आंखों को प्रदूषण से बचाने के टिप्स – Aankhon Ko Pollution Se Bachane Ke Tips

eye care in air pollution

आंखों को प्रदूषण से कैसे बचाएं? Aankhon Ko Pollution Se Kaise Bachayein? 

21वीं सदी में बढ़ती टेक्नोलॉजी और बढ़ते औद्योगीकरण के साथ प्रदूषण के स्तर में भी वृद्धि हुई है। पर्यावरण प्रदूषण में खतरनाक वृद्धि हमारे स्वास्थ्य के लिए विशेष रूप से हमारी आंखों के लिए एक बड़ा खतरा है। हमारी आंखें बढ़ते वायु प्रदूषण के संपर्क में हैं और जिसका हमारे आंखों के स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ रहा है।

वायु प्रदूषण फेफड़ों, हृदय और हड्डियों सहित हमारे लगभग सभी अंगों को नकारात्मक रूप से प्रभावित करने के लिए जाना जाता है। वायु प्रदूषण के लंबे समय तक संपर्क में रहने से सामान्य रूप से आंखों का स्वास्थ्य और दृष्टि भी खराब हो रही है। अगर नियमित रूप से देखा जाता है, तो वायु प्रदूषण से ड्राई आई सिंड्रोम, आंखों से पानी आना और जलन, धुंधली दृष्टि और यहां तक ​​कि ग्लूकोमा भी हो सकता है, जिसके प्रभाव अपरिवर्तनीय हो सकते हैं। स्वाभाविक रूप से ये घटनाएं मुंबई, दिल्ली, उलानबटार, जकार्ता और हनोई जैसे बड़े शहरों में होने की अधिक संभावना है, क्योंकि यहां एक केंद्रित क्षेत्र में बड़ी मात्रा में उत्सर्जन होता है।

आंखें मानव शरीर का अमूल्य अंग हैं। इसलिए हमारी आंखों को प्रदूषकों से विशेष सुरक्षा की जरूरत होती है। इस आर्टिकल में आंखों को प्रदूषण से बचाने के अलग-अलग तरीकों और आंखों की देखभाल के अन्य उपायों के बारे में बताया गया है।

वायु प्रदूषक – Air Pollutants

वायु प्रदूषण नेत्र रोग पैदा करने वाले टॉप पांच जोखिम कारकों में से एक है। हमारी आंखें हवा में गंदगी और बाहरी कणों के प्रति भी बहुत संवेदनशील होती हैं। वायु प्रदूषक अड़चन के रूप में कार्य कर सकते हैं और हमारी आंखों में सूजन को बढ़ा सकते हैं। प्रदूषित हवा और धुंध में नाइट्रिक ऑक्साइड, सल्फर और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड जैसी हानिकारक गैसों के उच्च स्तर होते हैं जो आंखों की बीमारी का कारण बनते हैं।

ऑटोमोबाइल (ईंधन का अधूरा दहन), कारखाने (रासायनिक धुएं), फसल और कृषि अपशिष्ट जलना और एयर-कंडीशनर (सीएफसी) वायु प्रदूषण के प्रमुख स्रोत हैं और इससे स्मॉग का निर्माण हो सकता है। स्मॉग कोहरे और धुएं का एक संयोजन है जो जमीन के पास हवा की घनी परत बनाता है। यह तब बनता है जब निचले वातावरण में प्रदूषक गैसों और सूर्य के प्रकाश के बीच प्रतिक्रिया होती है। अन्य वायु प्रदूषकों में आर्सेनिक, एस्बेस्टस, बेंजीन, लीड और डाइऑक्सिन शामिल हैं।

प्रदूषण से होने वाली आंखों की समस्याएं – Pollution Se Hone Wali Eye Problems

आज से समय का एयर क्वालिटी इंडेक्स खतरनाक श्रेणी में आता है। इसलिए यह लक्षणों के साथ अलग-अलग आंखों की समस्या पैदा कर सकता है, जैसे-

  • आंखों में जलन 
  • सूजन के साथ लालपन
  • सूखी आंखें
  • पानी निकलना
  • खुजली
  • दृष्टि में कठिनाई
  • एलर्जिक रिएक्शन
  • आंखों में दर्द
  • असहजता

वायु प्रदूषण आपको संक्रामक रोगों और कॉर्नियल डेमेज की चपेट में भी लाता है। वायु प्रदूषण के कारण रासायनिक संपर्क से केमिकल कंजक्टिवाइटिस हो सकता है। लैक्रिमल पीएच को बदलकर प्रदूषक भी ओकुलर सतह में जलन पैदा कर सकते हैं। अल्ट्रावॉयलेट एक्सपोज़र और थर्मल प्रदूषण भी आंखों के विभिन्न हिस्सों में चोट और संक्रमण के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

कुछ शोध अध्ययनों से पता चला है कि दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर उतना ही हानिकारक है जितना कि रोज़ चालीस सिगरेट पीना। 

प्रदूषण से आंखों को बचाने के लिए टिप्स – Pollution Se Aankhon Ko Bachane Ke Liye Tips

आप अपनी आंखों को नीचे बताए गये टिप्स को फॉलो करके उन्हें प्रदूषण और प्रदूषण से होने वाली समस्याओं से बचा सकते हैं, जैसे-

चश्मे का प्रयोग करें

अपनी आंखों को प्रदूषण से बचाने का सबसे अच्छा तरीका एक्सपोजर से बचना है। सबसे अच्छा तरीका यह है कि जितना हो सके घर के अंदर रहें और खासतौर से उन दिनों या दिन के निश्चित समय में जब वायु प्रदूषण अपने चरम पर होता है। लेकिन हमेशा घर के अंदर रहना भी संभव नहीं है, इसलिए चश्मे का प्रयोग करें। सुरक्षात्मक चश्मा पहनने से प्रदूषकों और जहरीली गैसों के संपर्क में आने का खतरा कम हो जाता है। आपकी आंखों को हानिकारक यूवी किरणों और डिजिटल उपकरणों की नीली किरणों से बचाने के लिए कुछ प्रोटेक्टिव ग्लास स्पेशल कोटिंग्स के साथ आते हैं।

अपने हाथ और आंखें धोकर स्वच्छता बनाए रखें

जितना हो सके अपनी आंखों को छूने से बचें। ऐसा करने से पहले आप अपने हाथों को साबुन और पानी से ज़रूर साफ करें। इससे संदूषण की संभावना कम हो जाती है। साथ ही किसी खास स्थिति में अगर आपकी आंखों में थकान या जलन महसूस हो ,तो उन्हें साफ पानी से धो लें। 

खुद को हाइड्रेट रखें

प्रदूषण के कारण होने वाली आंखों की समस्याओं को रोकने के लिए हाइड्रेशन भी ज़रूरी है। हमारी टियर फिल्म आंखों से गंदगी और बाहरी कण को लगातार हटाने में मदद करती हैं और इस प्रकार उनकी रक्षा करती है। अपने आप को हाइड्रेटेड रखने से टियर फिल्म का निर्माण अधिक कुशलता से सुनिश्चित होता है। इसके अलावा अपने आप को हाइड्रेटेड रखने से सूखी आंख और जलन जैसी समस्याओं से बचा जा सकता है। आंखों को ड्राई होने से बचाने के लिए रोजाना कम से कम तीन से चार लीटर पानी पीना जरूरी है।

अपनी आंखें ना रगड़ें 

कई मामलों में हम अपनी आंखों को रगड़ना चाहते हैं, लेकिन इसे बंद करना होगा। प्रदूषकों के संपर्क में आने से होने वाली जलन की अनुभूति हमें अपनी आंखें मलने पर मजबूर कर देती है। हालांकि ऐसा करने से स्थिति और खराब हो सकती है। आंखों को रगड़ने से जलन बढ़ सकती है और यहाँ तक कि जलन भी हो सकती है। साथ ही दूषित हाथों से आंखों को रगड़ने से आपकी आंखों में संक्रमण का खतरा पैदा हो जाएगा। इसके बजाय अपनी आंखों को साफ हाथों और ठंडे पानी से धोएं। यह लक्षणों को कम करने में मदद करेगा।

हेल्दी डाइट का पालन करें

आंखों के अच्छे स्वास्थ्य और मजबूत इम्यून सिस्टम को बनाए रखने में आहार एक प्रमुख भूमिका निभाता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप अपने आहार में स्वस्थ खाद्य पदार्थों को शामिल करें जो आपके शरीर के डिफेंस मेकेनिज़्म को बढ़ाता है। मछली, एवोकाडो, अखरोट जैसे ओमेगा-3-फैटी एसिड युक्त खाद्य पदार्थ आपके आहार का हिस्सा होना चाहिए। अन्य चीज़ों में जामुन, हरी पत्तेदार सब्जियां, गाजर और फल शामिल होने चाहिए। ये खाद्य पदार्थ इम्यूनोमॉड्यूलेटरी और प्रकृति में एंटी-इनफ्लेमेट्री हैं। यह हमारे इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है और सूजन की संभावना को कम करता है। 

आई ड्रॉप का इस्तेमाल करें

आई ड्रॉप आपकी आंखों को हाइड्रेट और लुब्रिकेटेड रखने में मदद करते हैं। आई ड्रॉप्स हमारी कॉर्नियल परत को नम बनाए रखने में भी मदद करते हैं और हमारी आंखों को माइक्रोब्स और प्रदूषकों से बचाते हैं। आंखों को दिन में दो या तीन बार लुब्रिकेट करने से आंखों की मांसपेशियों को आराम मिलता है। हालांकि अगर आपको पहले से कोई समस्या है, तो आपको किसी भी आई ड्रॉप का उपयोग करने से पहले एक नेत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श करने की आवश्यकता है। 

ठंडा सेक करें

सूजन को कम करने के लिए कोल्ड कंप्रेस यानी ठंडा सेक बहुत अच्छा काम करता है। कोल्ड कंप्रेस खुजली और जलन को शांत करता है। ठंडे पानी में डूबा हुआ एक साफ कपड़ा खुजली और जलन से राहत दिलाने में सहायक होता है। माइक्रोफाइबर के साथ साफ कपड़े के टुकड़े में लिपटे बर्फ के साथ घर का बना आइसपैक भी वायु प्रदूषण के कारण होने वाली जलन को कम करने के लिए उपयोगी होता है। 

स्क्रीन टाइम कम करें

स्क्रीन टाइम कम करने से वायु प्रदूषण के कारण आंखों के तनाव और आपकी आंखों पर पड़ने वाले प्रभाव को कम करने में मदद मिल सकती है। डिजिटल उपकरण से निकलने वाली नीली रोशनी वायु प्रदूषण के कारण होने वाली आंखों की समस्याओं को और खराब कर सकती है। हर तीन घंटे में 10 से 15 मिनट के लिए शॉर्ट ब्रेक लेने से आंखों का तनाव दूर होता है।

इंडोर एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल करें 

इंडोर एयर प्यूरीफायर का उपयोग आपके घर के अंदर हवा की क्वालिटी में सुधार करने में मदद करता है, जिससे आपकी आंखों को बाहरी जोखिम और दूषित पदार्थों से रिकवर होने में मदद मिलती है। स्वच्छ हवा आपकी आंखों को आराम देने में मदद करेगी और प्राकृतिक रक्षा तंत्र को आराम देगी जिससे जलन और आंखों का तनाव कम होगा।

नियमित आंखों की जांच के लिए जाएं

अपनी आंखों के चेकअप रूटीन का अच्छे से पालन करने की कोशिश करें। यह किसी भी प्रकार की समस्या या मामूली लक्षणों का पता लगाने में मदद करेगा जो शुरुआती स्टेज में समस्या का इलाज करने में मदद करते हैं। यह ठीक होने की उचित संभावना सुनिश्चित करेगा और जटिलताओं के जोखिम को कम करेगा। साथ ही नियमित जांच से आपको अपनी आंखों के पूरे स्वास्थ्य स्थिति को समझने में मदद मिलती है और खुद दवा लेने की भी संभावना कम हो जाती है।

कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग करने के लिए विशेष सावधानियां

आंखों में लालपन या जलन के मामले में कॉन्टैक्ट लेंस के उपयोग से बचें, जब तक कि ऐसा करने के लिए आपके नेत्र रोग विशेषज्ञ द्वारा न कहा जाए। यदि आपको कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग करने की आवश्यकता है, तो आप प्रदूषकों के संपर्क को सीमित करने के लिए ज़ीरो पावर प्रोटेक्टिव ग्लास पहन सकते हैं। अपने कॉन्टैक्ट लेंस को स्टोर करते समय उचित देखभाल करें। हर बार उपयोग के बाद अपना लेंस सॉल्यूशन बदलें। कॉन्टैक्ट लेंस का अनुचित स्टोरेज और प्रदूषण के अत्यधिक संपर्क से आंखों में संक्रमण हो सकता है। यदि कॉन्टैक्ट लेंस पहनते समय आपको कोई असुविधा महसूस हो रही है, तो उन्हें तुरंत हटा दें और आई ड्रॉप का उपयोग करें। लक्षण बने रहने या बिगड़ने की स्थिति में अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलें।

आई मेकअप का इस्तेमाल करने के लिए विशेष सावधानियां

पहले से सूजी हुई आंख में आई मेकअप का इस्तेमाल करने से लक्षण और खराब हो सकते हैं। यह आंखों में आपकी परेशानी को बढ़ा सकते हैं। हाइपो-एलर्जिक आई मेकअप का इस्तेमाल करें। इसके अलावा सोने से पहले आई मेकअप रिमूवर से आंखों का मेकअप ठीक से हटा लें। अगर मेकअप ठीक से साफ नहीं होता है, तो आंखों के बचे हुए मेकअप से एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है।

आई-केयर रूटीन का पालन करें

अपनी आंखों की देखभाल के अलावा आई मास्क लगाने से भी आराम मिलता है और आपकी आंखों में ताजगी आती है। हफ्ते में एक बार आई मास्क लगाने से हमारी नाजुक आंखों को फायदा होता है और आसपास की त्वचा का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। आई मास्क का उपयोग करने के लाभों में सूजन को दूर करना, काले घेरे कम करना, थकान कम करना, त्वचा को मॉइस्चराइज़ करना, त्वचा को कसने में मदद करना, आराम करना और आपकी आंखों को ऊर्जा प्रदान करना शामिल है।

आंखें हमारे शरीर का विशेष नाजुक अंग हैं। प्रदूषण के खतरनाक स्तर से जूझने के बाद उन्हें विशेष देखभाल की ज़रूरत होती है। अच्छी स्वच्छता बनाए रखने के साथ नियमित आंखों की जांच की अपॉइंटमेंट्स को छोड़ने से बचें। आई मंत्रा सुपर-स्पेशलिटी हॉस्पिटल में सभी प्रकार की आंखों की समस्या का इलाज सही दृष्टिकोण से किया जाता है। हमारे विशेषज्ञ आंखों की किसी भी समस्या के मूल कारण को समझने के लिए व्यापक नेत्र परीक्षण करते हैं।

निष्कर्ष – Nishkarsh

आंखों की ऑप्टिकल केयर करना बहुत ज़रूरी है। प्रदूषण के जोखिम को कम करने के लिए सभी ज़रूरी उपाय करना अनिवार्य है। अपने घर से बाहर निकलने से पहले एयर क्वालिटी इंडेक्स की जांच करें और आवश्यक सावधानी बरतें। अगर आवश्यक हो तो ही अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों की यात्रा करें। यात्रा के दौरान अपनी कार की खिड़कियां बंद कर लें। यदि कोई एलर्जिक रिएक्शन होता है, तो मेडिकल उपचार लें।

प्रदूषण एक बहुत बड़ा खतरा साबित हुआ है, जो कई व्यक्तियों के पूरे स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है। आंखों की उचित और समय पर देखभाल आपको कई तरह की आंखों की बीमारियों से बचा सकती है। अपनी आंखों की पावर बढ़ाने और अपनी आंखों की रोशनी को तरोताजा करने के लिए आंखों की एक्सरसाइज़ करें। 

अपनी आंखों की समस्याओं के परामर्श के लिए कृपया आईमंत्रा हॉस्पिटल पर विज़िट करें। आप हमारी वेबसाइट eyemantra.in से भी जानकारी ले सकते हैं। नेत्र रोग विशेषज्ञों की हमारी टीम आपकी आंखों की पूरी देखभाल करेगी और आपकी आंखों के बारे में पूरी स्पष्टता के साथ आपको समझाएगी। 

आई मंत्रा में अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए अभी +91-9711115191 पर कॉल करें या eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हम रेटिना सर्जरीचश्मा हटानालेसिक सर्जरीभेंगापनमोतियाबिंद सर्जरी और ग्लूकोमा सर्जरी सहित और कई सेवाएं भी प्रदान करते हैं। 

 

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors