प्रदूषण से आँखों की देखभाल के लिए बेस्ट टिप्स – Pradushan Se Ankhon Ki Dekhbhal Ke Liye Best Tips

Eye Care in Pollution

प्रदूषण में आंखों की देखभाल (eye care in pollution)

Pradushan Mein Ankhon ki Dekhbhal

eye care in pollution। आंखें हमारे शरीर के सबसे नाजुक अंगों में से एक हैं। कई बार रसायनों और हवा में मौजूद प्रदूषण के कारण आंखों में एलर्जी हो जाती है। कुछ लोग देख महसूस कर सकते हैं कि हवा की गुणवत्ता खराब होने के दिनों में उनकी आँखों में खुजली, सूखापन के साथ आंखें लाल रंग की हो जाती है। भारी प्रदूषण में रहते हुए आंखों की देखभाल एक महत्वपूर्ण जरूरत है। जब संक्रमण और बीमारियों की बात आती है, तो प्रदूषण एक निमंत्रण के रूप में काम करने के लिए जाना जाता है। जो बड़े पैमाने पर आंखों के स्वास्थ्य और देखभाल को नुकसान पहुंचाता है। इसलिए हमें प्रदूषण में आँखों का ज़्यादा ध्यान रखने की ज़रूरत है (eye care in pollution).

विशेष रूप से वायु प्रदूषण को शीर्ष 5 कारणों में माना जाता है। जो सभी आयु के लोगों के लिए विभिन्न प्रकार के आंखों के रोग ला सकते हैं। यह बुजुर्गों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है, इसलिए बुजुर्गों में आंखों की देखभाल और भी जरूरी है। प्रदूषण में वृद्धि ने आंखों की कई समस्याओं को जन्म दिया है। इसकी वजह से आंखों का लाल होना, आंखों से पानी निकलना और जलन पैदा करता है। वायु प्रदूषण और आंखों पर इसका बुरा प्रभाव मुख्य रूप से नाइट्रिक ऑक्साइड, सल्फर और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड से युक्त प्रदूषकों की उपलब्धता के कारण होता है। हवा में ऐसे रसायनों की उपस्थिति से आंखों में जलन होती है। वायु प्रदूषक अस्थायी रूप से आंखों में जलन या संवेदना पैदा करते हैं।

कुछ देर बाद आंखें अपने आप साफ हो जाती हैं। हमारी आंखें आंखों में बने छोटे छेदों के माध्यम से लगातार बहुत कम मात्रा में आंसू निकालती है। आंसू लगातार आंखों की सफाई करते हैं और उन्हें प्रदूषण से बचाते हैं। अगर आप अपनी आंखों को कई तरह की बीमारियों से बचाना चाहते हैं, तो प्रदूषण से आंखों की उचित देखभाल जरूरी है।

आंखों पर पर्यावरण और प्रदूषण का प्रभाव और कैसे रखें आँखों की देखभाल

(Effect of environment and pollution on eyes and eye care in pollution)

Ankhon Par Paryavaran Aur Pradushan Ka Prabhav
eye care in pollution

 

प्रदूषण ने मानव स्वास्थ्य को कई तरह से प्रभावित किया है। लेकिन जब आंखों की बात आती है तो, इस बात के बहुत से सबूत हैं कि प्रदूषण आंखों को नुकसान पहुंचा रहा है। हमारी आंखें बहुत ही नाजुक और बहुत ही संवेदनशील होती हैं। यदि आप कभी भी अपनी आंखों में धूल या रेत के एक छोटे से कण के कारण होने वाली परेशानी से गुजरे हैं। तो आप इसमें होने वाली जलन की भावना को जानते हैं।

हालांकि प्रदूषण धूल और रेत की तुलना में थोड़ा पेचीदा है, लेकिन लंबे समय में यह हमारी आंखों पर बुरा प्रभाव डाल सकता है। वायु प्रदूषण के लक्षण, न्यूनतम और शून्य लक्षणों से लेकर लगातार बेचैनी और आंखों में जलन तक हो सकते हैं।।विशिष्ट स्थितियां भी हो सकती हैं। हमें प्रदूषण में आँखों का ज़्यादा ध्यान रखने की ज़रूरत है (eye care in pollution) । विशेष रूप से कॉन्टैक्ट लेंस पहनने वालों के लिए, जब प्रदूषण से आंखों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। कई इनडोर और बाहरी वातावरण में प्रदूषण की उपस्थिति के बावजूद, हमारी आंखों पर प्रदूषण के प्रभाव को नजरअंदाज कर दिया जाता है।

विशेषज्ञों ने बताया है कि 20 से 40 साल तक के लोगों को प्रदूषण के कारण आंखों से संबंधित समस्याओं का अधिक खतरा होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अधिक समय तक बाहर रहते हैं। वहीं, बुजुर्गों की आंखों की देखभाल में सुधार हुआ है। दिल्ली में मौजूद आंखों के अस्पतालों ने यह स्पष्ट किया है कि प्रदूषण से संबंधित आंखों की समस्याएं जीवन के लिए खतरा नहीं हैं, लेकिन वे भारी नुकसान पहुंचा सकती हैं।

आंखों पर प्रदूषण के प्रभावों के लक्षण

  • आंखों से पानी आना
  • आंखों में जलन
  • आंखों में खुजली का होना
  • आंखों में बैचेनी
  • आंखों में दर्द होना
  • आंखों का लाल होना
  • आंखों के पास सुजन

आंखों की एलर्जी

आंखों की एलर्जी कभी कम या गंभीर हो सकती है। जिसके लक्ष्ण हैं, आंखों में लालपन, पानी का निकलना, पलकों का सूज जाना, आंखों में जलन और आंखों के संक्रमण का बढ़ता जोखिम। इन सभी को आंखों में डालने वाले ड्रॉप की मदद से ठीक किया जा सकता है।

कैमिकल कंजक्टिविटीज़

दोपहर के 2 बजे से लेकर रात के 10 बजे तक के अलावा हवा में बहुत से प्रदूषक पदार्थ मौजूद रहते हैं। जैसे, सल्फर डाइऑक्साइड, नाइट्रस ऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और अन्य रसायन होते हैं जो आंखों के लिए समान रूप से हानिकारक होते हैं। इन सभी प्रदूषक कंजक्टिविटीज़ के लक्ष्ण पैदा करते हैं। इसलिए हम इन्हें कैमिलक कंजक्टिविटीज़ कहते हैं। प्रदूषक और रसायन मिलकर आंखों की बाहरी सतह को नुकसान पहुंचाते हैं। जिसे कंजंक्टिवा कहते हैं। कंजंक्टिवा पर्यावरण के सीधे संपर्क में है और इसलिए, वायु प्रदूषकों का इस पर सीधा असर होता है।

आंखों का सूख जाना

eye care in pollution
ड्राई आई सिंड्रोम: EyeMantra (eye care in pollution)

हमारे शरीर और अंगों के बाकी हिस्सों की तरह ही आंखों को भी हाइड्रेशन की जरूरत होती है। हाइड्रेटेड रहने के लिए, आंखों में मौजूद नलियां आंसू पैदा करती हैं जो आंखों को नम करती हैं। ये प्राकृतिक आंसू सिर्फ पानी नहीं हैं। इनमें तेल और बलगम भी होते हैं। पानी वह पर्दार्थ है जो मॉइस्चराइज़ करता है। तेल होने की वजह से आंखों का पानी जल्दी नहीं उड़ता। और अंत में, बलगम की उपस्थिति सुनिश्चित करती है कि नमी पूरी आंख में समान रूप से फैली हुई है। इन तीनों के बिना एक साथ काम करने से हमारी आंखों में हमेशा खुजली और सूखापन रहेगी।

इसलिए, भारी प्रदूषण के दिनों में, आंखों की देखभाल करना बेहद जरूरी हो जाता है। आंखों का सुखा होना एक बीमारी है। जो दो में से किसी एक के कारण हो सकती है। एक कि आंखों में आंसू का उत्पादन कम होता है या जब आँसू बहुत जल्दी सुख हो  हैं। इन दोनों स्थितियों के आंखे सूख और सूज जाती हैं। हालांकि, अभी तक यह सटीक रूप से पता नहीं लगाया जा सका है कि  प्रदूषण और रसायनों के किन कारणों से आंखें  सुख जाती हैं। विभिन्न अध्ययनों ने सुझाव दिया है कि अत्यधिक प्रदूषित वाले क्षेत्रों और हवा में नमी की  कमी के कारण ऐसा होता है। ज्यादा नमी वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को प्रदूषण से आंखों के सुखने की संभावना कम होती है।इसलिए प्रदूषण वालें इलाकों में आंखों की देखभाल ज्यादा करनी चाहिए।

कॉर्निया को पहुंचने वाला नुकसान

आंखों की पुतलियों पर एक पारदर्शी परत चढ़ी होती है। जिसे कॉर्निया कहा जाता है। ऐसे शहरी क्षेत्र हैं जहाँ वायु प्रदूषण स्मॉग (धुएँ और कोहरे का एक संयोजन) के रूप में पाया जाता है। कोहरा से आंखों को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है, लेकिन कोहरे में धुएं और औद्योगिक प्रदूषकों का होना आंखों के लिए गंभीर रूप से हानिकारक हो सकता है। इससे भी गंभीर बात यह है कि सुखी हुई आंखें, आंखों की सतह को नुकसान पहुंचा सकती हैं। लंबे समय तक प्रदूषण के संपर्क में रहने के कारण कॉर्निया में नुकसान पहुंचता है। यह तुरंत न होकर कुछ सालों में होता है। एक लंबे समय तक आंखों का सुखा रहना कॉर्निया को नुकसान पहुंचा सकता है। यह लंबे समय में दृष्टि को प्रभावित करता है। साथ ही, जलन होने पर आंखों को रगड़ने से कॉर्निया को नुकसान पहुंचेगा। अंत में क्षति का कारण इतना गंभीर हो सकता है कि किसी को कॉर्निया सर्जरी करवानी पड़ सकती है।

प्रदूषण में कैसे रखें आंखों का ध्यान

Pradushan Mein Kaise Rakhein Ankhon Ka Dhyan
eye care in pollution
Eye Mantra: eye care in pollution

जैसा कि हमने ऊपर देखा, प्रदूषण के प्रभाव से आंखें विशेष रूप से कमजोर होती हैं। तो कोशिश करें कि हवा में प्रदूषक आपकी आंखों में न जाए। सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, स्वीकार करें कि प्रदूषण और धुंध आपकी आंखों की देखभाल को कैसे प्रभावित कर रहे हैं। लालिमा, आंखों में जलन और धुंधली दृष्टि जैसे लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। किसी भी लक्षण का अनुभव होने पर या अगर खुजली और जलन लंबे समय तक बनी रहती है, तो तुरंत दिल्ली में मौजूद अपने आंखों के डॉक्टर से संपर्क करें।

यदि आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए आपने लेंस को अच्छी तरह से साफ किया है। सभी प्रदूषक कणों को हटा दिया गया है। जब भी आपको आंखों में परेशानी या खुजली महसूस हो, तो कॉन्टैक्ट लेंस पहनने से बचें। यदि हवा की गुणवत्ता कम है और आपको बाहर निकलना पड़ रहा है, तो कॉन्टैक्ट लेंस के साथ ज़ीरो पावर का चश्मा जरूर पहने। आंखों में खुजली और असहजता महसूस होने पर आई मेकअप के इस्तेमाल से बचें। काजल और मस्कारा लगाने से अक्सर आंखों की एलर्जी बढ़ जाती है। वे कभी-कभी संक्रमण का कारण बन सकते हैं। रसायनों के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए सोने से पहले आंखों का मेकअप हटाना न भूलें। आपकी आंखों के लिए स्मॉग के दुष्प्रभावों की जांच और नियंत्रण करने में आपकी मदद करने के लिए और सिफारिशें। इसलिए हमें प्रदूषण में आँखों का ज़्यादा ध्यान रखने की ज़रूरत है (eye care in pollution).

आंखों को प्रदूषण से बचाने के लिए क्या करें?

(eye care in pollution)

Ankhon Ko Pradushan Se Bachanein Ke Liye Kya Karein?
  • स्कूल/कॉलेज/काम से घर पहुंचने के बाद और सोने से पहले। अपने हाथों को बार-बार और अच्छी तरह साफ, बहते पानी से धोएं। 
  • खूब पानी पीकर अपने शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेट रखें। आंसू बनने के लिए हाइड्रेटेड रहना जरूरी है। ऐसा करना और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है जब बाहरी कारक जैसे, रसायन और स्मॉग आपको शुष्क आंखों का शिकार बनाते हैं।
  • जब भी आपको प्रदूषण में बाहर निकलना हो, तो कुछ सुरक्षात्मक चश्मा और शेड पहनें। यह प्रदूषकों के जोखिम को कम करने में मदद करेगा।
  • खाने में विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें। हरी पत्तेदार सब्जियां, खासकर पालक और पीली शिमला मिर्च और गाजर जैसी चमकीले रंग की सब्जियां आपकी आंखों के लिए फायदेमंद होती हैं। और इसी तरह उन्हें आई न्यूट्रिशन फूड्स के रूप में जाना जाता है।
  • इसके अलावा, ऐसे खाद्य पदार्थ शामिल करें जो ओमेगा 3 और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर हों। ये हैं मछली, हरी पत्तेदार सब्जियां, बादाम, अखरोट और जामुन। ये आंखों के लिए बेहद अच्छे होते हैं।
  • अपने घर के लिए एक अच्छी गुणवत्ता वाली वायु निकास प्रणाली स्थापित करें। यह एक महंगा सुझाव लग सकता है, लेकिन उस पैसे के बारे में सोचें जो आप डॉक्टर के पास बार-बार जाने से बचाएंगे। अपने घर में ह्यूमिडिफायर रखें।

आंखों को प्रदूषण से बचाने के लिए क्या न करें?

Ankhon Ko Pradushan Se Bachanein Ke Liye Kya Na Karein?
  • डॉक्टर की जांच के बिना के बिना आई सोल्यूशन (आई ड्रॉप) का उपयोग न करें।
  • स्मॉग के पीक आवर्स के दौरान बाहर जाने से बचने की कोशिश करें। जैसे सुबह का वक्त। 
  • अपनी आंखों को रगड़ने से बचें। भले ही कुछ कण उनमें प्रवेश कर जाएं।
  • सार्वजनिक या निजी परिवहन का उपयोग करते समय स्मॉग और प्रदूषण के संपर्क में आने से बचने की कोशिश करें। खिड़कियों को बंद रखने से आप बाहरी स्मॉग से बच सकते हैं।

निष्कर्ष

आप आंखों के डॉक्टर से ज़रूर मिलें। हम ऐसे समय और युग में जी रहे हैं, जहाँ वायु प्रदूषण लगभग हर जगह है। इसलिए हमें अपनी आंखों को हर तरह से बचाकर रखना है। उनका इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलें और नियमित रूप से अपनी आंखों की जाँच करवाएँ। आँखों का विशेष ख्याल रखें (eye care in pollution).

आंखों को स्वास्थ्य बनाएं रखने के लिए हमारी वेबसाइट Eyemantra.in पर ज़रूर जाएं।

आईमंत्रा के साथ अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने लिए +91-9711115191 पर कॉल करें या हमें eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हम रेटिना सर्जरीस्पेक्स रिमूवलमोतियाबिंद सर्जरी और अन्य सेवाएँ भी प्रदान करते हैं।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors