दीर्घदृष्टि (हाइपरमेट्रोपिया): लक्षण, कारण और निदान – Hypermetropia: Lakshan, Karan Aur Nidan

Hypermetropia: Everything You Need To Know About

दीर्घदृष्टि (हाइपरमेट्रोपिया) क्या है? Hypermetropia Kya Hai?

दीर्घदृष्टि यानी हाइपरमेट्रोपिया को दूरदर्शिता या हाइपरोपिया भी कहते हैं, जिसे एक रिफ्रैक्टिव एरर को परिभाषित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसमें प्रकाश किरणें रेटिना की प्रकाश-संवेदनशील परत के बजाय उस पर पड़ती हैं। हाइपरोपिया में एक पास की वस्तुओं की तुलना में दूर की वस्तुएं स्पष्ट रूप से देख सकता है। इस अवस्था में हमारी दृष्टि दूर तक स्थिर हो जाती है, इसलिए इसे दूरदर्शिता कहते हैं।

हमारी आंखों का तंत्र एक कैमरे की तरह है, जिसमें कॉर्निया के ज़रिए प्रवेश करने वाली प्रकाश किरणें लेंस और आंख की दूसरी आंतरिक परतों से गुजरते हुए रेटिना तक पहुंचती हैं। रेटिना एक छवि बनाकर फोटो-रिसेप्टर के माध्यम से दिमाग को संकेत पहुंचाता है। आंख की किसी भी परत में मौजूद कोई दोष कई दृष्टि समस्याओं की वजह बन सकता है और इन्हीं में से एक दीर्घदृष्टि (हाइपरमेट्रोपिया) है। दीर्घदृष्टि से पीड़ित व्यक्ति को पढ़ना, लिखना, सिलाई करना या करीब से देखने वाला कोई भी काम करने में कठिनाई होती है।

Hypermetropia

बच्चों में दीर्घदृष्टि – Bachchon Mein Hypermetropia 

हाइपरमेट्रोपिया बच्चों को प्रभावित करने वाला सबसे आम दृष्टि विकार है। यह वंशानुगत तत्व जीन में चलता है, जिसके कारण बच्चे अक्सर हाइपरमेट्रोपिया के साथ पैदा होते हैं। हाइपरमेट्रोपिया अकोमोडेटिव एसोट्रोपिया का कारण बन सकता है। इस स्थिति में एक आंख दूसरी आंख में अपवर्तक त्रुटि के लिए कोशिश करती है, जिससे आई-क्रॉसिंग हो जाती है। ज़्यादातर बच्चे हाइपरोपिया को ठीक कर सकते हैं। हल्के हाइपरमेट्रोपिया वाले बच्चों पर किसी का ध्यान नहीं जाता है, क्योंकि उनकी आंखें समायोजित करने में सक्षम होती हैं। इस तरह फोकस बढ़ने से धुंधली दृष्टि का इलाज होता है। ज़्यादातर बच्चे हाइपरमेट्रोपिक होते हैं, लेकिन यह सौ में से सिर्फ चार में एक साल की उम्र के बाद होता है।

 Hypermetropia in children

दीर्घदृष्टि के लक्षण – Hypermetropia Ke Lakshan

दीर्घदृष्टि का निदान आसानी से किया जा सकता है क्योंकि आस-पास की वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करने की आपकी असमर्थता स्पष्ट हो जाती है। एसिम्प्टोमैटिक होने के बाद भी एक साधारण आंखों के परीक्षण से इसका निदान किया जा सकता है। दीर्घदृष्टि के कुछ अन्य लक्षण हैं-

सिरदर्द- दीर्घदृष्टि में पढ़ते या वस्तुओं को देखते या कोई भी करीब से देखने का काम करते वक्त लगातार सिरदर्द रहेगा। इससे आपकी आंखें निकल जाती हैं और आप तनावग्रस्त हो जाते हैं, इसलिए दीर्घदृष्टि से पीड़ित व्यक्ति के लिए पढ़ना और लिखना एक परेशानी भरा काम है।

आंखों में दर्द- दीर्घदृष्टि की खराब स्थिति में आपकी आंखों में दर्द होगा, जिससे आपकी आंखें थक जाएंगी। आपको किसी पहेली को पूरा करने या कोई गेम खेलने में कठिनाई होगी। अगर आपका काम कंप्यूटर से जुड़ा है, तो आपको आंखों में खुजली या भेंगापन भी महसूस हो सकता है। हालांकि आपकी दूर देखने की क्षमता पर अप्रभावित रहती है।

धुंधली दृष्टि- अगर आप धुंधली दृष्टि महसूस कर रहे हैं, खासकर जब आप 20 से 25 सेमी. के अंदर वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करते हैं, तो आपको हाइपरोपिया हो सकता है।

दीर्घदृष्टि के कारण – Hypermetropia Ke Karan

दीर्घदृष्टि एक सामान्य दृष्टि समस्या है, जिसमें आपका नेत्रगोलक (आईबॉल) सामान्य से छोटा होता है और इसके कारण प्रकाश किरणें रेटिना पर पड़ती हैं। बच्चों में आम दीर्घदृष्टि के कुछ कारण हैं, जो इसके मुख्य कारक हो सकते हैं-

  1. नेत्रगोलक का छोटा आकार- नेत्रगोलक का छोटा आकार भी दीर्घदृष्टि का कारण हो सकता है, जिससे प्रकाश किरणें रेटिना के पीछे गिरती हैं। रेटिना नेत्रगोलक की सबसे अंदरूनी परत है, जो मस्तिष्क को संकेत भेजती है।
  2. आनुवंशिकी- दीर्घदृष्टि का दूसरा कारण आनुवंशिकी भी हो सकता है। इस समस्या के पारिवारिक इतिहास वाले बच्चों के दीर्घदृष्टि से पीड़ित होने की सबसे ज़्यादा संभावना है, लेकिन ज्यादातर समय बच्चा समायोजित हो सकता है और अच्छी तरह से देख/बढ़ सकता है।
  3. एक सपाट कॉर्निया- दीर्घदृष्टि के कारण आपके कॉर्निया की वक्रता आंख की सबसे बाहरी परत में पर्याप्त प्रकाश किरणों को आंख में प्रवेश नहीं करने देगी। इसमें कॉर्निया आकार में छोटा भी हो सकता है।

दीर्घदृष्टि का निदान Hypermetropia Ka Nidan

दीर्घदृष्टि का निदान इसके संकेतों और देखे गए लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है, जिसमें आपकी आंखों की रोशनी भी बदलती रहती है। अगर आपको देखते समय असहज महसूस होता है, तो अपनी आंखों का निदान करें। दीर्घदृष्टि का निदान एक साधारण आंखों के परीक्षण से किया जा सकता है। इसमें आपको पूरे कमरे में अक्षरों का चार्ट लटकाना और पढ़ना होगा। इस प्रक्रिया के बाद डॉक्टर रेटिनोस्कोप के इस्तेमाल से आपकी आंखों की जांच करेंगे।

आमतौर पर रेटिनोस्कोप उपकरण के इस्तेमाल से मरीज़ की अपवर्तक त्रुटि का निरीक्षण करते हैं, जिसके बाद आप अपनी आंखों की स्थिति के बारे में जान सकते हैं। एक नेत्र रोग विशेषज्ञ (ऑप्थल्मोलॉजिस्ट) आपको हर साल अपनी आंखों की जांच कराने का सुझाव देते हैं। अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर जैसी अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं या आंखों की किसी बीमारी का पारिवारिक इतिहास है, तो दीर्घदृष्टि होने की संभावना ज़्यादा होती है।

Diagnosis

दीर्घदृष्टि का सुधार – Hypermetropia Ka Sudhar 

बच्चों में हाइपरमेट्रोपिया हल्का होने पर अपने आप ठीक हो जाता है, लेकिन वयस्कों के लिए चश्मा एक सुविधाजनक विकल्प है। अगर हाइपरमेट्रोपिया फ्लैट कॉर्निया की वजह से है, तो यह बढ़ने के साथ-साथ घुमावदार हो जाता है। शुरुआती अवस्था में देखे गए लक्षणों का निदान करने से हाइपरमेट्रोपिया को नियंत्रित करना आसान होता है। हाइपरमेट्रोपिया को ठीक करने के कुछ तरीके हैं, जैसे-

चश्मे 

हाइपरमेट्रोपिया को ठीक करने के लिए कॉनवेक्स लेंस का इस्तेमाल किया जाता है। हाइपरमेट्रोपिया को ठीक करने का मुख्य सिद्धांत प्रकाश किरणों का फोकस रेटिना पर लाना है, जो उत्तल लेंस प्लस (+) चश्मे की मदद से किया जा सकता है। चश्मा लगाते वक्त ध्यान रखने वाली मुख्य बातों में से एक हल्के वजन वाले लेंस चुनना है, जिससे उन्हें काम करने में आसानी हो।

कॉन्टैक्ट लेंस

दूरदर्शिता के साथ आपका प्रिस्क्रिप्शन एक प्लस (+) नंबर है, जैसे प्लस2 संख्या शून्य जितनी दूर होगी आपके लिए ज़रूरी लेंस उतने ही मजबूत होंगे। चश्मे और कॉन्टैक्ट लेंस के लिए प्रिस्क्रिप्शन थोड़ा अलग है, इसलिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें कि कौन सा विकल्प आपको सूट करेगा।

लेजर सर्जरी 

लेजर सर्जरी में लेजर उपचार के ज़रिए आपके कॉर्निया को ठीक किया जाता है, जो पूरी तरह चीरा रहित है। इस मेथड को ज़्यादातर मायोपिया के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि इसे दीर्घदृष्टि को ठीक करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। लेजर सर्जरी रेटिना पर फोकस बहाली के लिए कॉर्निया के आकार को लंबा करके अपवर्तक त्रुटि को ठीक करती है। लेजर ट्रीटमेंट दो तरह का होता है लेसिक (LASIK) और लासेक (LASEK)। दूरदर्शिता को लेसिक के ज़रिए ठीक किया जा सकता है, जिसमें तीस मिनट से ज़्यादा वक्त नहीं लगता और दो ही दिन में आप अपनी दैनिक गतिविधि को फिर करने में सक्षम हो सकते हैं।

कम से मध्यम हाइपरमेट्रोपिया वाले दस साल से कम उम्र के बच्चों को किसी भी चश्मे की ज़रूरत नहीं होती है। हालांकि सिम्प्टोमैटिक हाइपरमेट्रोपिया को नज़रअंदाज़ करना जीवन की गुणवत्ता को बर्बाद कर सकता है। कम शब्दों में कहें तो यह आपकी ग्रोथ और डेवलपमेंट को प्रभावित कर सकता है। अठारह साल से कम उम्र के किसी भी व्यक्ति के लिए सर्जरी का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता, क्योंकि इस दौरान हमारी आंखों की रोशनी सबसे ज्यादा बदल जाती है।

हाइपरमेट्रोपिया और मायोपिया में अंतर- यह दोनों विकार एक दूसरे के बिल्कुल विपरीत हैं। हाइपरमेट्रोपिया और मायोपिया आंखों के बीच का अंतर यह है कि हाइपरमेट्रोपिक आंखें दूर की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देख सकती हैं, जबकि उन्हें करीब से देखने में परेशानी होती है। मायोपिक आंखें नज़दीक रखी वस्तुओं को बेहतर और दूर की वस्तुओं को धुंधला देखती हैं।

क्या किसी व्यक्ति को निकटदृष्टिता और दीर्घदृष्टि दोनों हो सकते हैं?

हाइपरमेट्रोपिया में नेत्रगोलक सामान्य से छोटा और मायोपिया में नेत्रगोलक सामान्य से बड़ा होता है। इनके अलावा आंखों के दूसरे विकार को दृष्टिवैषम्य कहते हैं। दृष्टिवैषम्य में असामान्य वक्रता वाले कॉर्निया के दो केंद्र बिंदु बनाने से प्रकाश किरणें दो अलग-अलग बिंदुओं पर गिरती हैं, जिससे निकट दृष्टि और दूरदर्शिता हो सकती है। दृष्टिवैषम्य के मामले में निकट और दूरदर्शी होना संभव है, लेकिन आप एक ही समय में हाइपरमेट्रोपिक और मायोपिक भी देख सकते हैं।

प्रेसबायोपिया और हाइपरमेट्रोपिया-

प्रेसबायोपिया के मामले में भी आपको निकट दृष्टि दोष और दूरदर्शिता हो सकते हैं। यह उम्र बढ़ने का विकार दूरदर्शिता या निकट दृष्टि दोष के धीमे विनाश का कारण बनता है। प्रेसबायोपिया में दूर की वस्तुओं को देखने में कोई समस्या नहीं होती, लेकिन हाइपरमेट्रोपिया की एक हाई डिग्री दूर दृष्टि को प्रभावित कर सकती है। इससे निकट दृष्टि दोष और दूरदर्शिता दोनों हो सकते हैं और चालिस साल से ज़्यादा उम्र के लोगों में प्रेसबायोपिया पाया जाता है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

आंखों के इलाज का सबसे अच्छा तरीका है कि आप नियमित रूप से अपने नेत्र देखभाल पेशेवर के पास जाकर अपनी आंखों की जांच कराएं, क्योंकि एक नेत्र देखभाल पेशवर ही आपकी आंखों की बीमारी के इलाज का सर्वोत्तम तरीके का आंकलन करने में सक्षम होंगे।

दीर्घदृष्टि या आंखों से संबंधित किसी भी समस्या के लिए हमारी वेबसाइट eyemantra.in पर विज़िट करें। आईमंत्रा में अपनी अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए +91-9711115191 पर कॉल करें। आप हमसे ईमेल के माध्यम से भी संपर्क कर सकते हैं। हमारी मेल आईडी है, eyemantra1@gmail.com। हमारी अन्य सेवाओं में रेटिना सर्जरीचश्मा हटानालेसिक सर्जरीभेंगापनमोतियाबिंद सर्जरी और ग्लूकोमा सर्जरी सहित कई अन्य सेवाएं शामिल हैं। 

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors