मैक्यूलर डिजनरेशन: कारण, लक्षण और उपचार – Macular Degeneration: Kaaran, Lakshan Aur Upchaar

Macular Degeneration

मैक्यूलर डिजनरेशन क्या है? Macular Degeneration kya hai? 

बढ़ती उम्र से जुड़ी मैक्यूलर डिजनरेशन (एएमडी) नाम की समस्या रेटिना से संबंधित एक बीमारी है। यह आंख की बीमारी तब होती है, जब मैक्युला में परिवर्तन होने लगते हैं। मैक्युला रेटिना का एक छोटा हिस्सा होता है और यह आंख की बिल्कुल अंदरूनी परत पर मौजूद रहता है। मैक्यूलर डीजनरेशन की समस्या आमतौर पर तब होती है, जब मैक्युला क्षतिग्रस्त हो जाता है। एएमडी के कारण रोगी अपनी एक केंद्रीय दृष्टि खो देता है। इसके कारण व्यक्ति ठीक से वस्तुओं को नहीं देख पाता है, चाहे वह वस्तु उस व्यक्ति के करीब हो या दूर, लेकिन इस दौरान रोगी की परिधीय (पक्ष) दृष्टि सामान्य रहती है।

उदाहरण के लिए कल्पना कीजिए कि आप एक ब्लैकबोर्ड को देख रहे हैं। इस दौरान आप यह तो देख सकते हैं कि बोर्ड की परिधि पर क्या लिखा है, लेकिन आप मध्य भाग में क्या लिखा हुआ है यह नहीं समझ पायेंगे।

Macular Degeneration

मैक्यूलर डीजनरेशन (एएमडी) की बीमारी 50 वर्ष से अधिक आयु के वयस्कों में दृष्टि के गंभीर नुकसान का प्रमुख कारण होती है। इसके अलावा महिलाओं में पुरुषों की तुलना में पहले एएमडी की शिकायत देखने को मिलती हैं, क्योंकि यह बीमारी एक व्यक्ति में विशेष उम्र में विकसित होती है, इसे ही उम्र से संबंधित मैक्यूलर डीजनरेशन (एएमडी)  के रूप में जाना जाता है।

ये भी पढ़ें: बुजुर्गों में अच्छी आंखों की देखभाल के लिए एक संपूर्ण गाइड

AMD केंद्रीय दृष्टि के नुकसान के लिए उत्तरदायी होता है और यह दो रूपों में हो सकता है: सूखा” (एट्रोफिक) और गीला” (एक्सयूडेटिव)।

मैक्यूलर डीजनरेशन (एएमडी) का सूखा” (एट्रोफिक)  रूप सबसे आम है, जबकि सूखे एएमडी के लिए कोई विशेष उपचार नहीं है। कई अध्ययनों से यह पता लगाया गया है कि विटामिन की खुराक और एक सम्पूर्ण आहार (सब्जियों, फलों, साबुत अनाज और दैनिक वसा की दैनिक खपत, मछली, पोल्ट्री, सेम और अंडे का साप्ताहिक सेवन) की मदद से भी एएमडी के सूखे रुप को ठीक किया जा सकता है। इस समस्या से बचने के लिए धूम्रपान भी छोड़ना पड़ेगा। एएमडी के गीला” (एक्सयूडेटिव) रुप का पता यदि रोगी को समय रहते लग जाता है, तो इसका उपचार एंटी-वीईजीएफ दवाओं से और अंतःकोशिकीय इंजेक्शन से संभव है।

एएमडी के लक्षण – AMD Ke Lakshan

प्रारंभिक चरण में एएमडी के कोई प्रत्यक्ष संकेत नहीं होते हैं और जब तक यह दोनों आँखों को प्रभावित नहीं करता है। तब तक इस बीमारी की पहचान भी नहीं की जा सकती है। मैक्युलर डिजनरेशन का पहला लक्षण आमतौर पर धुंधली दृष्टि ही है। 

एएमडी के लक्षणों में शामिल हैं:

  •   वस्तुओं का धुंधला दिखाई देना
  •   अक्षरों को पढ़ने में कठिनाई होना
  •   दृष्टि में फोकस की कमी।
  •   दृष्टि के केंद्र में अंधेरें की उपस्थिति

यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो जल्द से जल्द एक नेत्र चिकित्सक को दिखायें।

एएमडी के कारण – AMD Ke Kaaran

जैसा कि पहले बताया गया है कि 40 से अधिक वाले वयस्कों में एएमडी की शिकायत आम होती है, परंतु यह 60 वर्ष से अधिक आयु के वयस्कों में गंभीर दृष्टि हानि का प्रमुख कारण बन जाती है। मैक्युलर डिजनरेशन की समस्या वंशानुगत हो सकती है। इसका मतलब यह है कि यह बीमारी माता-पिता से बच्चों में आ सकती है। यदि आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है , तो आपको भी यह बीमारी हो सकती है। इस जोखिम से बचने के लिए अपने नेत्र चिकित्सक से सलाह लें।

एएमडी के अन्य कारण-

  • मोटापा
  • धूम्रपान की आदत
  • 50 वर्ष से अधिक आयु
  • उच्च रक्तचाप की शिकायत
  • एएमडी का पारिवारिक इतिहास है।
  • हृदय रोगी होना एएमडी के लिए एक और जोखिम कारक है।

उम्र से संबंधित मैक्यूलर डिजनरेशन के प्रकार – Umar Se Sambhandhit Macular Degeneration Ke Prakaar

Macular Degeneration
आयु से संबंधित मैक्यूलर डिजनरेशन के प्रकार: EyeMantra

ड्राई एएमडी (Dry AMD) 

मैक्युलर डिजनरेशन के सूखेंरूप की पहचान मैक्युला में येलो डिपॉजिट, ड्रूसन, की उपस्थिति से होती है। कुछ छोटे ड्रून्स दृष्टि को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकते हैं, परंतु जैसे ही वह संख्या और आकार में बढ़ने लगते है। वह दृष्टि के लिए हानिकारक साबित होने लगते है। इस रुप के शुरुआती चरण में मैक्युला में कोशिकाओं के प्रकाश-संवेदी परत में पतलापन आने लगता है। यह ऊतकों की मृत्यु का कारण बनती है। एएमडी के एट्रोफिक रूप में रोगियों को उनकी दृष्टि के केंद्र में ब्लाइंड धब्बें नजर आने लगते हैं, और एएमडी के एडवांस चरण में मरीज अपनी केंद्रीय दृष्टि खो देता हैं।

वेट एएमडी (Wet AMD) 

मैक्यूलर डिजनरेशन का “गीला” रूप मैक्युला के नीचे कोरॉइड से असामान्य रक्त वाहिकाओं के बढ़ने के कारण होता है। इसे कोरॉइडल नियोवास्कुलराइजेशन कहा जाता है। ये रक्त वाहिकाएं रेटिना में रक्त और तरल पदार्थ का रिसाव करती हैं, जिससे  दृष्टि का नुकसान होने लगता है और रोगी को सीधी रेखाएं टेढ़ी और लहराती हुई दिखने लगत हैं। इसके साथ-साथ रोगी को अंधे धब्बे और केंद्रीय दृष्टि का नुकसान होता है। ये असामान्य रक्त वाहिकाएं और उनमें से रक्तस्राव अंततः एक निशान बन जाता है, जिससे केंद्रीय दृष्टि का स्थायी नुकसान होता है।

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, अधिकांश रोगियों में इस बीमारी का सूखा रूप होता है और इसके कारण अक्सर रोगी अपनी केंद्रीय दृष्टि का कुछ भाग खो देते हैं फिर भी हर किसी को यह ध्यान रखना चाहिए, कि मैक्यूलर डिजनरेशन के सूखे रूप से गीला एएमडी भी हो सकता है। यद्यपि केवल 10% मैकुलर डिजनरेशन वाले लोगों में एएमडी का गीला रूप विकसित होता है।

मैक्युलर डिजनरेशन से पीड़ित रोगियों को सबसे अच्छे नेत्र चिकित्सक से नियमित नेत्र जांच करवाने की आवश्यकता होती है ।

उम्र से संबंधित मैक्यूलर डिजनरेशन का निदान – Umar Se Sambhandhit Macular Degeneration Ka Nidaan

एएमडी का पता नियमित नेत्र परीक्षण से लगाया जा सकता है। एक अच्छा नेत्र रोग विशेषज्ञ आसानी से आंखों के टेस्ट के दौरान रेटिना के नीचे छोटे पीले जमाव या रंगद्रव्य की उपस्थिति का पता लगाने में सक्षम होता है। नेत्र रोग विशेषज्ञ टेस्ट के दौरान आपसे एक एम्सलर ग्रिड को देखने के लिए भी कह सकता है। यह ग्रिड चेकरबोर्ड जैसी दिखने वाली सीधी रेखाओं का एक पैटर्न होता है। यदि सीधी रेखाओं में से कोई भी आपको लहराती हुई दिखाई देती है, या आप कुछ लाइनों को साफ तौर पर देख नहीं पाते हैं, तो यह मैक्युलर डिजनरेशन के लक्षण हो सकते हैं।

Macular Degeneration
एम्सलर ग्रिड का पता लगाने के लिए उम्र से संबंधित मैक्युलर डिजनरेशन: EyeMantra

यदि आपका डॉक्टर एएमडी की पुष्टि कर देता है, तो आपको एंजियोग्राफी या ऑप्टिकल कोहेरेंस टोमोग्राफी (ओसीटी) की आवश्यकता पड़ सकती है। एंजियोग्राफी में एक डाई को हाथ की नस में इंजेक्ट किया जाता है। जब यह डाई आंख तक पहुंचती है और आपके रेटिना की रक्त वाहिकाओं से होकर बहती है, तो इसकी तस्वीरें खींची जाती हैं। इसकी मदद से यह पता लगाया जाता है कि कोई नई बनावट तो विकसित नही हुई।

मैक्युला में यदि द्रव या रक्त का रिसाव हो रहा होता है, तो यह तस्वीरें उनकी सटीक लोकेशन और प्रकार को दर्शाने कार्य करेगी। OCT डाई के उपयोग के बिना रेटिना के नीचे द्रव या रक्त का पता लगा सकता है। एएमडी का जल्दी पता लगाना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि एएमडी के ऐसे उपचार उपलब्ध हैं जो इस रोग को गंभीर होने से रोक सकते है।

एएमडी का उपचार – AMD Ka Upchaar

वर्तमान में सूखीमैक्यूलर डिजनरेशन के लिए कोई इलाज नहीं है और केंद्रीय दृष्टि में होने वाले नुकसान को भी फिर से बहाल नहीं किया जा सकता है, परंतु  इस दौरान यदि इस रोग का पता समय रहते चल जाए तो इसका उपचार किया जा सकता है। यह उपचार इस रोग को गंभीर रुप लेने सो रोक सकता है। यह रोग की प्रगति को काफी धीमा भी कर सकता है। इसके अलावा उपलब्ध उपचार के विकल्प इस प्रकार हैं:

  • एंटी-एंजियोजेनेसिस दवाएं (Anti-Angiogenesis Drugs) – ये दवाएं (Aflibercept, Avastin, Eyelet, Lucentis, Macugen) नई रक्त वाहिकाओं को विकसित करने से रोकती हैं और आंख के भीतर असामान्य वाहिकाओं से रिसाव को रोकती हैं जो गीली मैक्यूलर डिजनरेशन कारण बनती हैं। इस उपचार से इस बीमारी के उपचार में एक बड़ा बदलाव आया है। इस उपचार की  मदद से कई रोगियों ने वास्तव में अपनी खोई हुई दृष्टि वापस पाई है। उपचार के लिए फॉलो-अप की आवश्यकता हो सकती है।
  • लेजर थेरेपी (Laser Therapy)-  इस उपचार में सक्रिय रूप से बढ़ती असामान्य रक्त वाहिकाओं को नष्ट करने का कार्य किया जाता है। इसमें उच्च-ऊर्जा लेजर प्रकाश का उपयोग से असामान्य  रक्त वाहिकाओं को नष्ट करने का कार्य किया जाता है।
  • फोटोडायनामिक लेजर थेरेपी (Photodynamic Laser Therapy)- यह दो-चरणीय उपचार है। इसमें एक हल्की-संवेदनशील दवा (विसुडीने) शामिल है। जिसका उपयोग असामान्य रक्त वाहिकाओं को क्षतिग्रस्त करने लिए किया जाता है। आपका नेत्र चिकित्सक इस उपचार के दौरान आंख में असामान्य रक्त वाहिकाओं द्वारा अवशोषित होने के लिए एक दवा को इंजेक्ट करता है फिर उसे दवा को सक्रिय करने के लिए एक कोल्ड लेजर को आंखों में चमकाता और असामान्य रक्त वाहिकाओं को क्षतिग्रस्त कर देता है।
  • कम दृष्टि एड्स (Low Vision Aids)- इन उपकरणों में विशेष लेंस व इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम शामिल होता हैं। यह उपकरण आस-पास की वस्तुओं के बढ़े हुए चित्र बनाने में मदद करते हैं। यह उपकरण उन लोगों की मदद करते हैं जिनकी दृष्टि एएमडी से खो गई है। यह उन्हें अपनी शेष दृष्टि का अधिकतम लाभ उठाने में मदद करता है।

मैक्यूलर डिजनरेशन के लिए कुछ नए उपचारों की खोज भी हो रही है और वह सब अभी उपचार अभी प्रायोगिक चरण में हैं।

  • सब-मैक्यूलर सर्जरी (Sub-Macular Surgery)- असामान्य रक्त वाहिकाओं या रक्त को खत्म करने के लिए की जाने वाली सर्जरी।
  • रेटिनल ट्रांसलोकेशन (Retinal Translocation)- इसके अंतर्गत असामान्य रक्त वाहिकाओं को नष्ट कर दिया जाता है, जो सीधे मैक्युला के केंद्र के नीचे स्थित होते हैं, जहां एक लेजर बीम को सर्जरी के साथ सुरक्षित रूप से नहीं रखा जा सकता है। सर्जरी के दौरान, मैक्युलर सेंटर को असामान्य रक्त वाहिकाओं से रेटिना के स्वस्थ क्षेत्र में घुमाया जाता है। यह निशान ऊतक के गठन को रोकने और रेटिना को नुकसान पहुंचाने से रोकता है। एक बार असामान्य रक्त वाहिकाओं से दूर चले जाने के बाद, लेजर उपचार का उपयोग असामान्य रक्त वाहिकाओं को हटाने के लिए किया जाता है।

हालांकि, शोधकर्ताओं और डॉक्टरों का मानना ​​है कि कम पोषण वाला आहार और सूखी एएमडी के बीच एक संबंध है। आहार और जीवन शैली में कुछ बदलाव करना और नेत्र से संबंधित पोषण लेना दृष्टि की हानि को धीमा कर सकता है।

गीलाएएमडी तब होता है। जब तरल पदार्थ मैक्युला के जरिए नवगठित रक्त वाहिकाओं से रिसने लगता है। यह रिसाव केंद्रीय दृष्टि को धुंधला कर देता है। इसके कारण दृष्टि का नुकसान तेजी से और गंभीर रुप में होने लगता है। यदि इसका पता जल्दी लग जाए, तो गीले एएमडी को एंटी-वीईजीएफ दवाओं की मदद से ठीक  किया जा सकता है।

एएमडी के बचाव – AMD Ke Bachaav

शोधकर्ताओं ने एएमडी सहित कुछ नेत्र रोगों के जोखिमों को कम करने के लिए ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन, विटामिन सी, विटामिन ई और जस्ता जैसे पोषक तत्वों के सेवन का उपाय साझा किया है ।

विटामिन- कई अध्ययनों से यह पता चला है कि कुछ व्यक्तियों के लिए विटामिन सी, , बीटा-कैरोटीन, जस्ता और तांबा दृष्टि हानि के जोखिमों को कम करने में सहायक है। एक अध्ययन के माध्यम से यह देखने को मिला है कि पूरक आहार में अन्य विटामिन और खनिजों को जोड़ने से परिणाम  सकारात्मक आते है। सबसे पहले इसमें ओमेगा -3 फैटी एसिड (मछली का तेल) जोड़ा गया था। इसके बाद, दो कैरोटेनॉयड्स, ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन का संयोजन किया था। ये आमतौर पर पत्तेदार हरी सब्जियों और समृद्ध रंग के फलों और सब्जियों में पाए जाते हैं। अनुसंधान के निष्कर्ष से पता चला कि:

  • बीटा-कैरोटीन ने एएमडी की प्रगति के जोखिम को कम नहीं किया।
  • ओमेगा -3 जोड़ने से एएमडी की प्रगति का जोखिम कम नहीं हुआ।
  • सामान्य तौर पर, बीटा-कैरोटीन के बजाय ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन लेने वाले रोगियों को अधिक लाभ मिला।

आखिरी सुझाव 

बहुत ही कम लोग होते है जो AMD से अपनी  पूरी दृष्टि खोते हैं। भले ही उनके पास खराब केंद्रीय दृष्टि होती है, लेकिन फिर भी वह अधिकांश दैनिक गतिविधियां आसानी से कर लेते हैं।

मैक्यूलर डिजनरेशन  का गीला रूप अधूरी दृष्टि हानि का एक प्रमुख कारण है। यदि आपकी दोनों आंखें प्रभावित होती हैं, तो आप अपने जीवन की गुणवत्ता में उल्लेखनीय कमी का अनुभव कर सकते हैं।

सूखी एएमडी एक बहुत अधिक सामान्य रूप है, परंतु दुर्भाग्य से गीले मैक्यूलर डिजनरेशन के लिए इलाज के बाद भी इसके दोबारा होने की संभावनाए होती है। इसलिए एएमडी वाले व्यक्तियों को नियमित रूप से अपनी दृष्टि का परीक्षण करवाना चाहिए और अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ की सलाह का पालन करना चाहिए। समय पर उपचार आपकी दृष्टि हानि की दर को धीमा कर सकता और इससे आपकी दृष्टि में सुधार भी हो सकता है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

यदि आपके या आपके करीबी लोगों में उपरोक्त लक्षण हैं, तो अभी देर नही हुई है। आज ही Eyemantra पर जाएं और अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए +91-9711118331 पर कॉल करें या हमें eyemantra1@gmail.com पर मेल करें। हमारी अन्य सेवाओं में ग्लूकोमा सर्जरी, स्पेक्स रिमूवल, कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम आदि शामिल हैं।

संबंधित आलेख:

प्रदूषण में आँखों की देखभाल के लिए सर्वश्रेष्ठ सुझाव
आँख का दर्द, लक्षण, निदान और उपचार

Make An Appointment

Free Tele-Consultation

Book Appointment or Video Consultation online with top eye doctors