आंखों की पावर के प्रिस्क्रिप्शन को कैसे पढ़ें? Eye Power Prescription Ko Kaise Padhein?

HOW TO READ YOUR EYE POWER PRESCRIPTION

आंखों की पावर क्या होती है? Eye Power Kya Hoti Hai? 

आंखों की पावर के लिए ओडी (OD), ओएस (OS) और एसपीएच (SPH) जैसे कुछ एब्रीविएशन के तहत आप अपनी आंखों के प्रिस्क्रिप्शन में लिखे हुए नंबरों को देखते हैं जो आपकी आंखों की पावर को निर्धारित करते हैं। यह संख्या (+/-) 0 से 20 तक होती है। 0 का मतलब है कि आपको लेंस की आवश्यकता नहीं है और आपकी दृष्टि सामान्य है, लेकिन अगर संख्याएँ ज़ीरो से दूर जाती हैं, तो आपको पूरी तरह से देखने के लिए आर्टिफिशियल आंखों के लेंस या चश्मे की आवश्यकता होगी। 

जब आप अपनी आई पावर प्रिस्क्रिप्शन को देखते हैं, तो आपको संक्षिप्त रूप दिखाई देंगे जैसे ओएस (ओकुलस सिनिस्टर) यानी आपकी बाईं आंख, ओडी (ओकुलस डेक्सट्रस) यानी आपकी दाहिनी आंख और ओयू (ओकुलस यूटरक) जिसका अर्थ है दोनों आंखें। ये लैटिन एब्रीविएशन हैं जो अभी भी प्रिस्क्रिप्शन के लिए उपयोग की जाती हैं। कुछ दूसरे एलिमेंट्स जैसे एक्सिस, एस्टिगमेटिज़्म और प्रिज़्म का भी डिस्क्रिप्शन में उल्लेख किया गया है। इन एब्रीविएशन के नीचे लिखे नंबर आपकी आंखों की पावर को रिप्रज़ेंट करते हैं। डायोप्टर दृष्टि की इकाई है जिसे डी के रूप में संक्षिप्त किया गया है। उदाहरण के लिए +1.5 डी का अर्थ है कि आपको 1.5 आई पावर के साथ हाइपरमेट्रोपिया है। -2.5 डी 2.5 आई पावर के साथ मायोपिया को रिप्रज़ेंट करता है।

आंखों की पावर की डिस्क्रिप्शन टर्म – Eye Power Description Terms

आंखों की पावर के लिए इस्तेमाल की जाने वाली अलग-अलग टर्म हैं, जैसे-

ओ.एस. (O.S.)

ओकुलस सिनिस्टर (ओ.एस.) बाईं आंख को दर्शाता है। कुछ डॉक्टरों ने एलटी (डिस्क्रिप्शन के लिए बाईं आंख) का उपयोग करना शुरू कर दिया है।

ओ.डी. (O.D.)

ओकुलस डेक्सट्रस (ओ.डी.) जो दाहिनी आंख का प्रतिनिधित्व करता है उसे आरटी के रूप में भी निर्धारित किया गया है। 

एसपीएच (SPH)

प्रिस्क्रिप्शन में एसपीएच शब्द का अर्थ है अदूरदर्शिता और दूरदर्शिता के लिए करेक्टिव स्फेरिकल। विशिष्ट एसपीएच नंबर 0 से +/- 20 तक है। नंबर 0 से जितना दूर होगा आपको उतने ही मोटे लेंस की आवश्यकता होगी।

सीवाईएल (CYL)

सीवाईएल सिलेंडर की शॉर्ट फॉर्म है। सीवाईएल (CYL) के नीचे लिखी संख्या एस्टिग्मेटिज़्म (ऐसी समस्या जिसमें आपकी आंखें अनियमित आकार की होती हैं) को इंडिगेट करती हैं। 

एएक्स (AX)

एक्सिस एस्टिगमेटिज़्म की डिग्री की व्याख्या करता है, जो 0 से 180 तक से ज़्यादा है। अगर आपको एस्टिगमेटिज़्म नहीं है, तो सीवाईएल और एएक्स ज़ीरो होंगे। एएक्स और सीवाईएल साथ-साथ चलते हैं और दोनों का उपयोग आपके एस्टिगमेटिज़्म को मापने के लिए किया जाता है।

दृष्टि (Vision)

दृश्य तीक्ष्णता (विज़ुअल एक्युटी) की जांच के लिए विज़न टेस्ट किया जाता है। अगर आपका प्रिस्क्रिप्शन 6/6 दृष्टि दिखाता है, तो आपकी दृष्टि सामान्य है और आप देखते हैं कि 6 मीटर की औसत आंख क्या देख सकती है। हालाँकि 6/6 दृष्टि का मतलब यह नहीं है कि आपकी दृष्टि एकदम सही है। अपने मामले को जानने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से पूछें।

प्रिज्म (Prism)

ज्यादातर प्रिस्क्रिप्शन में प्रिज्म कॉलम आमतौर पर अनुपस्थित या ब्लैंक होता है। जब तक आपकी आंख की मांसपेशियां या नसें इस तरह से प्रभावित न हों जिससे दोहरी दृष्टि हो। प्रिज्म के लिए निर्धारित लेंस यह सुनिश्चित करता है कि आपकी आंखों में प्रवेश करने वाला प्रकाश रेटिना पर सही ढंग से फोकस हो।

बेस (Base)

बेस वह डायरेक्शन है जो आपकी एक या दोनों आंखों पर लागू होता है। ऊपर, नीचे, अंदर या बाहर। बेस और प्रिज्म एक साथ काम करते हैं। 

यहां इसे आसानी से समझाने के लिए प्रिस्क्रिप्शन का एक उदाहरण दिया गया है-

eye power prescription

आंखों के चश्मे की ज़रूरत – Eyeglasses Ki Zarurat 

हमारी आंखें एक कैमरे की तरह काम करती हैं जो वस्तु से प्रकाश को पकड़ती है और एक छवि बनाती है। प्रकाश हमारी आंखों के सबसे बाहरी कॉर्निया से प्रवेश करता है और रेटिना पर जाता है जो आंखों की सबसे भीतरी परत है। जब प्रकाश रेटिना से टकराता है, तो लाखों फोटोरिसेप्टर मस्तिष्क को संकेत भेजते हैं और एक छवि बनाते हैं और समझते हैं। आंखों की पावर की ज्यादातर समस्याएं इस वजह से होती हैं कि रोशनी रेटिना से कहां टकरा रही है।

दूरदर्शिता- आपके प्रिस्क्रिप्शन में नंबर से पहले प्लस (+) का साइन दूरदर्शिता या हाइपरमेट्रोपिया/हाइपरोपिया को इंडिकेट करता है जिसका मतलब है कि व्यक्ति दूर की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देख सकता है लेकिन पास की वस्तुएं उसे धुंधली और हल्की दिखाई देती हैं।

Farsighted

नियरसाइटेड- (-) माइनस का साइन निकट/अदूरदर्शिता या मायोपिया का संकेत देता है जिसका अर्थ है कि व्यक्ति पास की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देख सकता है लेकिन उसे दूर की वस्तुओं को देखने में समस्या होती है। नंबर्स डायोप्टर यूनिट को रिप्रजेंट करते हैं। 

Nearsighted

एस्टिगमेटिज़्म- एक स्वस्थ आंख में आंखों का कॉर्निया या लेंस आमतौर पर गोलाकार होता है, लेकिन एस्टिगमेटिज़्म के मामले में यह अंडाकार आकार का होता है जो रेटिना पर समान रूप से प्रकाश नहीं डालता है जिससे धुंधली दृष्टि होती है। एस्टिगमेटिज़्म का ओरिएंटेशन 0 से 180 डिग्री तक अलग-अलग हो सकता है।

प्रेसबायोपिया- प्रेसबायोपिया एक सामान्य नेत्र रोग है जो उम्र बढ़ने के दौरान (चालीस के बाद) विकसित होता है। हमारे वृद्धावस्था में हमारी आंख का लेंस लचीला नहीं रहता है जिससे लेंस वस्तुओं पर फोकस नहीं कर पाता है। प्रेसबायोपिया का इलाज बाइफोकल लेंस से किया जा सकता है। 

Presbyopia

आई पावर करेक्टिव की ज़रूरत – Eye Power Corrective Ki Zarurat

एक अच्छी और स्पष्ट दृष्टि हमेशा के लिए नहीं रह सकती है इसलिए आपको सामान्य दृष्टि के लिए आई पावर करेक्टिव की ज़रूरत हो सकती है भले ही आपके पास पहले से ही चश्मा हो। आपकी आंखों की पावर के नंबर बदलते रहते हैं। इसमें डरने की कोई बात नहीं है, लेकिन आंखों को स्वस्थ रखने के लिए आपको हर साल अपनी आंखों की जांच करानी चाहिए। अगर आपको निम्नलिखित में से कोई परेशानी है, तो किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाएँ, जैसे- 

  • बार-बार सिरदर्द- अगर आपको अक्सर सिरदर्द होता है, खासकर टीवी देखने या पढ़ने के बाद, तो संभव है कि आपको आई करेक्टिव की आवश्यकता हो। हालांकि सिरदर्द होने के दूसरे कारण भी हो सकते हैं लेकिन आंखों की समस्याएं प्रमुख हैं।
  • धुंधली दृष्टि- उदाहरण के लिए अगर आप किसी पोस्टर को दूर से देखने की कोशिश कर रहे हैं और डिटेल्स नहीं देख पा रहे हैं या यदि आपको किसी पुस्तक को पास से पढ़ने में कठिनाई हो रही है, तो आपको चश्मे की ज़रूरत है।
  • स्ट्रीट लाइट/वाहनों पर हेलो रिंग- रात में ट्रैवलिंग के दौरान अगर आप गाड़ियों की बैकलाइट्स या ट्रैफिक लाइट के आसपास लाइन और हेलो रिंग पाते हैं, तो आपको एस्टिग्मेटिज़्म की समस्या हो सकती है।
  • चक्कर आना- अगर आपकी आंखों में दर्द, थकान महसूस होती है और आपकी आंखों की पावर को संरेखित करने में चीजों को देखने पर फोकस नहीं हो सकता है, तो यह सामान्य नहीं हो सकता है। हालांकि एलर्जी और प्रदूषण से भी आपकी आंखों को भी चक्कर आ सकता है। बहुत अधिक धूप आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकती है, इसलिए उन्हें धूप के चश्मे से बचाना सबसे अच्छा है।

आंखों की पावर में सुधार के लिए उपचार – Eye Power Mein Sudhar Ke Liye Upchar 

अपनी आंखों की देखभाल करना आपके शरीर के बाकी हिस्सों की देखभाल करने जैसा है। और इसके लिए अधिक प्रयास की आवश्यकता नहीं होती है। स्वस्थ भोजन करना, समय पर सोना, थोड़ा व्यायाम करना आपकी आंखों और शरीर के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। निकटदृष्टिदोष और दूरदर्शिता जैसे नेत्र रोगों को प्राकृतिक रूप से ठीक किया जा सकता है, लेकिन आमतौर पर नेत्र रोग बिना सर्जरी के ठीक नहीं होते हैं। अगर आप आर्टिफिशियल लेंस और चश्मे से बचना चाहते हैं, तो शुरू से ही अपनी आंखों का ख्याल रखें। यहां कुछ टिप्स दिए गए हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं, जैसे- 

विटामिन-ए से भरपूर खाना खाएं

रोजाना गाजर, पपीता, ब्रोकली, हरी सब्जियां खाने से आपकी आंखों की सेल्स को विटामिन-ए मिलता है जो आपकी आंखों की पावर को न्यूट्रल रखता है।

स्क्रीन से थोड़ा ब्रेक लें

अगर आप कोई काम करते हैं जिसमें आपको लगातार कंप्यूटर स्क्रीन पर देखना पड़ता है, तो 20-20-20 नियम का पालन करें। हर 20 मिनट के बाद 20 सेकंड के लिए एक ब्रेक लें और किसी भी 20 सेमी दूर वस्तु को देखें। यह नियम आपकी आंखों को दर्द और आसानी से थकने से बचाने में मदद करेगा।

समय पर सोएं

आपने देखा होगा कि आंखों की पावर वाले ज़्यादातर लोग सही और पूरी नींद नहीं ले पाते। नींद की कमी हमारे मस्तिष्क सहित आपके पूरे शरीर को प्रभावित करती है जिसके परिणामस्वरूप आंखों की समस्याएं होती हैं।

आंखों के चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस

यह खराब आंखों की पावर का इलाज करने का सबसे आसान और प्रभावी तरीका है। हालांकि कॉन्टैक्ट लेंस पहनना परेशानी का कारण हो सकता है लेकिन चश्मा सुरक्षित और सुविधाजनक होता है। लेंस तीन प्रकार के होते हैं- कॉन्केव (मायोपिया के लिए), कॉन्वेक्स (हाइपरमेट्रोपिया के लिए), बाइफोकल लेंस का उपयोग तब किया जाता है अगर किसी व्यक्ति को निकट दृष्टि और दूरदर्शिता दोनों हैं।

सर्जरी 

आपकी दृष्टि में सुधार स्वाभाविक रूप से तभी काम करेगा जब आप लगातार अपनी जीवनशैली पर नज़र रखेंगे और इसे कभी-कभी ठीक भी नहीं किया जा सकता है, जबकि सर्जरी आपकी आंखों की पावर को हमेशा के लिए ठीक कर सकती है। हालांकि आपको अपनी सर्जरी से पहले और बाद में कुछ सावधानियां बरतने की ज़रूरत होती है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

अपनी आंखों का इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपने आंखों के डॉक्टर के पास जाएं और नियमित रूप से अपनी आंखों की जांच करवाएं। वह आपकी आंखों की बीमारी के इलाज के बेहतर तरीके के बारे में बताएंगे और गाइड करेंगे। अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट eyemantra.in पर जाएँ। आई मंत्रा के साथ अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए +91-9711115191 पर कॉल करें या हमें eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हमारी सेवाओं में रेटिना सर्जरीचश्मा हटानालेसिक सर्जरीभेंगापनमोतियाबिंद सर्जरी और ग्लूकोमा सर्जरी सहित कई अन्य सेवाएं शामिल हैं।

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors