वर्णांधता (कलर ब्लाइंडनेस) क्या है?- कारण, लक्षण और टेस्ट – Color Blindness Kya Hai? Kaaran, Lakshan Aur Test

colour blindness test

वर्णांधता (कलर ब्लाइंडनेस क्या) है? – Color Blindness Kya Hai?

ब्लाइंडनेस के टेस्ट की खोज करने से पहले यह जानने की जरूरत है कि वास्तव में वर्णांधता (कलर ब्लाइंडनेस) क्या है, जिसे मेडिकल टर्म में “रंग दृष्टि की कमी” (“lack of color vision”) के रूप में जाना जाता है। वर्तमान समय में उम्र किसी भी चीज़ के लिए कोई बाधा नहीं है, और न ही बिमारियां, आंखों की समस्या आजकल हर ऐज ग्रुप के लोगों की आम समस्याओं में से एक है। इन्हीं मे से एक है कलर ब्लाइंडनेस

colorblindness

यह एक खास तरह की विकलांगता (disability) है, इससे पीड़ित व्यक्ति के लिए रंगों के बीच पहचान करना मुश्किल हो जाता है और सबसे दुखद बात यह है कि इस बीमारी से पीड़ित ज्यादातर लोगों को यह पता ही नहीं चलता कि वे इस बीमारी के ट्रेप में आ गए हैं। यह सबसे टिपिकल और रेयर कंडिशन है, जहां आप केवल भूरे रंग देख सकते हैं।

इसे ही सही मायने में कलर ब्लाइंडनेस कहा जा सकता है और इस अनुभव से गुजरने वाले लोगों की सबसे कॉमन केटेगिरी में रखा जाता है। इन मरीजों को हरे और लाल रंग के रंगों में अंतर करने में मुश्किल होती है।

वर्णांधता का कारण – Color Blindness Ka Karan

कलर ब्लाइंडनेस का सामना करने वाले लोगों में देखा जाने वाला सबसे आम कारण अनुवांशिकता है, यानी उन्हें यह बीमारी अपने माता-पिता या अपने ग्रेंड पैरेंट्स से मिली है। ऐसे मामलों में रंग विज़न की कंडिशन आमतौर पर न तो सुधरती है और न ही बिगड़ती है। वे स्थिर रहते हैं।

दूसरा कारण बुढ़ापा हो सकता है। इस उम्र में उन्हें आंखों और मस्तिष्क पर प्रतिकूल प्रभाव छोड़ने वाली कोई बीमारी हो सकती है। इसके अलावा ऐसी कंडिशन भी होती हैं, जहां आपकी आंखें या आपके ब्रेन का वह हिस्सा जो आपको रंगों को देखने और पहचानने में मदद करता है, डैमेज हो जाता है। ग्लूकोमा या मस्कुलर डिजनरेशन आई डिसीज़ हैं, और अल्जाइमर या मल्टीपल स्केलेरोसिस ब्रेन और नर्वस सिस्टम की बीमारियां हैं जो उन्हें पैदा करती हैं।

उम्र बढ़ना कलर ब्लाइंडनेस का दूसरा प्रमुख कारण हो सकता है। कुछ दवाएं ऐसी भी हैं जो आंखों पर परमानेंट और प्रतिकूल प्रभाव छोड़ सकती हैं, और विशेष रूप से आपको कलर ब्लाइंडनेस की ओर ले जाती हैं। हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट प्रॉबल्मस , न्यूरोलॉजिकल रोग, स्तंभन दोष (Erectile dysfunction), इंफेक्शन और कुछ स्व-प्रतिरक्षित बीमारियों (autoimmune diseases) का इलाज करने वाली कुछ दवाएं।

वर्णांधता के लक्षण – Color Blindness Ke Lakshan

किसी को कलर विजन की कमी हो सकती है, जिसे आमतौर पर कलर ब्लाइंडनेस के रूप में जाना जाता है, और व्यक्ति को पता भी नहीं होता कि वह इस बीमारी से पीड़ित है। उदाहरण के लिए लोग या उनके बच्चे ट्रैफिक लाइट का पता लगाने या कलर-कोडिड लर्निंग मैटेरियल की पहचान करने में भ्रम का सामना करना शुरू कर देते हैं। इसके अलावा कलर ब्लाइंडनेस से पीड़ित लोग लाल और हरे रंग के अलग-अलग रंगों, या नीले और पीले रंग के अलग-अलग रंगों के बीच अंतर नहीं कर पाते।

ऊपर लिखें वाक्य में से, सबसे आम रंग की कमी लाल और हरे रंग के समान रंगों के बीच की पहचान करने में मुश्किल होना है। आमतौर पर यह देखा गया है कि लाल-हरे या नीले-पीले रंग की कमी से पीड़ित व्यक्ति दोनों रंगों को पूरी तरह से नहीं देख पाते है।

वर्णांधता टेस्ट के टाइप – Color Blindness Test Ke Type

इस समस्या को अनसुना, अनचेक और अनुत्तरित (unanswered) छोड़ने से काम नहीं चलेगा इसलिए एक बार जब कोई कलर विज़न में समस्या का सामना करना शुरू कर देता है, तो उसके समाधान हेतु किसी प्रोफेशनल की मदद के लिए जाना जरूरी है। हां, बाजार में कुछ कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट उपलब्ध हैं, पर यहां कुछ पॉपुलर टेस्ट दिए गए हैं, जो निश्चित रूप से आपकी मदद करने वाले हैं। अगर आप लंबे समय से इस समस्या से जूझ रहे हैं तो यह टेस्ट करवा सकते है:

1) इशिहारा कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट (Ishihara Color Blindness test)

यह टेस्ट आपको यह पता लगाने में मदद करता है कि आपको कलर ब्लाइंडनेस हैं या नहीं, और यह सबसे पॉपुलर कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट में से एक है। यह वह है जिसे आपने शायद छोटे रंगीन हलकों के साथ देखा होगा। यह मुख्य रूप से यह क्या करता है कि यह लाल-हरे रंग की ब्लाइंडनेस की जांच करता है और इसमें क्या होता है कि प्रोफेशनल मरीजों को सर्कल की एक सीरीज को देखने के लिए कहते हैं, जिन्हें मेडिकली प्लेट के रूप में जाना जाता है।

कलर ब्लाइंडनेस चार्ट

सर्कल या प्लेटों की ये लगातार सीरीज अलग- अलग रंगों के कई बिंदुओं से बनी होती है, जो आगे अलग-अलग आकार और साइज बनाती हैं, या वे एक या दो अंकों की संख्या भी बना सकती हैं। अगर आप उन लाल और हरे बिंदुओं के बीच अंतर करने में विफल रहते हैं, तो आप आकृतियों की पहचान करने में भी सक्षम नहीं होंगे और इसका नतीजा यह समझा जाएगा कि आप कलर ब्लाइडनेस की समस्या का सामना कर रहे हैं।

2) नोमलोप्लोड रंग अंधापन टेस्ट (Anomaloscope Color Blindness Test)

यह भी कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट में से एक है, जिसका इस्तेमाल डॉक्टर लाल और हरे रंग को देखने में परेशानी की जाँच के लिए करते हैं। एनोमलोस्कोप कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक उपकरण है।

color blindness

इस कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट में आपको डिवाइस के जरिए से एक सर्कल देखने के लिए कहा जाता है, जिसका पहला आधा भाग पीली रोशनी है, और नीचे लाल और हरी बत्ती से बनी हुई है।

फिर, आपको सर्कल बनाने के लिए इस तरह से मुड़ने के लिए कहा जाता है कि दोनों हिस्से एक ही रंग और चमक के हो जाएं, असफल होने पर आपका कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट पॉजिटिव साबित होगा।

3) कैम्ब्रिज कलर ब्लाइंडनेस (Cambridge Color Blindness Test

यह खास टेस्ट काफी हद तक इशिहारा कलर ब्लाइंड टेस्ट जैसा है। फर्क सिर्फ इतना है कि यह एक तरह का स्क्रीनिंग टेस्ट होता है, जिसमें आपको लेटर निकालने के लिए कहा जाएगा या

Cambridge Color blindness

आकार “C” पृष्ठभूमि के अलावा एक अलग रंग में होगा जो कि “C” आकार रखता है।

जन्मजात या अधिग्रहित (congenital or acquired) कंडिशन्स के नतीजतन टेस्ट का इस्तेमाल रंग भेदभाव को और अधिक विस्तार से जांचने के लिए किया जाता है।

4) फार्नवर्थ मुन्सेल 100 ह्यू कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट

(Farnsworth Munsell 100 Hue Color Blindness Test)

Farnsworth color blindness

यह डीन फार्न्सवर्थ द्वारा डेवलप किया गया एक कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट है, इस टेस्ट में आपको ब्लॉक या खूंटे दिए जाते हैं, जो एक ही रंग के अलग-अलग रंगों के टाइप होते हैं। इनके बीच बहुत कम फर्क होता हैं, और आपको इन्हें अलग करने के बाद अरेंज करके लाइन में रखने के लिए कहा जाता है।

फ़ार्नस्वर्थ कलर ब्लाइंडनेस

यह टेस्ट यह जांचने के लिए किया जाता है कि क्या कोई सलाइट और मिनट के रंग में अंतर कर सकता है या नहीं। रंगों को सही ढंग से देखने के लिए कंपनियों में काम करने वाले वर्कर्स को स्पेशली इस कलर ब्लाइंडनेस से गुजरने के लिए कहा जाता है।

5) फ़ार्नस्वर्थ लैंटर्न कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट (Farnsworth Lantern Color Blindness Test)

इस कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट के बारे में दिलचस्प फैक्ट यह है कि इस टेस्ट का इस्तेमाल अमेरिकी सेना द्वारा यह जांचने के लिए किया जाता है कि क्या सेना में  भर्ती होने वालों सैनिकों में कलर ब्लाइंडनेस है, या क्या उनके पास इसका हल्का या गंभीर एडिशन है। टेस्ट में क्या होता है कि टेस्ट सब्जेक्ट को रंग जोड़े की एक सीरिज प्रदान की जाती है, जिसकी शुरुआत लाल/हरे रंग के कॉम्बिनेशन से होती है।

कलर ब्लाइंडनेस

सब्जेक्ट को सफेद रोशनी देखने से पहले दो रंगों को देखने की परमिशन है, जो एरर्स के टेस्ट में मदद करता है। यहां रोगियों को केवल कुछ सेकंड के लिए टारगेट देखने की अनुमति दी जाती है, क्योंकि रंगों के साथ लंबे समय तक कॉन्टेक्ट करने से रोगी को कभी-कभी रंग की पहचान करने में मदद मिल जाती है और फिर रंग ब्लाइंडनेस टेस्ट सही ढंग से नही हो पाता।

कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट कैसे चेक करें? – Color Blindness Test Kaise Check Karein?

नीचे दी गई टेस्ट प्लेट में छिपी संख्या का पता लगाने की कोशिश करें, और देखें कि क्या आपका जवाब वही है जो रिजल्ट में दिया गया है।

रिजल्ट :

color अंधापन परिणामहर कोई यहां तक कि टोटल कलर ब्लाइंडनेस वाले व्यक्ति को भी ऊपर दी गई इमेज में “12” संख्या की पहचान करनी चाहिए

color अंधापन

नॉर्मल विज़न वाले लोगों को संख्या “8” दिखाई देगी।

अगर आप संख्या “8” नहीं देख पा रहे हैं और इसे “3” के रूप में ढूंढ रहे हैं, तो आपको रेड-ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस है।

लेकिन पूर्ण कलर ब्लाइंडनेस वाला व्यक्ति कुछ भी नहीं देख पाएगा।

color blindness test

आपकी दृष्टि नॉर्मल है और अगर आप “29” देख सकते हैं तो आपको चिंता करने की  जरूरत नहीं है। आपको रेड-ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस है, तो आपको “29” के बजाय “70” दिखाई देगा।

पूरी तरह से कलर ब्लाइंडनेस से पीड़ित व्यक्ति को कुछ भी दिखाई नहीं देगा।

color अंधा परीक्षण

एक फुल विज़न वाला व्यक्ति “5” संख्या को बहुत क्लियर रूप से देख सकता है

रेड-ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस वाले व्यक्ति को यह “2” के रूप में मिलेगा।

कलर ब्लाइंडनेस वाले व्यक्ति को कोई भी संख्या दिखाई नहीं देगी।

color अंधापन परीक्षणनॉर्मल विज़न वाले लोग चार्ट में “3” नंबर देख रहे होंगे, लेकिन जो रेड-ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस से पीड़ित है, वह इसे “5” के रूप में देखेगा और पूरी तरह से कलर ब्लाइंडनेस से पीड़ित  व्यक्ति को कुछ भी दिखाई नहीं देगा।

टेस्ट हो जाने के बाद अगर आपके जवाब रिजल्ट्स से मेल नहीं खाते हैं, तो आपको अपने  ऑप्थामोलोजिस्ट के पास जाना चाहिए।

निष्कर्ष- Nishkarsh

कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट रोगियों द्वारा तब किया जाता है, जब वे यह मानना शुरू कर देते हैं कि वे परेशानियों से गुजर रहे हैं। बेशक यह बहुत गंभीर मुद्दा नहीं है और इसमें शोर मचाने जैसी भी कोई बात नहीं है। इसे पीड़ित मरीज़ एक नॉर्मल जीवन जी सकता है और इसके साथ अपनी डेली लाइफ के टाइम- टेबल को जारी रख सकता है, लेकिन मरीज़ को इसके साथ ही कुछ अन्य मुद्दों का सामना करना पड़ सकता है। जहां रंग की पहचान जरूरी है, वहां कई समस्याएं हो सकती है। इस दौरान बेहतर रहेगा की आप कलर ब्लाइंडनेस टेस्ट समय पर करवा लें।

अपनी आंखों का इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप अपने आई केयर प्रोफेशनल के पास जाएं और अपनी आंखों की रेगुलर जांच करवाएं। वह आपकी आंखों की बीमारी के इलाज के लिए बेस्ट तरीके की राय देंगे। अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट Eyemantra पर जाएं। अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए +91-9711115191 पर कॉल करें। या हमें eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हमारी अन्य सेवाओं में शामिल हैं रेटिना सर्जरी, स्पेकस रिमूवल, मोतियाबिंद की सर्जरी, और भी बहुत कुछ।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors