सूखी आंखों (ड्राई आइज़) के लिए आईड्रॉप्स – Dry Eyes Ke Liye Eyedrops

Eye Drops

सूखी आंखें (ड्राई आइज़) क्या हैं? Dry Eyes Kya Hain?

सूखी आंखें या ड्राई आइज़ (Dry Eyes) आंखों की एक ऐसी समस्या है, जिसमें तेल ग्रंथि आंखों में ज़रूरी तेल नहीं छोड़ती। इससे इनका अंत हो जाता है और आंखें सूख जाती हैं, लेकिन आई ड्रॉप की मदद से आंख की इस स्थिति को कम किया जा सकता है। सूखी आंखें आंख की एक आम समस्या है, जो कई कारणों से हो सकती हैं।

सूखी आंखें हवा की स्थिति, लंबे वक्त स्क्रीन के इस्तेमाल या आपके शरीर में डिहाइड्रेशन के कारण हो सकती हैं। इसका एक कारण मेइबोमियन ग्रंथि की खराबी भी शामिल हो सकता है, जो सूखी आंख की एक गंभीर स्थिति है। आंखों में चिकनाई की कमी की वजह से सूखी आंखें होती हैं और आंसुओं के कम बनने से आंखों में जलन होती है। सूखी आंखें पर्यावरण और दूसरे कारकों से भी संबंधित हो सकती हैं। इसके अलावा कॉन्टैक्ट लेंस पहनने, मौसमी एलर्जी और आंखों में खिंचाव के कारण भी आंखें सूख सकती हैं।

घरेलू उपचार या आई ड्रॉप की मदद से सूखी आंखों का इलाज आसानी से किया जा सकता है। सूखी आंखों के इलाज के लिए आप कृत्रिम आंसुओं (Artificial Tears) का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। आहार में बदलाव भी सूखी आंखों को कम कर सकता है। गंभीर सूखी आंखों की समस्या के लिए लिपि-फ्लो उपचार और पंक्चुअल प्लग के इस्तेमाल से मदद मिल सकती है। 

सूखी आंखों के लिए सही आईड्रॉप्स – Dry Eyes Ke Liye Sahi Eyedrops

आपकी सूखी आंखों के लिए सही आई ड्रॉप का पता लगाना बेहद ज़रूरी है। तीन अलग तरह की आईड्रॉप्स हैं, कृत्रिम या बनावटी आंसू, एंटी-एलर्जी ड्रॉप्स और एंटी-रेडनेस ड्रॉप्स।

आर्टिफिशियल टियर्स

यह गो-टू आईड्रॉप हैं, जिनका इस्तेमाल सूखी आंखों के लिए किया जा सकता है। यह आईड्रॉप आंखों की सतह को नम रखने में मदद करते हैं। यह आंखों में असली आंसुओं के काम की नकल करते हैं। यह आईड्रॉप लुब्रिकेंट होते हैं और आपकी आंखों को नम करने में मदद करते हैं। कृत्रिम या बनावटी आंसू में मौजूद इलेक्ट्रोलाइट्स और प्रिजर्वेटिव्स आंखों की सतह को ठीक करने का काम करते हैं, जिससे बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद मिलती है। बनावटी आंसू ज्यादातर लोगों में सूखी आंखों का इलाज करते हैं और सस्ते भी होते हैं। इनसे आंसू के सूखने को कम करने में भी मदद मिलती है। यह कुछ लोगों की सूखी आंख की स्थिति को खराब भी कर सकते हैं, जिससे आंखों में जलन की समस्या हो सकती है। आंखों में जलन होने या दिन में दो बार से ज़्यादा इस्तेमाल करने पर बनावटी आंसू इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी जाती है। इसके लिए ज़रूरी है कि आप बनावटी आंसू के इस्तेमाल से पहले अपने ऑप्थामोलॉजिस्ट से उचित परामर्श ज़रूर लें। 

1. प्रिजर्वेटिव्स के साथ आईड्रॉप्स

इन आर्टिफिशियल आईड्रॉप्स में मौजूद एक केमिकल आंखों में बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद करता है, जिनके इस्तेमाल से आंखों में थोड़ी जलन हो सकती है। इन्हें दिन में चार बार से ज़्यादा लगाने की सलाह नहीं दी जाती, क्योंकि ज़्यादा इस्तेमाल करने से इनके कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं।

2. प्रिजर्वेटिव्स फ्री आईड्रॉप्स

प्रिजर्वेटिव्स फ्री आईड्रॉप्स में कोई केमिकल नहीं होता, इसलिए इन्हें एक दिन में ज़्यादा बार इस्तेमाल किया जा सकता है। यह सिंगल-डोज़ शीशियों के रूप में भी मिलते हैं। बनावटी आईड्रॉप्स से थोड़ी धुंधली दृष्टि हो सकती है, जो अस्थायी होती है।

dry eyes

एंटी-एलर्जी ड्रॉप्स 

इन आईड्रॉप का इस्तेमाल पालतू जानवरों की रूसी, पराग, मोल्ड और दूसरी एलर्जी से होने वाली सूखी आंख की स्थिति के इलाज में किया जाता है। जब आप एलर्जी के संपर्क में आते हैं, तो आपका शरीर हिस्टामाइन रिलीज़ करता है। यह एंटी-एलर्जी आईड्रॉप्स एंटी-हिस्टामाइन रिलीज़ करते हैं, जो हिस्टामाइन को अपना काम करने से रोकते हैं। कुछ आईड्रॉप्स से हिस्टामाइन के उत्पादन को रोकने में भी मदद मिलती है। 

dry eyes drops

एंटी-रेडनेस ड्रॉप्स 

एंटी-रेडनेस ड्रॉप्स सूखी आंखों की वजह से आंखों में मौजूद लालपन को दूर करने में मदद करते हैं। अगर कुछ दिनों से ज़्यादा इन एंटी-रेडनेस ड्रॉप्स का इस्तेमाल किया जाए, तो आंखों में लालपन और खराब हो सकता है। इन आई ड्रॉप्स का सीमित इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि बहुत ज़्यादा इस्तेमाल से आंखें लालपन को दूर करने के लिए इन पर निर्भर हो सकती हैं। इनमें मौजूद वैसोकॉन्स्ट्रिक्टर आंखों की सतह पर ब्लड वेसल्स को सिकोड़ देता है, जिससे आंखों की रेडनेस दूर हो जाती है। 

सूखी आंखों के लिए आईड्रॉप्स – Dry Eyes Ke Liye Eyedrops 

डॉक्टरों द्वारा सूखी आंखों के लिए बताई जाने वाली ड्रॉप्स के नाम इस प्रकार हैं-   

1) सिस्टेन (Systane) 

यह आई ड्रॉप्स हल्के होते हैं और आंखों में असली आंसू की तरह महसूस होते हैं। इन्हें सूखी आंखों की समस्या को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि उनकी बनावट मोटी होती है। एक जेल जैसी स्थिरता में उपलब्ध यह आई ड्रॉप्स सूखी आंखों से लंबे वक्त ​तक राहत प्रदान करते हैं।

2) ओपकॉन-ए (Opcon-A)

अगर किसी एलर्जी के कारण आपकी आंखों में सूखापन है, तो यह आईड्रॉप आपके लिए अच्छी है। एंटीहिस्टामाइन की मौजूदगी वाले यह आई ड्रॉप्स आंखों के लालपन को दूर करने में भी मदद करते हैं।

3) थेरा टियर (Thera Tears)

यह आईड्रॉप्स आंखों में हल्की ड्राई आई की कंडीशन वाले लोगों के लिए बनाए गए हैं। इसमें यूनिक इलेक्ट्रोलाइट-संतुलित फॉर्मुला समान भागों में मौजूद होता है। यह एक प्रिजर्वेटिव्स फ्री फॉर्मुला भी है, जो इसे दूसरी आई ड्रॉप्स की तुलना में ज़्यादा लोकप्रिय बनाता है।

4) लुमिफाई (Lumify)

आमतौर पर इन आई ड्रॉप्स का इस्तेमाल सूखी आंख की स्थिति के कारण होने वाले आंखों में लालपन को ठीक करने के लिए किया जाता है। इन आईड्रॉप्स में ब्रिमोनिडाइन होता है, जो खासतौर से आंखों के लालपन को कम करता है, ताकि आपकी आंखें विकिरण कर सकें।

5) विसाइन (Vicine)

इस आईड्रॉप का इस्तेमाल आंखों में रेडनेस को ठीक करने के लिए भी किया जाता है, जो 60 सेकंड में लालपन से राहत देता है।

6) ब्लिंक (Blink) 

यह आईड्रॉप्स ड्राई आई समस्या के कारण होने वाली जलन में राहत प्रदान करते हैं। इसके अलावा यह ड्राई आईज से जल्दी और लंबे समय तक राहत भी देते हैं।

7) रिफ्रेश टियर्स (Refresh Tears)

यह आईड्रॉप्स आंखों को मॉइस्चराइजेशन और हाइड्रेशन देते हैं। इसकी कुछ ड्रॉप्स तुरंत राहत प्रदान करती हैं, जिसे लगाने पर आंखों में जलन भी नहीं होती।

8) सिमिलासन (Similasan) 

इनसे आंखों में मौजूद लालपन, अत्यधिक पानी, सूखापन, जलन और किरकिरेपन से राहत मिलती है। कठोर केमिकलों के बजाय यह फॉर्मुला प्राकृतिक सक्रिय अवयवों से भरा होता है, जो आंखों पर आसान होते हैं।

9) जेंटील (Genteal)

इन आई ड्रॉप्स का इस्तेमाल आंखों में मौजूद सूखेपन के चोटिल होने पर किया जा सकता है। डेन्स टेक्सचर वाली यह आई ड्रॉप पूरी आंख को चिकनाई प्रदान करती हैं। 

10) क्लियर आईज़ (Clear Eyes) 

यह आईड्रॉप आंखों में सूखापन, जलन और खुजली से राहत दिलाने में मदद करती है।

11) ई मॉइस्ट (E Moist)

इन आईड्रॉप से आंखों की जलन, आंखों में सूखापन और आंखों में जलन से राहत मिलती है।

12) आइटोन आईड्रॉप्स (Itone Eyedrops)

यह आईड्रॉप्स नीम, तुलसी, हल्दी और शहद सहित बीस जड़ी-बूटियों को मिलाकर बनी होती हैं। इस आयुर्वेदिक आई ड्रॉप से आंखों में खिंचाव, प्रदूषण और एलर्जी जैसे लक्षणों से राहत मिलती है। साथ ही यह थकी हुई सूखी आंखों को ठंडा भी करता है। 

13) हिमालयन ओप्थाकेयर (Himalayan Opthacare) 

शहद और परसियन गुलाब के मिश्रण से बनी इस आई ड्रॉप का इस्तेमाल लंबे समय तक स्क्रीन इस्तेमाल से होने वाले आंखों के तनाव और जलन को ठीक करने के लिए किया जाता है।

14) टियरड्रॉप आईज़ (Teardrop Eyes) 

इसे सूखेपन का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो आंखों के लुब्रिकेंट में भी मदद करती है। यह सूखी आंख की स्थिति से होने वाले आंखों में दर्द, परेशानी और जलन से राहत भी देती है।

15) रेस्टासिस (Restasis)

यह एक एंटी-एलर्जी आईड्रॉप है, जो आंखों में जलन, दर्द और सूखेपन से राहत देती है। 

गंभीर सूखी आंख की समस्या के लिए दूसरे उपचार उपलब्ध हैं, लेकिन कुछ घरेलू उपचारों से भी हल्की सूखी आंख की समस्या का इलाज किया जा सकता है। सूखी आंख की समस्या से छुटकारा पाने के लिए एक गर्म सेक का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें एक साफ कपड़े को गर्म पानी में भिगोकर बाहर निकाला जाता है और फिर उस कपड़े को कुछ मिनट के लिए आंखों पर लगाया जाता है। गर्म सेक की इस प्रक्रिया को कई बार दोहराया जा सकता है, जो सूखी आंखों के कारण होने वाली जलन और दर्द को कम करने में मदद करता है।

आप खीरे के स्लाइस को पलकों पर लगा सकते हैं, जो सूखी आंखों से राहत प्रदान करेगा। इसके अलावा आप गुलाब जल में भिगोए हुए कॉटन प्लग से सूखी आंखों के कारण होने वाले लालपन, सूजन, दर्द और जलन को भी कम कर सकते हैं। खीरा और गुलाब जल में प्राकृतिक गुण होते हैं, जो आंखों को ठंडक पहुंचाकर तुरंत राहत प्रदान करने में मदद करते हैं।

गंभीर सूखी आंख की समस्या के लिए लिपिफ्लो उपचार, पंक्चुअल प्लग और मेइबोमियन ग्लेंड एक्सप्रेशन हैं। इन उपचार विकल्पों में मेइबोमियन ग्रंथि को सामान्य रूप से काम करने के लिए बनाया जाता है। मेइबोमियन ग्रंथि आंखों में आंसू और तेल के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है। अगर यह ग्रंथि बंद या अवरुद्ध हो जाती है, तो इसका नतीजा सूखी आंख की समस्या में होता है। इन उपचारों में ग्रंथि में रुकावट को दूर किया जाता है और यह ग्रंथि फिर सामान्य रूप से कार्य करने में सक्षम होती है। ये उपचार गंभीर सूखी आंख की समस्या का त्वरित समाधान प्रदान करते हैं, जिसे सूखी आंखों के इस्तेमाल से ठीक नहीं किया जा सकता है। 

निष्कर्ष – Nishkarsh

सूखी आंख की समस्या में कोई भी आईड्रॉप इस्तेमाल करने से पहले उचित नुस्खे के लिए किसी ऑप्थल्मोलॉजिस्ट से परामर्श करना आपके लिए बेहद ज़रूरी है। ऐसे में डॉक्टर आपको एक ऐसे आईड्रॉप की सलाह देंगे, जो आपकी आंखों की स्थिति के लिए ज़्यादा उपयुक्त होगी। आई ड्रॉप से कोई भी साइड इफेक्ट होने पर इसका इस्तेमाल बंद कर दें और तुरंत अपने ऑप्थल्मोलॉजिस्ट से संपर्क करें।

आपकी आंखों के इलाज का सबसे अच्छा तरीका है कि आप आंखों के डॉक्टर के पास जाएं और नियमित रूप से अपनी आंखों की जांच करवाएं। वह आपकी आंखों की बीमारी के इलाज के सर्वोत्तम तरीके से आकलन करने में सक्षम होंगे।

आंखों से संबंधित परामर्श के लिए हमारे आईमंत्रा हॉस्पिटल में विज़िट करें। अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट eyemantra पर जाएं। आईमंत्रा में अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए हमें +91-9711115191 पर कॉल करें या eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हमारी अन्य सेवाओं में रेटिना सर्जरीचश्मा हटानालेसिक सर्जरीभेंगापनमोतियाबिंद सर्जरी और ग्लूकोमा सर्जरी सहित कई अन्य सेवाएं शामिल हैं। 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors