पलकों का फड़कना: कारण, रोकथाम और कब डॉक्टरी जांच ज़रूरी

Eyelid Twitch

पलकों का फड़कना: कारण, रोकथाम और कब डॉक्टरी जांच ज़रूरी – Palkon ke Phadakna (Eyelid Twitch): Karan, Roktham Aur Kab Doctory Janch Zaruri

पलकों का फड़कना (Eyelid Twitch) बहुत ही आम बात है। इसे आप ऊपरी या निचली पलकों में महसूस कर सकते हैं। क्योंकि हमारा शरीर बहुत सारी मांसपेशियों से बना है, तो कई बार मांसपेशियों में ऐंठन भी होती है। ज़्यादातर समय यह कोई नुकसान नहीं पहुंचाता और सेकेंड्स में ठीक हो जाता है। अगर पलकों का फड़कना (Eyelid Twitch) कई दिनों तक चलता रहे, तो तुरंत अच्छे आँखों के डॉक्टर से सलाह लें।

एक आम इंसान 1 मिनट में 10 बार पलकें झपकता है। अगर आप इससे ज़्यादा बार पलकें झपकते हैं और साथ ही, कई बार चेहरे की मांसपेशियों के साथ पलके फड़क रही हैं, तो यह एक संकेत है गंभीर बीमारी का। इसके इलाज के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। 

पलक फड़कने के कारण

कभी-कभी, मस्तिष्क में विद्युत गतिविधि तंत्रिका कोशिकाओं को मांसपेशियों के संकेतों को फ्लैश करने का कारण बनती है, जिससे चिकोटी का कारण बनता है। इस तरह की ऐंठन किसी भी आंतरिक या बाहरी उत्तेजनाओं से नहीं निकलती है, और वे लंबे समय तक नहीं रहती हैं।

एक बार की पलक मरोड़ना, सबसे अधिक संभावना है, इस घटना का एक परिणाम है।

आँख हिलाना शुरू हो सकता है या इससे बदतर हो सकता है:

  • तनाव,
  • थकान और नींद की कमी,
  • आंख पर जोर,
  • पोषण संबंधी समस्याएं,
  • धूम्रपान, शराब, या कैफीन,
  • दवा दुष्प्रभाव,
  • एलर्जी,
  • तेज प्रकाश,
  • आंखों की सतह या भीतरी पलकों में जलन,
  • अनुचित प्रदूषण में नेत्र देखभाल

ब्लेफ़रोस्पाज़्म

यदि जुड़वाँ जीर्ण हो जाते हैं, तो आपके पास “सौम्य आवश्यक रक्तस्रावी” हो सकता है। दूसरे शब्दों में, पुरानी और बेकाबू पलक या पलक।

यह नेत्र रोग आम तौर पर दोनों आंखों को प्रभावित करता है और इसकी स्थिति का सटीक कारण अज्ञात है। हालांकि, निम्नलिखित ऐंठन को बदतर बना सकता है:

  • नेत्र फ्लू, नेत्रश्लेष्मलाशोथ, या पिंक,
  • ब्लेफेराइटिस, या पलक की सूजन,
  • सूखी आँखें ,
  • पर्यावरण से परेशान, जैसे हवा, तेज रोशनी, सूरज, या वायु प्रदूषण,
  • थकान,
  • प्रकाश संवेदनशीलता,
  • तनाव,
  • बहुत अधिक शराब या कैफीन,
  • धूम्रपान।

पुरुषों में पुरुषों की तुलना में सौम्य एसेंशियल ब्लेफरोस्पाज्म अधिक आम है। और यह आमतौर पर मध्य से देर से वयस्कता में विकसित होता है।

हालत समय के साथ खराब हो जाएगा, और यह अंततः कारण हो सकता है:

Eyelid Twitch

 

पलक फड़कने (Eyelid Twitch) के कारण-

Palak Phadakne Ke Karan

जब हमारा दिमाग, नर्वस सिस्टम के ज़रिए संदेश भेजता है, तो इसी प्रकार का फड़कना आप शरीर के अलग-अलग हिस्सों में महसूस कर सकते हैं। ये कुछ सेकेंड तक ही रहता है।

ज़्यादा समय तक पलकों के फड़कने का कारणः
  • तनाव
  • थकान और नींद की कमी
  • आँख पर ज़ोर 
  • पोषण संबंधी समस्याएँ
  • धुम्रपान, शराब और कैफीन
  • दवा के दुष्प्रभाव
  • एलर्जी
  • तेज़ प्रकाश
  • आँखों की सतह या अंदरूनी पलकों में जलन
  • प्रदूषण में आँखों की सही देखभाल न करना
  •  
 ब्लेफ़रोस्पाज़्म- Blepharospasm
Blepharospasm
Eye Mantra

यह एक न्यूरोलॉजिक बीमारी है। वैसे, तो पलकों को फड़कने से किसी भी प्रकार का दर्द नहीं होता। लेकिन इसका ज़्यादा फड़कना (Eyelid Twitch)  या चेहरे की मांसपेशियों के साथ फड़कने का मतलब है कि आप ब्लेफ़रोस्पाज़्म के शिकार हैं। जो लंबे समय तक चल सकती है।

इन स्थितियों में ये गंभीर रूप ले लेती हैः
  • आँखों के फ्लू के दौरान
  • ब्लेफेराइटिस या पलक की सूजन
  • सूखी आँखें 
  • पर्यावरण से परेशान, जैसे हवा, तेज़ रोशनी, सूरज या वायु प्रदूषण
  • थकान
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
  • तनाव
  • बहुत अधिक शराब या कैफीन
  • धूम्रपान
पुरूषों की तुलना में शुरुआती हल्का ब्लेफ़रोस्पाज़्म  महिलाओं में काफी आम है। ये मध्य उम्र के लोगों में विकसित होता है। समय के साथ हालात और खराब हो जाते हैं। जिससे इन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

सामान्य पलक फड़कने (Eyelid Twitch) की रोकथाम-

Samanaye Palak Phadkne Ki Roktham

दिनचर्या में बदलाव
  • क्योंकि तनाव, आँख के फड़कने के सबसे सामान्य कारणों में से एक है। कुछ तकनीक आपके तनाव को कम कर सकते हैं, जिससे आँखों का फड़कना (Eyelid Twitch) कम हो जाता है। जैसे- योग, ब्रीथिंग एक्सरसाइज़, आँखों की एक्सरसाइज़, दोस्तों या पालतू जानवरों के साथ समय बिताना आदि।
कम सोना
  • कम सोना या अच्छी नींद का न होना भी पलक फड़कने का कारण हो सकता है। अच्छी नींद के लिए सोते वक्त संगीत का सहारा ले सकते हैं। 

 

आँखों के तनाव को कम करें
कंप्यूटर और फोन पर ज़्यादा काम करने से आँखों पर तनाव पड़ता है। जिसकी वजह से पलकों के फड़कने की समस्या पैदा हो सकती है। इसलिए डिजिटल उपकरणों का उपयोग करते समय ” 20-20-20 नियम ” का पालन करें : हर 20 मिनट मे, 20 सेकेंड के लिए 20 फुट दूर किसी चीज़ को देखें। यह थकावट को कम करता है। आप अपने डॉक्टर से एंटीग्लेयर और ब्लू रे ग्लासों के बारे में भी पूछ सकते हैं ताकि कंप्यूटरआई सिंड्रोम से राहत मिल सके।
खान-पान में बदलाव
कैफीन  के अधिक सेवन से आँखों का फड़कना (Eyelid Twitch) बढ़ सकता है। 1, 2 सप्ताह के लिए कॉफी , चाय और शीतल पेय (या डिकैफ़िनेटेड संस्करणों पर स्विच) के सेवन को कम करने की कोशिश करें और देखें कि क्या आपकी आँख का फड़कना (Eyelid Twitch) गायब हो गया है।                                                                                                                                                                                                  
यदि आप किसी भी प्रकार की शराब पीने के बाद पलकों का फड़कना (Eyelid Twitch)महसूस कर रहे हैं, तो थोड़ी देर के लिए संयम का प्रयास करें , क्योंकि शराब का सेवन पलक फड़कने का कारण हो सकता है।
अच्छा खान-पान रखें। आहार की कमी से भी पलकें फड़कना (Eyelid Twitch) शुरू कर सकती है। इसलिए खान-पान का विशेष ध्यान दें। ये भविष्य में दृष्टि को बेहतर बनाने के लिए भी आपकी मदद करेगी।
आँखों का रखें खास ख़्याल
  • सुखी आँखें भी इसका कारण हो सकती हैं। खास कर उन लोगों में जिनकी उम्र 50 साल से अधिक है। सुखी आँखों की समस्या उन लोगों में अधिक होती है, जो कंप्यूटर का इस्तेमाल ज़्यादा करते हैं। ऐसा होने पर तुरंत आँखों के डॉक्टर से इसकी जांच करवाएं। जो आपकी आँखों में नमी बनाने के लिए कई उपाय दे सकता है।
आँखों की एलर्जी वाले लोगों में खुजली, सूजन और आँखों से पानी आने के लक्षण हो सकते हैं। लक्षणों के कारण अपनी आँखों को रगड़ने से आपकी पलके हिस्टमीन नामक द्रव्य छोड़ती हैं। जिससे आँखों में जलन हो सकती है और पलकों के टिशू फट सकते हैं। जो पलकों के फड़कने का कारण हो सकता है। इसे ठीक करने के लिए आई ड्रॉप्स मौजूद हैं पर इन ड्रॉप्स में एंटीथिस्टेमाइंस  होता है, जो सूखी आँखें पैदा कर सकता है। इसी लिए खुद से कोई भी इलाज न करें और एलर्जी के साथ आँखों की फड़कने की समस्या को दूर करने के लिए तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।
ब्लेफ़रोस्पाज़्म के उपचार- Blepharospasm Ke Upchar
  • आँखों पर लगाया जाने वाला बोटॉक्स या बोटुलिनम टॉक्सीन का इंजेक्शन कभी-कभी हल्के ब्लेफ़रोस्पाज़म के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। बोटोक्स कुछ महीनों के लिए गंभीर ऐंठन को कम कर सकता है। हालाँकि, इंजेक्शन के प्रभाव के कारण, आपको और खुराक की आवश्यकता हो सकती है।
  • पलकों (मायेक्टॉमी) में कुछ मांसपेशियों और नसों को हटाने के लिए आई मस्कुलर सर्जरी 

गंभीर रूप से शुरू होने वाले शुरुआती हल्के ब्लेफरोस्पाज्म के और भी गंभीर मामलों का इलाज कर सकती है।

पलक फड़कने के जटिल मामलें- Palak Phadkne Ke Jatil Mamlen

बहुत कम ही बार पलकों का फड़कना (Eyelid Twitch), दिमाग और नर्वस सिस्टम की दिक्कतों का लक्षण हो सकता है। जब भी पलकों का फड़कना (Eyelid Twitch) गंभीर रूप ले लेता है, तो इसके साथ आपको अन्य लक्षण भी नज़र आएंगे।

दिमाग और नर्वस सिस्टम में होने वाली गड़बड़ी, जिसकी वजह से पलकों के फड़कने की समस्या हो सकती हैः
बेल का पाल्सी या चेहरे का पाल्सी–  यह एक ऐसी अस्थायी स्थिति है,
 जब चेहरे के नर्वस पर चोट लगने के कारण आपके चेहरे के एक हिस्से को लकवा मार जाता है। चेहरे के एक तरफ के नर्वस काम करना बंद कर देता है और एक हिस्सा नीचे की ओर लटक जाता है।आमतौर पर, यह माना जाता है कि यह एक वायरल संक्रमण द्वारा लाया जाता है।
डायस्टोनिया–  इस बीमारी में आपके शरीर के किसी भी हिस्से में अप्रत्यक्ष रूप से ऐंठन शुरू हो जाती है।
सरवाइकल डिस्टोनिया या स्पस्मोडिक टॉर्टिकोलिस– इस बीमारी के कारण आप गर्दन  और सर में ऐंठन को महसूस कर सकते हैं।
मीज सिंड्रोम– यह एक दुर्लभ न्यूरोलॉजिकल विकार है। इसमें  गाल, मुंह, जीभ और गर्दन में एक साथ ऐंठन होती है।
मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस)– यह केंद्रीय नर्वस सिस्टम की एक बीमारी है । जो आपके सोचने समझने की शक्ति, यहां तक चलने फिरने की शक्ति को प्रभावित करती है। जिससे आप कमज़ोरी महसूस कर सकत हैं। 
पार्किंसंस रोग- यह नर्वस सिस्टम में होने वाला रोग है, जो कई शारीरिक गतिविधियों को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है। इससे हाथों में कंपकंपी, पूरे शरीर में अकड़न या मूवमेंट का धीमा होना हो सकता है।  
टारडिव डिस्किनीशिया–  चेहरे व शरीर के कुछ भागों में अनैच्छिक रूप से असमान्य गतिविधि होने की स्थिति को ‘टारडिव डिस्किनीशिया’ कहते हैं। यह कुछ प्रकार की एंटीसायकोटिक दवाओं के साइड इफेक्ट के रूप में विकसित होता है। इन दवाओं का इस्तेमाल कुछ मांसिक रोगों का इलाज करने के लिए किया जाता है।
टॉरेट सिंड्रोम-  तन-मन बार-बार किसी तरह की अनियंत्रित मसल्स एक्टिविटी होना या मुंह, गले व नाक से किसी तरह की आवाज निकालना
टॉरेट सिंड्रोम के लक्षण होते हैं। इससे ज़्यादातर लोग अनजान हैं, क्योंकि इसके लक्षण संबंधित व्यक्ति की आदत के तौर पर दिखाई देते हैं। यह सिंड्रोम बच्चों को 2 से 14 साल की उम्र में होता है, जो पूरी उम्र रहता है।
कॉर्निया पर अनियंत्रित खरोंच भी पलकों की ऐंठन का कारण बन सकता है।
कम विकसित पलकें और अंदर की ओर उगी पलकें, पलक फड़कने का कारण हो सकती है।
पलकों का इंफेक्शन या  ब्लेफराइटिस- ब्लेफराइटिस पलकों की सूजन है। यह पीड़ादायक, लाल पलकों और पपड़ीदार बरौनियों का एक आम कारण है। इसमें लोग कई बार सुबह उठते वक्त पलकों के चिपकने को महसूस करते हैं। पलकों के फड़कने का यह भी कारण हो सकता है।
मुड़ी हुई पलकें या एन्ट्रोपियन- इस स्थिति में पलकें अंदर की ओर मुड़ जाती है और आँखों की सतह से रगड खाने लगती है। जब ऐसा होता है तो अक्सर यह आपके लिए जलन और ‎परेशानी का कारण बनता है। 

न्यूरोलॉजिकल डिसफंक्शन या नर्वस सिस्टम में बैचेनी की बजाय,ये सभी कारण हो सकते हैं जिसकी वजह से पलकें फड़कती हैं।

अगर आपको लगता है कि आपको आँख में चोट लगी है , तो अपने आँखों के डॉक्टर से तुरंत परामर्श लें। कॉर्नियल पर खरोंच से आँखों की स्थायी क्षति और दृष्टि का नुकसान हो सकता है।

आपको डॉक्टर से कब मिलना चाहिए
Eye Mantra
Eye Mantra

पलकों में होने वाली ऐंठन एक आम बात है और डॉक्टर को दिखाए बगैर ही कुछ सेकेंड्स में ठीक हो जाती है। लेकिन पुरानी पलकों की ऐंठन या लंबे समय तक चलने वाली पलकों की ऐंठन, दिमाग और नर्वस सिस्टम में हो रही कुछ दिक्कतों का लक्षण भी हो सकती है।

अगर आपको निम्नलिखित लक्षणों में से कोई भी महसूस हो रही है, तो अपने आँखों के डॉक्टर से परामर्श लेंः
  • एक आँख लाल, पलके सूजी हुई है या एक असामान्य निर्वहन है
  • आपकी ऊपरी पलक झपक रही है
  • पलक का अनुभव करने पर हर बार एक पलक पूरी तरह से बंद हो जाती है
  • पलक फड़कना ((Eyelid Twitch)) कई हफ्तों से जारी है
  • आपके चेहरे के अन्य हिस्सों पर फड़कने का असर होने लगा है
सारांश

पलक फड़कने के कई कारण हो सकते हैं और हर व्यक्ति का इलाज एक दूसरे से अलग होता है। 

इसका मुख्य कारण तनाव, नींद की कमी और जीवनशैली से जुड़े अन्य कारक हैं। इसके अनुवांशिक होने पर अभी शोध अभी जारी है। पलकों का फड़कना (Eyelid Twitch) खराब स्वास्थ्य के कारण भी हो सकता है, तो हमें स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए।

अगर आपकी पलकें कुछ दिनों से फड़क रही हैं या आप ऊपर दिए गए किसी भी गंभीर लक्षण को महसूस कर रहें हैं, तो EyeMantra में डॉक्टर से सलाह लें ।

अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए + 91-8851044355 पर अभी कॉल करें ।

या आप eyemantra1@gmail.com पर मेल कर सकते हैं ।

हमारी अन्य सेवाओं में मोतियाबिंद सर्जरी , रेटिना सर्जरी , चश्मा हटाना आदि शामिल हैं।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors