो आपको अपनी आंख पर एक वेड्ज आकार की एक ग्रोथ दिखाई दे सकती है। इसके साथ ही आपको अपनी आंखों में किरकिरापन, खुजली, जलन, लालपन या सूजन का अहसास हो सकता है, लेकिन टेरिजियम के बढ़ने पर आपको पहले से ज़्यादा असुविधा महसूस हो सकती है।

अगर टेरिजियम आपके कॉर्निया पर एक बाहरी डिग्री तक बढ़ गया है, तो इस स्थिति में आपको धुंधली (Blur) या विकृत (Distorted) दृष्टि का अनुभव भी हो सकता है। हालांकि विकसित देशों में कम दृष्टि दुर्लभ है। यह कॉर्निया या प्रेरित दृष्टिवैषम्य (Induced Astigmatism) के केंद्र की तरफ बढ़ने की वजह से होता है, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग होते हैं, जबकि ज़्यादातर लोग सिर्फ शीशे में देखते समय टेरिजियम के फॉर्मेशन को नोटिस करते हैं। इसके अलावा लोगों को अन्य हल्के लक्षण भी अनुभव हो सकते हैं, जो निम्नलिखित हैं:

  • आंखों में लालपन और सूजन।
  • आंख के अदर किरकिरापन लगना।
  • आंख के अंदर कुछ होने का अनुभव।
  • टियर प्रोडक्शन में कमी के कारण आंखों में सूखापन आना।
  • कॉर्निया की सतह बदलने या विकृत हो जाने से दृष्टि का धुंधला होना या अगर यह विकास पुतली में प्रवेश करता है, तो दृष्टि का अस्पष्ट होना।

टेरिजियम के कारण – Pterygium Ke Karan 

टेरिजियम की स्थिति यूवी किरणों के संपर्क में आने और शुष्क या धूल भरी स्थितियों की वजह से होती है। यही कारण है कि यह भूमध्य रेखा के पास या बहुत धूप वाले स्थानों में रहने वाले लोगों में देखा जाता है। आमतौर पर टेरिजियम 30 से 50 साल की उम्र के लोगों में देखा जाता है, जो महिलाओं की तुलना में पुरुषों में ज़्यादा आम है।

जोखिम कारक – Risk Factors

सूरज से अत्यधिक मात्रा में पराबैंगनी (यूवी) प्रकाश के संपर्क को इसकी वृद्धि का पहला कारण माना जाता है। इसके अलावा इस स्थिति के विकसित होने का ज़्यादा जोखिम उन लोगों में होता है जिनकी आंखें पराग, रेत, धुंआ, केमिकल और हवा जैसे कुछ तत्वों के संपर्क में आती हैं। यही कारण है कि यह स्थिति गर्म जलवायु में सोने वाले लोगों में ज़्यादा होती है। साथ ही अपना ज़्यादातर समय बाहर धूप या हवा वाले वातावरण में बिताने वाले किसान और वेल्डर जैसे लोग भी इस स्थिति में इसकी स्थिति से पीड़ित होते हैं।

आमतौर पर बच्चों में यह स्थिति कभी नहीं देखी जाती है, क्योंकि यह 40 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों में विकसित होती है। टेरिजियम महिलाओं के मुकाबले में पुरुषों में दोगुनी बार होता है, जिसका कारण पुरुषों का बाहर के वातावरण में काम करना है। इसके अलावा एक रिप्लेसमेंट ज़ीलैंडर होने के नाते यह याद रखना ज़रूरी है कि अन्य क्षेत्रों की तुलना में न्यूजीलैंड में टेरिजिम होने का ज़्यादा खतरा है। हमारे ओजोनोस्फीयर की कमी के कारण अल्ट्रा-वायलेट लाइट फिल्टरिंग कम हो गया है।

टेरिजियम का उपचार – Pterygium Ka Upchar 

ज्यादातर मामलों में इस स्थिर स्थिति से किसी तरह का नुकसान नहीं होता है, जिसके कारण इसे अनुपचारित छोड़ दिया जा सकता है। अगर आपको इससे कोई भी असुविधा महसूस होती है, तो सिम्प्टोमैटिक रिलीफ के लिए लुब्रिकेटिंग आई ड्रॉप्स का इस्तेमाल करके इसका उपचार किया जाएगा। अपनी स्थिति को देखना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि यह आगे आने वाले समय में आपकी दृष्टि को विकसित और प्रभावित कर सकता है। हालांकि यह तत्काल कोई समस्या पैदा नहीं करता है, लेकिन अगर इससे कारण आपकी दृष्टि प्रभावित होती है, तो इसे सर्जरी से हटा दिया जाएगा।

अगर सर्जरी ज़रूरी है, तो अक्सर इसे ज़्यादातार सर्जरी प्रक्रियाओं की तरह लोकल या जनरल एनेस्थेटिक के तहत किया जाता है। इसे टेरिजियम के डायमेंशन, साइट और आपकी अपनी पसंद पर गिना जाता है।

before-and-after-surgery

आपको टेरिजियम से छुटकारा दिलाने के लिए आपके सर्जन सूक्ष्म उपकरणों का इस्तेमाल करेंगें। इसके बाद वह एक ऑटो-ग्राफ्ट करते हैं, तो सामान्य कंजक्टिवा के पास से टिश्यू का इस्तेमाल करके उस अंतर को भरते हैं, जहां टेरिजियम था। आमतौर पर ग्राफ्ट टिश्यू पलक से ढ़के हुए अटेंशन को काटा जाता है और ग्राफ्ट चिपकाया या टांके का इस्तेमाल करके सिल दिया जाता है, जो सर्जरी के कुछ हफ्तों के अंदर ठीक हो जाएगा।

कंजक्टिवल ऑटोग्राफ्टिंग कहलाने वाली यह तकनीक मौजूदा समय में सर्जरी करने का सबसे असरदार तरीका है। यह टेरिजियम के दोबारा होने की संभावना को पांच प्रतिशत तक कम कर देती है और इसीलिए यह टेरिजियम सर्जरी से संबंधित सबसे आम सामान्य जटिलता है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

अगर आप खुजली, लालपन, जलन और धुंधली दृष्टि जैसे लक्षण अनुभव कर रहे हैं या अपनी आंखों में टेरिजियम के संभावित विकास को लेकर परेशान हैं, तो आज ही दिल्ली के आई मंत्रा हॉस्पिटल में विज़ट करें। आई मंत्रा में हमारे एक्सपर्ट नेत्र रोग विशेषज्ञों से परामर्श के लिए आप हमारी वेबसाइट eyemantra.in पर भी जा सकते हैं।

अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए हमें अभी +91-9711115191 पर कॉल करें या आप हमें  eyemantra1@gmail.com पर मेल भी कर सकते हैं। हम रेटिना सर्जरीचश्मा हटानालेसिक सर्जरीभेंगापनमोतियाबिंद सर्जरी और ग्लूकोमा सर्जरी सहित अन्य सेवाएं भी प्रदान करते हैं।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors