आंखों के लिए कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ – Aankhon Ke Liye Convergence Exercises

exercise

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ क्या है? Convergence Exercises Kya Hai? 

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ (Convergence Exercises) आंखों की एक्सरसाइज़ (Eye Exercises) है जिसका उद्देश्य कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी (Convergence Insufficiency- CI) को कम करना और उसका इलाज करना है। कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी आंखों की समस्या से जुड़ी एक ऐसी स्थिति है, जिसमें हमारी आँखें आसपास की वस्तुओं पर एक साथ फोकस नहीं कर पाती हैं। कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी आमतौर पर युवा आबादी विशेषकर स्कूल जाने वाले बच्चों और किशोरावस्था में देखी जाती है। कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी से पढ़ने-लिखने में परेशानी हो सकती है। 

आंखों के लिए कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ की क्या ज़रूरत है? Aankhon Ke Liye Convergence Exercises Ki Kya Zarurat Hai?  

कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी के उपचार के लिए कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ की सलाह दी जाती है। इसलिए कन्वर्जेन्स थेरपी की आवश्यकता को समझने के लिए पहले हमें कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी को समझने की आवश्यकता है।

कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी एक आंख की स्थिति है जहां आंखें किसी करीबी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करते समय एक साथ काम करने में असमर्थ होती हैं। यह स्थिति तब होती है जब आंख की मांसपेशियां एक दूसरे के साथ कॉर्डिनेशन में काम करने में असमर्थ होती हैं। किसी करीबी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करते समय एक आंख धुंधली या दोहरी छवि बनाने के बजाय अंदर की ओर बाहरी दिशा की ओर मुड़ जाती है। एक ही स्पष्ट छवि बनाने के लिए आमतौर पर दोनों आंखों को अंदर की ओर मुड़ना चाहिए।

आमतौर पर उपचार जिसमें कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ शामिल होती हैं, इस स्थिति के इलाज में प्रभावी होते हैं। कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ से आंखें थक सकती हैं और पढ़ने में कठिनाई के कारण व्यक्तिगत विकास में बाधा आ सकती है। इसलिए कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ के साथ कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी का इलाज करना बहुत ज़रूरी है। 

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ करने की ज़रूरत कब होती है? Convergence Exercises Karne Ki Zarurat Kab Hoti Hai? 

सबसे पहले आपको यह समझना होगा कि क्या आपको कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी (Convergence Insufficiency) की समस्या है। आपको अपनी स्थिति की पहचान करने और कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ के बारे में जानने के लिए किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाने की आवश्यकता है। कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ के कुछ लक्षण हैं, लेकिन यह अलग-अलग व्यक्तियों में अलग-अलग हो सकते हैं, जैसे- 

  • आंखों में खिंचाव और तनाव के साथ दर्द या थकी हुई आंखें।
  • सिर दर्द
  • पढ़ते समय शब्दों पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
  • धुंधली दृष्टि या दोहरी दृष्टि।
  • एकाग्रता (कॉन्संट्रेशन) में कठिनाई

अगर आपका बच्चा इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव कर रहा है, तो आपको एक आंखों के डॉक्टर से परामर्श करने और कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ करना शुरू करने की आवश्यकता है। 

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ कैसे करें? Convergence Exercises Kaise Karein? 

अगर कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ नियमित रूप से की जाए, तो कुछ ही हफ्तों में स्थिति में सुधार देखा जा सकता है। हालांकि ठीक होने का समय स्थिति की गंभीरता पर निर्भर करता है। आमतौर पर शुरुआती स्टेज में कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ की देखरेख एक आर्थोप्टिस्ट द्वारा की जाती है। एक ऑर्थोप्टिस्ट कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ की तकनीक, आवृत्ति और अवधि की व्याख्या करता है। फॉलो-अप अपॉइंटमेंट प्रोग्रेस का मूल्यांकन करने के लिए निर्धारित की जाती हैं। इस स्थिति के इलाज के लिए कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ पर्याप्त हैं। लेकिन अगर कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी के लक्षण बने रहते हैं, तो एक नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलने और पूरी तरह से आंखों की जांच कराने की सलाह दी जाती है। 

पेन/पेंसिल पुश-अप्स (Pen/Pencil Push-ups)

इस एक्सरसाइज़ में आपकी दृष्टि को पेन या पेंसिल में परिवर्तित करना शामिल है। इस विधि को स्मूथ कन्वर्जेन्स (Smooth Convergence) के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसमें आपकी आंखों की सुचारू गति शामिल है। 

स्मूथ कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ स्टेप्स (Smooth Convergence Exercise Steps)

  • बैठे या खड़े होकर अपने सिर को एक सीधी पोजिशन में रखें।
  • एक पेन/पेंसिल को सीधे हाथ की लंबाई में हाथ के लेवल पर या थोड़ा नीचे रखें।
  • पेन/पेंसिल की नोक पर ध्यान दें।
  • सीधी रेखा को अपनी ओर रखते हुए पेन/पेंसिल को हिलाएँ।
  • जहां आपको धुंधली छवि दिखाई दे/थोड़ा तनाव महसूस हो/दोहरी छवि दिखे, वहां रुकें।
  • पोजिशन को होल्ड करें और अपनी आंख की मांसपेशियों को खींचकर एक छवि बनाने का प्रयास करें। यह आंखों की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करेगा। दस सेकंड के लिए पोजिशन को होल्ड रखें।
  • फिर पैन/पेंसिल को हाथ की लंबाई पर पिछली पोजिशन में ले जाएं और दस सेकंड के लिए पकड़ें।
  • दोबारा, इसे उस बिंदु के करीब ले जाएं जहां दृष्टि में कठिनाई हो।
  • अगर आप एक भी छवि बनाने में असमर्थ हैं, तो आप पेन/पेंसिल को 2 से 3 सेमी तक थोड़ा पीछे खींच सकते हैं।
  • इस प्रक्रिया को दस बार दोहराएं और फिर 20 से 25 सेकंड के लिए दूर की छोटी वस्तु को देखकर अपनी आंखों को थोड़ा आराम दें और पूरी प्रक्रिया को फिर से करें।

स्मूथ कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ शेड्यूल (Smooth Convergence Exercise Schedule)

  • शुरुआत में इस कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ की प्रैक्टिस एक बार सुबह और एक बार शाम को पांच मिनट के लिए की जा सकती है।
  • दो महीने में इसका समय बढ़ाकर 15 मिनट कर दें।
  • दो महीने बाद रोजाना एक बार एक्सरसाइज़ की प्रैक्टिस करना पर्याप्त है।
  • अपनी प्रोग्रेस के बारे में जानने के लिए अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाएँ।

जंप कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ (Jump Convergence Exercise)

इस एक्सरसाइज़ का उद्देश्य दो दूरियों के बीच आपकी आंख की मांसपेशियों को कंट्रोल और मजबूत करना है। इस कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ को करने के लिए आपको दो वस्तुओं की आवश्यकता होगी-

  • एक वस्तु जो तीन से चार मीटर की दूरी पर हो
  • एक अन्य वस्तु जो 20 सेमी के पास की सीमा में हो, जैसे एक पेन या पेंसिल या आपकी पसंद की कोई दूसरी ऐसी वस्तु।

जंप कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ स्टेप्स (Jump Convergence Exercise Steps)

  • सबसे पहले दूर की वस्तु को देखें जो तीन से चार मीटर दूर है।
  • फिर जल्दी से अपना फ़ोकस वापस नज़दीकी-रेंज ऑब्जेक्ट पर ले जाएँ और सिंगल इमेज बनाने की कोशिश करें।
  • एक बार जब आप सिंगल इमेज बनाने में कामयाब हो जाते हैं, तो अपना ध्यान वापस दूर की वस्तु पर ले जाएं और इसे दस सेकंड के लिए रोक कर रखें।
  • हर बार जब आप पास की वस्तु के साथ एक सिंगल इमेज बना सकते हैं, तो आसानी से वस्तु को अपनी ओर थोड़ा पास ले जाएँ और इस कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ को रिपीट करते रहें।
  • फिर से दूर की वस्तु पर फोकस करें।
  • यह तब तक जारी रखें जब तक कि पास की वस्तु आपकी नाक को न छू ले।

जंप कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ शेड्यूल (Jump Convergence Exercise Schedule)

यह एक्सरसाइज़ स्मूथ कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ के बाद की जा सकती है। इसकी कोई समय सीमा नहीं है क्योंकि आपको इसे तब तक दोहराने की आवश्यकता है जब तक कि पास की वस्तु आपकी नाक को न छू ले।

इस एक्सरसाइज़ को दिन में दो बार एक बार सुबह और एक बार शाम को दो महीने तक करें। पोस्ट जो रोजाना एक बार की जा सकती है। 

डॉट कार्ड आई कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ (Dot Card Eye Convergence Exercise)  

डॉट कार्ड डबल-साइडेड डॉट या लेटरेड कार्ड होते हैं जिनका उपयोग कन्वर्जेन्स के निकट बिंदु को मापने के लिए किया जाता है। डॉट कार्ड पेन या पेंसिल पुशअप के बजाय कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी के इलाज में अधिक प्रभावी होते हैं क्योंकि यह सही ऑक्यूलर अलाइनमेंट सुनिश्चित करता है।

डॉट कार्ड में डॉट्स एक दूसरे से तीन सेमी दूर होते हैं। आपको कार्ड को लेंथ-वाइज़ पकड़कर नाक के सिरे को छूते हुए पकड़ना होगा। यह सुनिश्चित करता है कि बिंदु नाक से 6 सेमी और 2 सेमी दूर है।

डॉट कार्ड कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ स्टेप्स (Dot Card Convergence Exercise Steps

  • डॉट कार्ड के एक सिरे को नाक की नोक पर रखते हुए सिर को सीधा रखना चाहिए। डॉट कार्ड को सीधा या हल्के कोण पर पकड़ें ताकि आप डॉट्स को स्पष्ट रूप से देख सकें।
  • सबसे दूर के बिंदु पर फोकस करें और एक बिंदु बनाने का प्रयास करें। एक सिंगल इमेज बनाने के लिए आपको अपनी आंखों की मांसपेशियों को खींचने की ज़रूरत है।
  • दस सेकंड के लिए उस पोजिशन को होल्ड रखें।
  • अब अपने पास की लाइन में अगले बिंदु पर ध्यान केंद्रित करने का प्रयास करें। अब फिर से सिंगल इमेज बनाने का प्रयास करें। जब आप इस बिंदु पर ध्यान केंद्रित करते हैं तो अन्य बिंदु डबल दिखाई देने चाहिए और एक X पैटर्न बनाना चाहिए। इस पोजीशन में दस सेकेंड तक रहें। 
  • हर बार अपनी नाक के करीब जाकर दस सेकंड के लिए अन्य बिंदुओं के साथ उसी एक्सरसाइज़ को दोहराएं। 

कंप्यूटर विज़न कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ (Computer Vision Convergence Exercise

कुछ सॉफ्टवेयर कंप्यूटर पर कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी के लक्षणों को सुधारने के लिए कंप्यूटर पर एक्सरसाइज़ की जाती है। अपनी प्रोग्रेस के बारे में जानने के लिए इसे अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ के साथ शेयर करने के लिए इसके रिज़ल्ट प्रिंट किए जा सकते हैं। 

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ के बाद आराम (Relaxation After Convergence Exercises) 

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ पूरी करने के बाद आंखों की मांसपेशियों को आराम देना बहुत ज़रूरी है। कुछ दुर्लभ मामलों में यदि कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ के बाद आंखों की मांसपेशियों को ठीक से आराम नहीं दिया जाता है, तो कन्वर्जेन्स स्पेस्म (Convergence Spasm) हो सकता है। एक्सरसाइज़ करने के बाद कुछ असहज लक्षणों की उम्मीद की जाती है लेकिन मांसपेशियों को आराम नहीं देने से बेचैनी तेज हो सकती है। एक्सरसाइज़ को ज़्यादा नही करना चाहिए। जब आपकी आंखें थकी हुई हों या आप अस्वस्थ हों, तो कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ करने से बचें। कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ शुरू करने से पहले आपकी आंखें फ्रेश होनी चाहिए। यह कम असहज लक्षण सुनिश्चित करता है।

कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ और आराम के बाद एक मिनट के लिए अपनी आँखें बंद करें और फिर दूसरी एक्टिविटी करना शुरू करें। 

निष्कर्ष – Nishkarsh 

पहले कुछ दिनों तक आपको हल्का तनाव, सिरदर्द या दर्द महसूस हो सकता है। यह पूरी तरह से सामान्य है। लेकिन धीरे-धीरे इसके लक्षण गायब हो जाएंगे और आप कम तनाव महसूस करेंगे।

अपनी प्रोग्रेस के बारे में जानने के लिए अपॉइंटमेंट्स पर डॉक्टर के पास ज़रूर जाएं और एक्सरसाइज़ करना बंद करने से पहले अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श लें। आमतौर पर तीन महीने की रेगुलर एक्सरसाइज़ के बाद आई कन्वर्जेन्स इन्सफीशियंसी के लक्षण गायब हो जाते हैं। यदि स्थिति में कोई सुधार नहीं होता है, तो आपका नेत्र रोग विशेषज्ञ किसी भी स्थिति को निर्धारित करने के लिए अतिरिक्त नेत्र परीक्षण कर सकता है।

अगर आप कन्वर्जेन्स एक्सरसाइज़ करने के बाद लगातार परेशानी महसूस कर रहे हैं, तो आप अपने आंखों के डॉक्टर से भी परामर्श कर सकते हैं।

अपनी समस्याओं के लिए आंखों के डॉक्टर से परामर्श करने के लिए आईमंत्रा पर विज़िट करें। नेत्र रोग विशेषज्ञों (Ophthalmologists) की हमारी टीम आपकी आंखों की पूरी देखभाल करेगी। वह आपकी समस्या के बारे में आपको डिटेल में समझाएंगे। अधिक जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट eyemantra.in पर जाएं।

आई मंत्रा के साथ अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए अभी +91-9711115191 पर कॉल करें या आप हमें eyemantra1@gmail.com पर मेल भी कर सकते हैं।

हम रेटिना सर्जरी, स्पेक्स रिमूवल, लेसिक सर्जरी, भेंगापन, मोतियाबिंद सर्जरी, ग्लूकोमा सर्जरी और आंखों से जुड़ी बहुत सी अलग-अलग सेवाएं भी प्रदान करते हैं।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors